शनिवार, 11 सितंबर 2010

फिर भी कॉमनवेल्थ को दिल्लीवासी झेल

भले मयस्सर हो नहीं लवण-लाकड़ी-तेल
फिर भी कॉमनवेल्थ को दिल्लीवासी झेल
दिल्लीवासी झेल, खेल का खोटा सिक्का
उदर पूर्ति में फेल मगर मस्तक पर टिक्का
दिव्यदृष्टि नित धार गुलामी-छवि उर अंतर
लवण-लाकड़ी-तेल भले हो नहीं मयस्सर

1 टिप्पणी:

रामपुरी सम्राट श्री राम लाल ने कहा…

हमारा एक छोटा सा प्रयास है इन्टरनेट पर उपलब्ध हास्य व्यंग लेखो को एक साथ एक जगह पर उपलब्ध करवाने का,

सभी इच्छुक ब्लोगर्स आमंत्रित है


हास्य व्यंग ब्लॉगर्स असोसिएशन सदस्य बने

यह मैं हूं

यह मैं हूं