मंगलवार, 22 जून 2010

तत्व प्रज्वनशील तुरत गडकरी हटाएं

अगर भाजपा चाहती 'गठबंधन' भरपूर
राखे मोदी-वरुण को वह बिहार से दूर
वह बिहार से दूर, नियम नीतीश बताएं
तत्व प्रज्वनशील तुरत गडकरी हटाएं
दिव्यदृष्टि बड़बोलों को हरहाल भगाना
नो-एन्ट्री का बोर्ड भले ही पड़े लगाना

शनिवार, 19 जून 2010

कब तक रहे कुंवारा मैया तेरा पुत्तर

दौड़-धूप करते बरस बीत गए चालीस
नजर नहीं आई मगर कन्या एक नफीस
कन्या एक नफीस, टीस मन में है भारी
तनहाई में चले किस तरह दुनियादारी?
दिव्यदृष्टि सोनिया भवानी दीजे उत्तर
कब तक रहे कुंवारा मैया तेरा पुत्तर

मोदी जी ले जाइये वापस पांच करोड़

दिव्यदृष्टि
वोट देख नीतीश के उर में उठी मरोड़
मोदी जी ले जाइये वापस पांच करोड़
वापस पांच करोड़ देखिये तेवर रूखा
नहीं चाहिए मदद बाढ़ आये या सूखा
दिव्यदृष्टि 'पार्टनर' उचारें बात विषैली
उन्हें सुहाये प्यारे केवल सेकुलर थैली

सोमवार, 14 जून 2010

माना जाता अतिथि को भारत में भगवान

माना जाता अतिथि को भारत में भगवान
एंडरसन जी का अत: पार्थ किए सम्मान
पार्थ किए सम्मान भक्ति का सूत टटोला
तब होकर मजबूर सजाया उड़न खटोला
दिव्यदृष्टि उड़ गया फुर्र शव का व्यापारी
किंतु रही महफूज 'गैसमय' नीति हमारी

शनिवार, 12 जून 2010

रोये बेबस बाप देख नयनों का फूला

शैशव में जो आंख के तारे के मानिंद
वही जवानी में बना पुत्र मोतियाबिन्द
पुत्र मोतियाबिन्द 'मान-मर्यादा' भूला
रोये बेबस बाप देख नयनों का फूला
दिव्यदृष्टि फरजंद सताए सांझ-सकारे
अत: प्रशासन उसे मौत के घाट उतारे

शुक्रवार, 11 जून 2010

अर्जुन दादा बोलते थमकर सदा सटीक

अर्जुन दादा बोलते थमकर सदा सटीक
केवल अपने कथ्य ही मानें हरदम ठीक
मानें हरदम ठीक, नजरिया निजी अनूठा
'साथी' जो कुछ कहें उसे बतलाएं झूठा
दिव्यदृष्टि इसलिए 'सही' अवसर बोलेंगे
एंडरसन के 'अतिथि' भेद सगरे खोलेंगे

गुरुवार, 10 जून 2010

भारत में आतंक का हामी पाकिस्तान

यह सच्चाई दोस्तो जाने सकल जहान
भारत में आतंक का हामी पाकिस्तान
हामी पाकिस्तान बीज कटुता के बोए
उग्रवाद की फसल बढ़ा मस्ती में सोए
दिव्यदृष्टि 'सींचे' उसको आईएसआई
जाने सकल जहान दोस्तो यह सच्चाई।

बुधवार, 9 जून 2010

पुलिस तक्षकों में बढ़ा काम वासना रोग

रक्षक की वर्दी पहन भक्षक बनते लोग
पुलिस तक्षकों में बढ़ा काम वासना रोग
काम वासना रोग, भोग में वृद्धि निरन्तर
पद की गरिमा घटी हुई निष्ठा छू-मंतर
दिव्यदृष्टि कद-मद में करते गुंडागर्दी
भक्षक बनते लोग पहन रक्षक की वर्दी

मंगलवार, 8 जून 2010

तुलसी बाबा कह गए दोषी नहीं समर्थ

तुलसी बाबा कह गए दोषी नहीं समर्थ
एंडरसन पर इसलिए शोर मचाना व्यर्थ
शोर मचाना व्यर्थ इंडियन बकरी खाए
फिर अमेरिकी बाघ रोज हम पर गुर्राए
दिव्यदृष्टि चाहे वह कर दे खून खराबा
दोषी नहीं समर्थ कह गए तुलसी बाबा

सोमवार, 7 जून 2010

निगल हजारों जिन्दगी गैस गई भोपाल

निगल हजारों जिन्दगी गैस गई भोपाल
कितनों के जन्मे कई लूले-लंगड़े लाल
लूले-लंगड़े लाल, दर्द से भर कर आहें
रहे मांगते 'न्याय' नित्य फैला कर बाहें
दिव्यदृष्टि इस भांति सदी बीती चौथाई
किन्तु दंड की गूंज नहीं पड़ रही सुनाई

शनिवार, 5 जून 2010

बेमतलब अखबार उन्हें संलिप्त बताएं

कामधेनु-पय से धुला है सारा परिवार
खूब सफाई दे रहे जमकर शरद पवार
जमकर शरद पवार इरादा नेक जताएं
बेमतलब अखबार उन्हें संलिप्त बताएं
दिव्यदृष्टि जिसके दम से सेंटर में सत्ता
आईपीएल में चाहेगा वह क्यों 'पत्ता'

बुधवार, 2 जून 2010

लालमहल को रौंद कर विहँस रहा तृणमूल

लालमहल को रौंद कर विहँस रहा तृणमूल
लेफ्ट हैंड में जा चुभा सख्त-सियासी-सूल
सख्त-सियासी-सूल, 'पीर' बढ़ रही निरंतर
चली कोलकाता में ममता लोकल जमकर
दिव्यदृष्टि बुद्धा बाबा बिलखें पल-पल को
विहँस रहा तृणमूल रौंद कर लालमहल को

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव