मंगलवार, 31 मार्च 2009

करें कसाई के लिए जो फांसी की मांग

बुद्धिमान पाठक न हों पढ़ इसको नाराज
भारत में कानून का छह दशकों से राज
छह दशकों से राज, भले आरोपी कातिल
कानूनी इमदाद उसे हो फिर भी हासिल
दिव्यदृष्टि अधिवक्ता बिन प्रक्रिया अधूरी
संविधान का आदर करना अत: जरूरी
करें कसाई के लिए जो फांसी की मांग
उन्हें खींचनी चाहिए नहीं नियम की टांग
नहीं नियम की टांग, करेंगे जब तक निंदा
तब तक उपजे क्रोध रहेगा कातिल जिंदा
दिव्यदृष्टि इसलिए न खुद बाधा बन जाएं
देकर उसे वकील दुष्ट को सजा दिलाएं।

सोमवार, 30 मार्च 2009

फर्जी डिग्री का सारा किस्सा खुल जाए

संजयसुत जिस सनद का पीट रहे हैं ढोल
साफ नजर आने लगी उसकी सारी पोल
उसकी सारी पोल, खोलते हैं सहपाठी
कहें तथ्य से परे वरुण की है कदकाठी
'दिव्यदृष्टि' यदि शासन इसकी जांच कराए
फर्जी डिग्री का सारा किस्सा खुल जाए

खेल दिखा गंभीर नेपियर नाक बचाए

नाक बचाए नेपियर खेल दिखा गंभीर
तोड़ी फॉलोऑन की जबरदस्त जंजीर
जबरदस्त जंजीर, रार राहुल ने ठानी
सचिन सहायक बने ठने युवी लासानी
दिव्यदृष्टि लक्ष्मण खूब ही नाच नचाए
खेल दिखा गंभीर नेपियर नाक बचाए

शनिवार, 28 मार्च 2009

बीजेपी के लिए चले वोटों की आंधी

न्यायालय का बहुत ही करते हैं सम्मान
हिन्दू रक्षण के लिए लेकिन हों कुरबान
लेकिन हों कुरबान, जेल जाने को तत्पर
वरुण मसीहा बने कह रहे लोग परस्पर
दिव्यदृष्टि हो गया कैद यदि नन्हा गांधी
बीजेपी के लिए चले वोटों की आंधी

गुरुवार, 26 मार्च 2009

किसी गधे को तुझे पड़ेगा बाप बनाना

वयोवृद्ध नेता नहीं छोड़ें जब तक सीट
तब तक हाउस में युवा पहुंचें कैसे मीत
पहुंचें कैसे मीत, विरासत हैं जो पाए
वही विधायक बने कहीं एमपी कहलाए
दिव्यदृष्टि यदि चाहे तू संसद में जाना
किसी गधे को तुझे पड़ेगा बाप बनाना

कांग्रेस की नाव में निकले करने छेद

दोनों ग्वाले एकजुट हुए भुला मतभेद
कांग्रेस की नाव में निकले करने छेद
निकले करने छेद, मुलायम लालू भाई
नहीं परस्पर करें वोट की कहीं लड़ाई
दिव्यदृष्टि बेचैन दिखे बेहद जद वाले
हुए भुला मतभेद एकजुट दोनों ग्वाले

बुधवार, 25 मार्च 2009

नहीं शाह रुख टीम में सौरभ हों कप्तान

नहीं शाह रुख टीम में सौरभ हों कप्तान
जॉन बुकानन ने किया निर्णय का ऐलान
निर्णय का ऐलान, कहें किस्मत का लेखा
या रूठे बिग बॉस किया जिसने अनदेखा
रास न आई दिव्यदृष्टि बेसुरी नफीरी
हुए समर्थक सन्न न दीखे दादागीरी

कहीं जुआरी डुबा न दें कल उसकी नैया

डेमोक्रेसी का हुआ जारी ज्यों ही डांस
सट्टेबाजी का बढ़ा भारी त्यों ही चांस
भारी त्यों ही चांस, बढ़ी है गहमागहमी
मगर न पाले कांग्रेस कोई खुशफहमी
दिव्यदृष्टि जो आज दीखता आगे भैया
कहीं जुआरी डुबा न दें कल उसकी नैया

आम आदमी को दिया टाटा ने उपहार

आम आदमी को दिया टाटा ने उपहार
ले आए बाजार में लाख टके की कार
लाख टके की कार पारकर बाधा सारी
वादा पूरा किया उठा कर घाटा भारी
दिव्यदृष्टि जो नैनो से ममता दिखलाएं
मोदी नन्हीं कार उन्हीं के घर भिजवाएं

सोमवार, 23 मार्च 2009

अगर विषवमन से मिले बीजेपी को वोट

अगर विषवमन से मिले बीजेपी को वोट
तो भाषा में वरुण की उसे न दीखे खोट
उसे न दीखे खोट, चोट बेशक हो गहरी
सुने न फिर भी चीख बीजेपी गूंगी-बहरी
दिव्यदृष्टि पा गए अगर अडवानी सत्ता
लोकलाज, नैतिकता का कट जाए पत्ता

रविवार, 22 मार्च 2009

धोनी ने बतला दिया टीम इंडिया बेस्ट

वन डे काबू में किया जीता पहला टेस्ट
धोनी ने बतला दिया टीम इंडिया बेस्ट
टीम इंडिया बेस्ट, सचिन सेंचुरी जमाए
हैमिल्टन में हाथ हरभजन खूब दिखाए
दिव्यदृष्टि सब फेल हुए कीवी हथकंडे
जीता पहला टेस्ट किया काबू में वन डे

शुक्रवार, 20 मार्च 2009

सर्वश्रेष्ठ है क्रिकेट में तारा सचिन महान

लगा रहा है एकजुट नारा सकल जहान
सर्वश्रेष्ठ है क्रिकेट में तारा सचिन महान
तारा सचिन महान, सेंचुरी जब भी ठोके
चीखें बॉलर खूब किसी से रुके न रोके
दिव्यदृष्टि प्रतिमान नए नित बना रहा है
नारा सकल जहान एकजुट लगा रहा है

गुरुवार, 19 मार्च 2009

कल जो बेटी थी गई अडवानी से रूठ

कल जो बेटी थी गई अडवानी से रूठ
वही दुबारा खुश हुई सच मानें या झूठ
सच मानें या झूठ, सियासी पहने जेवर
उमा भारती दिखलातीं नित नूतन तेवर
दिव्यदृष्टि अब सिंधी पीएम खातिर बेकल
अडवानी से रूठ गई थी बेटी जो कल।

भड़काऊ भाषा नहीं वरुण बोलिए आप

भड़काऊ भाषा नहीं वरुण बोलिए आप
मठाधीश आयोग के वर्ना देंगे शाप
वर्ना देंगे शाप , पाप उसको मानेंगे
बदले में मुट्ठी कसकर फौरन तानेंगे
दिव्यूदृष्टि दे रहे सीख पॉटिलिकल ताऊ
वरुण बोलिए आप नहीं भाषा भड़काऊ

सोमवार, 16 मार्च 2009

हुआ न जल्दी दूर अगर रैगिंग का रोना

रैगिंग का रोना अगर हुआ न जल्दी दूर
हो जाएगी कोर्ट फिर सख्ती को मजबूर
सख्ती को मजबूर, सजा वह शासन पाए
तुरत कारगर कदम राज्य जो नहीं उठाए
दिव्यदृष्टि सूना होगा कॉलिज का कोना
हुआ न जल्दी दूर अगर रैगिंग का रोना

शुक्रवार, 13 मार्च 2009

होश फिजां के उड़ गए शादी हुई हलाक

कहा चांद ने फोन पर ज्यों ही तीन तलाक
होश फिजां के उड़ गए शादी हुई हलाक
शादी हुई हलाक, सुनाएं किसको दुखड़ा
महबूबा का गांव साल के भीतर उजड़ा
दिव्यदृष्टि छह माह नहीं यारी चल पाई
मिला धूल में प्यार हाथ आई रुसवाई

गुरुवार, 12 मार्च 2009

तभी समर्थन पर लगे बीएसपी की छाप

परधानी का फैसला करिये पहले आप
तभी समर्थन पर लगे बीएसपी की छाप
बीएसपी की छाप, बोलतीं माया मैडम
वरना है बेकार मोर्चे की सब तिकड़म
दिव्यदृष्टि ऐलान यही हाथी-रानी का
करिए पहले आप फैसला परधानी का

आखिर तो लूजर-गेनर दोनों अंबानी

होता है व्यापार में रोज नफा-नुकसान
दुनिया वाले हो रहे नाहक ही हैरान
नाहक ही हैरान, अनिल सहमे यूं बोलें
मुझे छोड़ मेरे भाई को लोग टटोलें
'दिव्यदृष्टि' प्यारे दौलत तो आनी-जानी
आखिर तो लूजर-गेनर दोनों अंबानी

खूब दिखाए चौधरी हैमिल्टन में हाथ

खूब दिखाए चौधरी हैमिल्टन में हाथ
दिया दूसरे छोर से गौतम ने भी साथ
गौतम ने भी साथ, पिटे कीवी बेचारे
साठ गेंद में शतक दनादन वीरू मारे
दिव्यदृष्टि सीरीज टीम की झोली आई
मस्त अजहरुद्दीन पिएं जमकर ठण्डाई

सोमवार, 9 मार्च 2009

जो रैगिंग के नाम पर ले साथी की जान

जो रैगिंग के नाम पर ले साथी की जान
उसको सभ्य समाज में मिले नहीं स्थान
मिले नहीं स्थान, डॉक्टर बन भी जाए
तो भी वह शैतान कसाई ही कहलाए
दिव्यदृष्टि लानत भेजो ऐसी मस्ती को
ले साथी की जान नाम पर रैगिंग के जो

लेक्चर देने आ गए बेशक हिन्दुस्तान

लेक्चर देने आ गए बेशक हिन्दुस्तान
मियां मुशर्रफ को मगर मिला न पूरा मान
मिला न पूरा मान, शान-शौकत में घाटा
मुसलमान नाराज दूर से कहते टाटा
दिव्यदृष्टि मनमोहन ने भी कतरे हैं पर
बेशक हिन्दुस्तान आ गए देने लेक्चर

सानी कोई सचिन का नहीं विश्व में आज

सानी कोई सचिन का नहीं विश्व में आज
अपने करतब से बने दिग्गज बल्लेबाज
दिग्गज बल्लेबाज, फील्ड में रन बरसाए
वाह-वाह कर सभी क्रिकेट प्रेमी हरसाए
गेंदबाज सब दिव्यदृष्टि कह रहे कहानी
नहीं विश्व में आज सचिन का कोई सानी

जान बचाए टीम की जब से मियां खलील

जान बचाए टीम की जब से मियां खलील
श्रीलंकाई तभी से करें बहुत गुड फील
करें बहुत गुड फील, फरिश्ता उसको मानें
दस्तावेजी तथ्य मगर वे लोग न जाने
'दिव्यदृष्टि' जो आज बना आंखों का तारा
उसका भाई गया फौज के हाथों मारा

बुधवार, 4 मार्च 2009

साठ साल में देश को बना दिया स्लमडाग

साठ साल में देश को बना दिया स्लमडाग
भूख, गरीबी, गन्दगी जहां खेलते फाग
जहां खेलते फाग, आग को चूल्हे तरसें
मिले न पानी साफ भले ही बादल बरसें
दिव्यदृष्टि घट रही नौकरी चढ़ता पारा
कांग्रेस किसकी जय हो का देती नारा?

सोमवार, 2 मार्च 2009

लेकर नाम जिहाद का हुए सिरफिरे चुस्त

लेकर नाम जिहाद का हुए सिरफिरे चुस्त
किन्तु सुरक्षा पाक की दीखे नहीं दुरुस्त
दीखे नहीं दुरुस्त, फेल सरकारी अमला
करें जंगजू जब चाहें मनमाफिक हमला
दिव्यदृष्टि हुक्काम करें बातें बड़बोली
है यह दीगर बात खिलाड़ी खाएं गोली
सारी दुनिया तथ्य यह साफ गई है जान
कठमुल्लों के हाथ में सिमटा पाकिस्तान
सिमटा पाकिस्तान, बेअसर हैं जरदारी
गिला करें गीलानी लश्कर पढ़ता भारी
दिव्यदृष्टि इसलिए न हमदर्दी दिखलाओ
दहशतगर्दों को सख्ती से सबक सिखाओ।

रविवार, 1 मार्च 2009

राजनाथ से करें युद्ध की सब तैयारी

ज्यों ही प्रेमी चांद का गिरा सियासी भाव
आया मन में फिजां के त्यों ही भारी ताव
त्यों ही भारी ताव , देख कर घटती शोहरत
चलीं गाजियाबाद लिए लड़ने की हसरत
दिव्यदृष्टि नर , किन्नर या परित्यक्ता नारी
राजनाथ से करें युद्ध की सब तैयारी

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव