बुधवार, 26 अगस्त 2009

सोये सुख की सेज सजन के संग किशोरी

चीखें नाहक नित्यप्रति चंपू चिरकुट लाल
बिजली का है हिन्द में कतई नहीं अकाल
कतई नहीं अकाल, भरी हो अगर तिजोरी
सोये सुख की सेज सजन के संग किशोरी
दिव्यदृष्टि मनमोहन लें 'पावर-फुल' भीखें
चंपू चिरकुट लाल नित्यप्रति नाहक चीखें

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव