शुक्रवार, 13 मार्च 2009

होश फिजां के उड़ गए शादी हुई हलाक

कहा चांद ने फोन पर ज्यों ही तीन तलाक
होश फिजां के उड़ गए शादी हुई हलाक
शादी हुई हलाक, सुनाएं किसको दुखड़ा
महबूबा का गांव साल के भीतर उजड़ा
दिव्यदृष्टि छह माह नहीं यारी चल पाई
मिला धूल में प्यार हाथ आई रुसवाई

2 टिप्‍पणियां:

रंजना ने कहा…

बोया बीज बबूल का आम कहाँ से होय..

शायदा ने कहा…

please contact. shayda7@gmail.com

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव