मंगलवार, 30 जून 2009

खड़ी करें मनमोहन उसकी फौरन खटिया

सीबीआई मानती जिसको नटवर लाल
उसे बचाने के लिए मंत्री बना दलाल
मंत्री बना दलाल, फोन करके धमकाए
उस पर ऐसा दोष नेक जज स्वयं लगाए
दिव्यदृष्टि की राय बड़ी ये हरकत घटिया
खड़ी करें मनमोहन उसकी फौरन खटिया।

शुक्रवार, 26 जून 2009

बादशाह वह पॉप का छोड़ गया अब सेज

जिसकी धुन पर दिलों में मचे गुदगुदी तेज
बादशाह वह पॉप का छोड़ गया अब सेज
छोड़ गया अब सेज थमी पांवों की थिरकन
क्रूर काल ने छीनी उसके दिल की धड़कन
दिव्यदृष्टि खामोश हो गया गायक गुनिया
जक्सन को दे रही आज श्रद्धांजलि दुनिया

गुरुवार, 25 जून 2009

पढ़ने-लिखने में करें समय न बच्चे नष्ट

पढ़ने-लिखने में करें समय न बच्चे नष्ट
दसवीं में तो और ही होता उनको कष्ट
होता उनको कष्ट, साफ मंत्री जी कहते
नाहक माता-पिता मुफ्त टेंशन में रहते
दिव्यदृष्टि दे रहे अत: सिब्बल जी नारा
टेंथ बोर्ड से कर लें सब स्कूल किनारा

मंगलवार, 23 जून 2009

गत वर्षों की भांति नहीं हमको बहकाना

मौसम वालों ने बड़ी भिजवाई गुड न्यूज
हो जाएगी तपन सब शुक्रवार को फ्यूज
शुक्रवार को फ्यूज, झमाझम बरसे पानी
खेत, बाग, वन सभी भिगोयें बरखा रानी
दिव्यदृष्टि हे मॉनसून जी वचन निभाना
गत वर्षों की भांति नहीं हमको बहकाना

मॉनसून मनहूस न लाए फिर भी सावन

मनमोहन के शीश पर आया ज्यों ही ताज
मौसम का होने लगा त्यों ही गर्म मिजाज
त्यों ही गर्म मिजाज निरंतर तपते तन-मन
मॉनसून मनहूस न लाए फिर भी सावन
दिव्यदृष्टि फिर अल नीनो की फैली माया
होगी चौपट फसल बढ़ी सूखे की छाया

शुक्रवार, 19 जून 2009

राहुल बाबा बढ़े निरन्तर आयु तुम्हारी

लोग जयंती पर खड़े लिए मिठाई केक
देने को शुभकामना लेकर नीयत नेक
लेकर नीयत नेक, गा रहे कोरस भारी
राहुल बाबा बढ़े निरन्तर आयु तुम्हारी
दिव्यदृष्टि सब शुभचिंतक बोलें बौराये
मगर बर्थडे बॉय देश में नजर न आये

बुधवार, 17 जून 2009

ग्लोबल मंदी से रही जो दुनिया बेहाल

ग्लोबल मंदी से रही जो दुनिया बेहाल
होने वाली है वही जल्दी ही खुशहाल
जल्दी ही खुशहाल विदेशी बैंक बताए
नहीं नौकरी का संकट अब कहीं सताए
दिव्यदृष्टि चहुँओर बढ़े जमकर सरमाया
नज़र न आए भूले से छंटनी की छाया

ओबामा जी जगत के जाहिर मक्खीमार

दिखा रहा है मीडिया पढ़ा रहा अखबार
ओबामा जी जगत के जाहिर मक्खीमार
जाहिर मक्खीमार, उन्हें जो दुष्ट सताए
मक्खी की मानिंद जिंदगी वही गंवाए
दिव्यदृष्टि अब जो भी हठधर्मी धारेंगे
दारोगा जी उन्हें समझ मक्खी मारेंगे

मंगलवार, 16 जून 2009

रोज पड़े डाका भले आए दिन हो लूट

ले-देकर मुजरिम यहां जाएं फौरन छूट
रोज पड़े डाका भले आए दिन हो लूट
आए दिन हो लूट, जान से प्रहरी जाएं
शीला रानी किंतु जीत का जश्न मनाएं
दिव्यदृष्टि महफूज नहीं हैं दिल्ली वाले
मिलीभगत में मस्त मगर बैठे रखवाले

लेकर लल्लू टीम गए ही थे क्यों भैया

आईपीएल में हुए प्लेयर सब हलकान
इसीलिए इंग्लैंड में पिटे सभी बलवान
पिटे सभी बलवान दर्द से दूखी पसली
यही हार का मित्रो दीखे कारण असली
दिव्यदृष्टि था पता अगर डूबेगी नैया
लेकर लल्लू टीम गए ही थे क्यों भैया

सोमवार, 15 जून 2009

देना पड़ा 'लगान' लुटाकर लौटे खोखा

धोनी के उलटे पड़े सभी क्रिकेटिया दांव
नहीं तनिक भी जम सके टी-20 में पांव
टी-20 में पांव, हाथ की हटी हरारत
खूब पिटे बलवान हार की लिखी इबारत
दिव्यदृष्टि इस बार दे गई किस्मत धोखा
देना पड़ा 'लगान' लुटाकर लौटे खोखा

शनिवार, 13 जून 2009

समझ न आएं अदाकारियां ये धोनी की

नित नया रूप , नया रंग वो बदलते हैं।
कभी शऊर, कभी ढंग वो बदलते हैं।।
अजीब आरजू, हसरत अजीब है उनकी,
जो शख्स करता उन्हें तंग वो बदलते हैं।
समझ न आएं अदाकारियां ये धोनी की,
पहले मैदान में गिरते हैं फिर सम्हलते हैं।
दिखा न ताव जरा दिव्यदृष्टि तू इतना,
नर्मजोशी से हक में जंग वो बदलते हैं।

शुक्रवार, 12 जून 2009

बीजेपी की हार से दुखी बड़े जसवंत

खतरे में है करिअर भला करें भगवंत
बीजेपी की हार से दुखी बड़े जसवंत
दुखी बड़े जसवंत, दर्द से फाटे छाती
देख दुर्दशा अपनी भेजी कड़वी पाती
दिव्यदृष्टि हे 'नाथ दीजिए फौरन उत्तर
क्योंकर पाये पद, पावर पंजाबी पुत्तर

गुरुवार, 11 जून 2009

सचमुच दिल्ली पुलिस ग्रेट है मेरे भाई

भले बनें डडवाल जी आप विवेकानंद
मगर महकमे में मजा मारें रिश्वतचन्द
मारें रिश्वतचन्द, 'मंथली' मोटी ऐंठें
बीट, डिवीजन में सब भ्रष्टाचारी बैठें
दिव्यदृष्टि दो नंबर की बढ़ रही कमाई
सचमुच दिल्ली पुलिस ग्रेट है मेरे भाई

बुधवार, 10 जून 2009

जींस टॉप छोड़ें कुडि़यां सब साड़ी पहनें

महिला कालिज ने किया है जारी अहकाम
सारी टीचर, गर्ल्स यह सुनें दिलों को थाम
सुनें दिलों को थाम, तजें मोबाइल, गहने
जींस टॉप छोड़ें कुडि़यां सब साड़ी पहनें
बिन बाजू ब्लाउज पहने जो टीचर नारी
लगे कानपुर में उस पर जुर्माना भारी
त्याग तुगलकी फैसला ले सख्ती से काम
शासन गुण्डों पर कसे फौरन तेज लगाम
फौरन तेज लगाम, दिखाए ताकत असली
तुरत मनचलों की तोड़े वह हड्डी-पसली
दिव्यदृष्टि खामोश बैठ मत हाथ हिलाए
करके उनको कैद जेल की हवा खिलाए

गांधी जी के चेले कतई करें न हमला

कंगारू काटें भले विदेशियों के कान
किंतु रहें खामोश सब परदेसी मेहमान
परदेसी मेहमान, कहे सरकारी अमला
गांधी जी के चेले कतई करें न हमला
दिव्यदृष्टि बेशक वे चाकू छुरियां खाएं
फिर भी वे हथियार हाथ में नहीं उठाएं

साथ सहवाग के हुई जो भी,

रह गया बंद बैग में बल्ला,
किट उन्हें बेवजह पड़ी ढोनी।
चौधरी मुल्क आ गए वापस,
शक्ल-सूरत लिए हुए रोनी।।
दर्द कंधे से दिल में जा पहुंचा,
नीर नयनों का हो गया नोनी।
साथ सहवाग के हुई जो भी,
है बड़ी दर्दनाक वो होनी।
लोग बदनाम कर रहे नाहक,
खेल का जानते धरम धोनी।
दिव्यदृष्टि हया सलामत रख,
गर तुझे है नहीं शरम खोनी।

मंगलवार, 9 जून 2009

कंगारू अब क्रिकेट में नहीं रहे बेजोड़

कंगारू अब क्रिकेट में नहीं रहे बेजोड़
उनको नींबू की तरह लंका गया निचोड़
लंका गया निचोड़, होड़ से बाहर आए
रिकी पॉन्टिंग वापस लौटे मुंह लटकाए
दिव्यदृष्टि जो बहुत मारते थे कल शेखी
आज उन्हीं की दशा न उनसे जाये देखी

रविवार, 7 जून 2009

पांच दशक तक मंच पर छाये रहे हबीब

पांच दशक तक मंच पर छाये रहे हबीब
पंच तत्व में ले गया आखिर उन्हें नसीब
आखिर उन्हें नसीब, हो गया पूरा नाटक
अंतिम पर्दा गिरा बंद जीवन का फाटक
दिव्यदृष्टि की दुआ यही जन्नत वह पायें
तन-मन से तनवीर थियेटर नया सजायें।

शुक्रवार, 5 जून 2009

सिसकें लालू-राबड़ी छूटी उनकी रेल

सिसकें लालू-राबड़ी छूटी उनकी रेल
रोजाना घटता उधर लालटेन का तेल
लालटेन का तेल रास्ता कौन दिखाए
पलभर में दामाद गगन से भू पर आए
दिव्यदृष्टि फिर रहे भरे आखों में पानी
बनें नहीं हमदर्द मगर सोनिया भवानी

गुरुवार, 4 जून 2009

बाबू हिन्दुस्तान के काहिल, लापरवाह

बाबू हिन्दुस्तान के काहिल, लापरवाह
रिश्वतखोरी की नहीं उनकी कोई थाह
उनकी कोई थाह, घूस जिससे ना पाएं
भ्रष्टाचार शिरोमणि उसको खूब सताएं
दिव्यदृष्टि बे-नोट रहेगी जो भी फाइल
नौ दिन में वह सरकेगी बस ढाई माइल

देवि सोनिया ने किया मीरा पर उपकार

देवि सोनिया ने किया मीरा पर उपकार
महिला स्पीकर सदन पाया पहली बार
पाया पहली बार, कह रहे लोग सयाने
लोक सभा में गूंजेंगे सुर सुखद सुहाने
दिव्यदृष्टि जो लोग दिखाएंगे अब हेठी
उन्हें दनादन दंडित करे दलित की बेटी

सोमवार, 1 जून 2009

खाई प्रैक्टिस मैच में टीम इंडिया मात

कटी पराये देश में जाग-जागकर रात
खाई प्रैक्टिस मैच में टीम इंडिया मात
टीम इंडिया मात, भात भत्ता नहिं भाये
प्रथम कौर में ही मक्खी धोनी जी पाये
दिव्यदृष्टि आगाज देख आ रहा पसीना
क्या होगा अंजाम अभी तो शेष महीना

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव