गुरुवार, 6 अगस्त 2009

जब मांगे कश्मीर तमाचा मुंह पर धरिए

समझे हिन्दुस्तान को दुश्मन नम्बर एक
नीयत पाकिस्तान की मित्र नहीं है नेक
मित्र नहीं है नेक, जंगजू शिविर चलाए
हत्यारे, हथियार नित्य शातिर भिजवाए
दिव्यदृष्टि इसलिए दुष्ट से बात न करिए
जब मांगे कश्मीर तमाचा मुंह पर धरिए

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव