सोमवार, 31 अगस्त 2009

राजनाथ के साथ 'राम' का भजन कीजिए

पीएम बनने का नहीं दीख रहा अब चांस
अत: आडवाणी तजें पॉलिटिक्स का डांस
पॉलिटिक्स का डांस, गेरुआ करके धारण
ग्रहण करें 'संन्यास' तभी हो कष्ट निवारण
दिव्यदृष्टि अनमोल मशवरा 'मुफ्त' लीजिए
राजनाथ के साथ 'राम' का भजन कीजिए

शनिवार, 29 अगस्त 2009

बहुत भाजपा में बढ़ी जब जूतम पैजार

बहुत भाजपा में बढ़ी जब जूतम पैजार
चिंता में घुलने लगा तभी संघ परिवार
तभी संघ परिवार भागवत दिल्ली आए
स्वयंसेवकों को जमकर उपदेश सुनाए
दिव्यदृष्टि जो भी नेता बन रहा समस्या
वही छोड़ दे कुर्सी जाकर करे तपस्या

शुक्रवार, 28 अगस्त 2009

बसपा को बदनाम करे चंदे का धंधा

चंदे का धंधा करे बसपा को बदनाम
माया दीदी ने दिया 'वर्कर' को पैगाम
वर्कर को पैगाम, बर्थडे भले मनाओ
पर गरीब इंजीनियरों को नहीं सताओ
दाताओं का दिव्यदृष्टि देखो दृढ़ कंधा
बसपा को बदनाम करे चंदे का धंधा

गुरुवार, 27 अगस्त 2009

मान गए 'मी लॉर्ड' करें जाहिर प्रॉपर्टी

ब्यौरा दे सम्पत्ति का जज शैलेन्द्र कुमार
पेश कर दिए देश में अपने उच्च विचार
अपने उच्च विचार, नेक है जीवन सादा
यह भारत की नीति यही इसकी मर्यादा
दिव्यदृष्टि इसलिए छोड़कर नीयत डर्टी
मान गए 'मी लॉर्ड' करें जाहिर प्रॉपर्टी

बुधवार, 26 अगस्त 2009

बीजेपी में बेसुरा बजा बगावत राग

बीजेपी में बेसुरा बजा बगावत राग
देतीं ताल वसुंधरा जस्सू गाएं फाग
जस्सू गाएं फाग, भैरवी छेड़ें शौरी
लिए नई करताल नाचते हैं खंडूरी
दिव्यदृष्टि सारे विद्रोही 'गारी' गाएं
देख दुर्दशा राजनाथ भारी पछताएं

सोये सुख की सेज सजन के संग किशोरी

चीखें नाहक नित्यप्रति चंपू चिरकुट लाल
बिजली का है हिन्द में कतई नहीं अकाल
कतई नहीं अकाल, भरी हो अगर तिजोरी
सोये सुख की सेज सजन के संग किशोरी
दिव्यदृष्टि मनमोहन लें 'पावर-फुल' भीखें
चंपू चिरकुट लाल नित्यप्रति नाहक चीखें

मंगलवार, 25 अगस्त 2009

फौरन कटी पतंग की संघ थाम ले डोर

देख भाजपा की दशा शौरी करते शोर
फौरन कटी पतंग की संघ थाम ले डोर
संघ थाम ले डोर, जोर का मारे झटका
मठाधीश जो बने उसी का फोड़े मटका
दिव्यदृष्टि अनुशासन का डंडा फटकारे
कूड़ा-करकट छाप बदल दे नेता सारे

सोमवार, 24 अगस्त 2009

छुटभैयों के हाथ ज्यों आई मोटर कार

छुटभैयों के हाथ ज्यों आई मोटर कार
रोज रेज का बढ़ गया त्यों ही कारोबार
त्यों ही कारोबार, कृष्ण धन लाये गर्मी
सहनशीलता घटी कुचालक भूले नर्मी
दिव्यदृष्टि दुर्बल को जो भी दुष्ट सताए
हर हालत में पुलिस उसे औकात बताए

शनिवार, 22 अगस्त 2009

जिस अडवानी के लिए बोला मैंने झूठ

जिस अडवानी के लिए बोला मैंने झूठ
उसने ही कमजोर की 'दल' में मेरी मूठ
दल में मेरी मूठ, मुझे करवाया 'फायर'
मैं भी उस पर केस करूं जनता में दायर
दिव्यदृष्टि मैं राम कसम सच ही बोलूंगा
है यह दीगर बात पोल उनकी खोलूंगा

शुक्रवार, 21 अगस्त 2009

अद्भुत भारतवर्ष में न्यायालय का सीन

अद्भुत भारतवर्ष में न्यायालय का सीन
सोहें जज की 'पीठ' पर नर संवेदनहीन
नर संवेदनहीन, परिन्दों की भी पेशी
मांगें न्यायाधीश अजब कानून स्वदेशी
भले कोर्ट में दिव्यदृष्टि चिडि़या मर जाएं
फिर भी वे इंसाफ नहीं हासिल कर पाएं

गुरुवार, 20 अगस्त 2009

मन राखी सावंत का बहुत रहा है डोल

मन राखी सावंत का बहुत रहा है डोल
दूल्हे के प्रति दोस्तो बदले उनके बोल
बदले उनके बोल, हो रही है यह चर्चा
उठा न पायेगा इलेश दुल्हन का खर्चा
दिव्यदृष्टि पहले वह ढूंढ़े कोई 'खोली'
तभी चढ़े बारात सजे शादी की डोली

पेट भरें किस भांति जुगत बतलाओ पुत्तर

महंगाई की मार से पीड़ित चिरकुट लाल
पूछ रहे सरकार से 'जलता' हुआ सवाल
'जलता' हुआ सवाल दीजिए मोहन उत्तर
पेट भरें किस भांति जुगत बतलाओ पुत्तर
दिव्यदृष्टि जो महंगा करते नित्य 'निवाला'
कब तक उनका साथ निभाओगे तुम लाला

बुधवार, 19 अगस्त 2009

इसीलिए हो गए एक झटके में आउट

जिन्ना पर जसवंत के आत्मीय उद्गार
नहीं भाजपा को हुए सपने में स्वीकार
सपने में स्वीकार, न कोई इसमें डाउट
इसीलिए हो गए एक झटके में आउट
दिव्यदृष्टि जो भी छोड़ेगा भगवा रस्ता
बांध दिया जायेगा प्यारे उसका बस्ता

आये दिन ईमान बेचते अपना शातिर

चालक जो टूरिस्ट को करते हैं हैरान
इज्जत हिन्दुस्तान की खोते वो नादान
खोते वो नादान चन्द पैसे की खातिर
आये दिन ईमान बेचते अपना शातिर
दिव्यदृष्टि इसलिए यही पैगाम हमारा
दे दुष्टों को दण्ड दिखाएं दिन में तारा

मंगलवार, 18 अगस्त 2009

दिखलाया कप्तान ने धमकीवाला हाथ

डीडीसीए में उन्हें 'दैत्य' रहे अब दीख
अत: रुष्ट हो चौधरी वीरू बोले चीख
वीरू बोले चीख जेटली जज्बा सुनिए
भ्रष्टाचारविहीन सिलेक्टर उम्दा चुनिए
दिव्यदृष्टि यदि हटे न भ्रष्टाचारी रावन
रण-जी में थामेंगे हरियाणा का दामन
दिखलाया कप्तान ने धमकीवाला हाथ
फौरन हुए सपोर्ट में नेहरा-गौतम साथ
नेहरा-गौतम साथ, नहीं शरमा शरमाये
वह भी बागी बने अंतत: खुलकर आये
दिव्यदृष्टि दीवार अरुण की उन्हें ढहानी
अत: करप्शन की गढ़ बैठे राम कहानी

सोमवार, 17 अगस्त 2009

वही राइटर दुनिया में फौरन बिक जाए

देश विभाजन के लिए नेहरू जिम्मेदार
कहते हैं जसवंत जी किए शब्द श्रृंगार
किए शब्द श्रृंगार लिखी है नूतन पोथी
भरीं अनर्गल बातें उसमें जमकर थोथी
दिव्यदृष्टि जो भी जिन्ना को ग्रेट बताए
वही राइटर दुनिया में फौरन बिक जाए

गुरुवार, 13 अगस्त 2009

दी हमको सरकार ने सौ दिन रोटी-दाल

जनता से कहते फिरें नेता चिरकुट लाल
दी हमको सरकार ने सौ दिन रोटी-दाल
सौ दिन रोटी-दाल मजे से धनिया खाये
बदले में मनमोहन के 'गोबर' गुण गाये
दिव्यदृष्टि नित खुशहाली ला रहा नरेगा
सुखिया बाकी साल भूख से भले मरेगा

मंगलवार, 11 अगस्त 2009

'पंचशील' का रोयेंगे तब पंडित दुखड़ा

जर्जर हालत देख कर सोच रहा है चीन
भारत के टुकड़े करे जल्द नए दो-तीन
जल्द नए दो-तीन बागियों को बहकाए
'होम लैंड' की मांग शातिरों से उठवाए
दिव्यदृष्टि सीमाओं पर जब आग जलेगी
उसकी सेना लाल तोप को दाग चलेगी
सरहद पर जब देश की बिगड़ेंगे हालात
तभी 'कबूतरबाज' सब खा जाएंगे मात
खा जाएंगे मात, पड़ोसी मिल कर सारे
जमकर हमला करें तोड़ दें 'हाथ' हमारे
दिव्यदृष्टि जब हो जाएगा खंडित मुखड़ा
'पंचशील' का रोयेंगे तब पंडित दुखड़ा

निंदक को क्यों जान-बूझकर गले लगाये

अडवानी अब दीजिये जाकर जल्द हिसाब
बरनी से लिखवा लिए काहे आप किताब
काहे आप किताब संघ को समझ न आये
निंदक को क्यों जान-बूझकर गले लगाये
दिव्यदृष्टि 'दुश्मन' से यह अनुवाद कराना
करे नहीं स्वीकार कदाचित कभी 'घराना'

सोमवार, 10 अगस्त 2009

उन्हें बांग्लादेश तुरत वापस भिजवाए

जिन्हें समझ शरणार्थी दी थी कभी पनाह
अब उनके मन में उठी होम लैंड की चाह
होम लैंड की चाह, बढ़ा कर ताकत भारी
नए इलाके की करते शातिर तैयारी
दिव्यदृष्टि इसलिए न भारत देर लगाए
उन्हें बांग्लादेश तुरत वापस भिजवाए

शुक्रवार, 7 अगस्त 2009

करें शिष्ट व्यवहार कीमती समय बचाएं

करें पार्लियामेंट का टाइम जो बरबाद
नहीं रहेंगे सदन में वे प्रतिनिधि आबाद
वे प्रतिनिधि आबाद नसीहत देतीं मीरा
पब्लिक ने है चुना मानकर उनको हीरा
दिव्यदृष्टि इसलिए न ज्यादा शोर मचाएं
करें शिष्ट व्यवहार कीमती समय बचाएं

दिए दर्जनों मार तनिक भी लाज न आई

कुत्ते-बिल्ली समझकर गोली की बौछार
जमकर अजमल ने करी दिए दर्जनों मार
दिए दर्जनों मार तनिक भी लाज न आई
फिर भी होकर ढीठ मांगता मटन कसाई
दिव्यदृष्टि इसलिए नया नुस्खा अपनाओ
मारो पागल स्वान भूनकर उसे खिलाओ

गुरुवार, 6 अगस्त 2009

जब मांगे कश्मीर तमाचा मुंह पर धरिए

समझे हिन्दुस्तान को दुश्मन नम्बर एक
नीयत पाकिस्तान की मित्र नहीं है नेक
मित्र नहीं है नेक, जंगजू शिविर चलाए
हत्यारे, हथियार नित्य शातिर भिजवाए
दिव्यदृष्टि इसलिए दुष्ट से बात न करिए
जब मांगे कश्मीर तमाचा मुंह पर धरिए

बुधवार, 5 अगस्त 2009

भाई बनकर राखी से 'राखी' बंधवा लें

रहे 'स्वयंवर' में कभी जो दूल्हे नाकाम
राखी के मन में अभी है उनका सम्मान
है उनका सम्मान भले वह बनी न बीवी
इज्जत फिर भी खूब उन्हें दिलवाए टीवी
दिव्यदृष्टि इसलिए नया रिश्ता अपना लें
भाई बनकर राखी से 'राखी' बंधवा लें

मंगलवार, 4 अगस्त 2009

जमकर भ्रष्टाचार कर रहे तेल मिनिस्टर

तेल मिनिस्टर कर रहे जमकर भ्रष्टाचार
देते सतत मुकेश को अरबों का उपहार
अरबों का उपहार लाभ उसको पहुंचाएं
बदले में मुरली खुद 'मोटा माल' बनाएं
दिव्यदृष्टि आरोप मुलायम मढ़ें सिनिस्टर
जमकर भ्रष्टाचार कर रहे तेल मिनिस्टर

सोमवार, 3 अगस्त 2009

राखी ने चुन ही लिया दूल्हा आखिरकार

राखी ने चुन ही लिया दूल्हा आखिरकार
हुआ 'स्वयंवर' पूर्ण पर शादी से इनकार
शादी से इनकार, मगर 'डेटिंग' पर जाएं
जांच-परखकर ही विवाह का मूड बनाएं
दिव्यदृष्टि जब 'पूर्ण तसल्ली' होगी भाई
तभी बजेगी उनके घर-आंगन शहनाई

शनिवार, 1 अगस्त 2009

बूटा का बेटा गया पकड़ा लेते घूस

बूटा का बेटा गया पकड़ा लेते घूस
सरबजोत से कर रहे पूछताछ जासूस
पूछताछ जासूस छिपाओ नहीं सचाई
इतनी मोटी रकम कहां से कैसे आई
दिव्यदृष्टि वह बोला मेरी नहीं खता है
डैडी को इस बारे में सब साफ पता है

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव