सोमवार, 17 अगस्त 2009

वही राइटर दुनिया में फौरन बिक जाए

देश विभाजन के लिए नेहरू जिम्मेदार
कहते हैं जसवंत जी किए शब्द श्रृंगार
किए शब्द श्रृंगार लिखी है नूतन पोथी
भरीं अनर्गल बातें उसमें जमकर थोथी
दिव्यदृष्टि जो भी जिन्ना को ग्रेट बताए
वही राइटर दुनिया में फौरन बिक जाए

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव