गुरुवार, 12 मार्च 2009

आखिर तो लूजर-गेनर दोनों अंबानी

होता है व्यापार में रोज नफा-नुकसान
दुनिया वाले हो रहे नाहक ही हैरान
नाहक ही हैरान, अनिल सहमे यूं बोलें
मुझे छोड़ मेरे भाई को लोग टटोलें
'दिव्यदृष्टि' प्यारे दौलत तो आनी-जानी
आखिर तो लूजर-गेनर दोनों अंबानी

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव