गुरुवार, 26 मार्च 2009

कांग्रेस की नाव में निकले करने छेद

दोनों ग्वाले एकजुट हुए भुला मतभेद
कांग्रेस की नाव में निकले करने छेद
निकले करने छेद, मुलायम लालू भाई
नहीं परस्पर करें वोट की कहीं लड़ाई
दिव्यदृष्टि बेचैन दिखे बेहद जद वाले
हुए भुला मतभेद एकजुट दोनों ग्वाले

1 टिप्पणी:

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi ने कहा…

काँग्रेस की नाव में पहले ही बहुत छेद हैं। वह तो इन्ही लोगों ने भरे हैं। इनके हटते ही दिखने लगे हैं।

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव