बुधवार, 31 दिसंबर 2008

हो हम पर उपकार न्यू इयर फाइन लाना

विनय करे भगवान से दिव्यदृष्टि पुरजोर
नहीं सुनाई पड़े प्रभु उग्रवाद का शोर
उग्रवाद का शोर, न पब्लिक मारी जाए
रहें प्रेम से लोग मुहब्बत भारी आए
तुम्हें अलविदा आठ ठाठ से नाइन
हो हम पर उपकार न्यू इयर फाइन लाना

मंगलवार, 30 दिसंबर 2008

तुम्हें मुबारक साल नया हो आनेवाला

पढ़ पढ़ कर तीखी नज़र रहिये सदा सचेत
रहे हमेशा लबालब भरा ज्ञान का खेत
भरा ज्ञान का खेत, फसल नित बढे विवेकी
खुशियों का खलिहान बढाये मन में नेकी
दिव्यदृष्टि पा सकें लोग दो वक्त निवाला
तुम्हें मुबारक साल नया हो आनेवाला

मिला न अजमल को अगर कोई यहां वकील

मिला न अजमल को अगर कोई यहां वकील
कातिल को इंसाफ की तो फिर व्यर्थ दलील
तो फिर व्यर्थ दलील, नियम कमजोर पड़ेगा
अधिवक्ता भयभीत नहीं यदि केस लड़ेगा
दिव्यदृष्टि यदि नहीं चाहते बचे कसाई
फौरन एक वकील उसे दिलवाओ भाई

रविवार, 28 दिसंबर 2008

आया है कश्मीर में फ्रैक्चर्ड मंडेट

आया है कश्मीर में फ्रैक्चर्ड मंडेट
पाई कोई पार्टी वोट नहीं भर पेट
वोट नहीं भर पेट, सोचते सारे लीडर
रहे फेवरिट कैसे यहां सियासी वीदर
दिव्यदृष्टि घाटी में होता हल्ला-गुल्ला
बनें यंग सीएम अपने ओमर अब्दुल्ला

शनिवार, 27 दिसंबर 2008

दुश्मन पर अब और न कतई दया दिखाओ

बच्चों को पढ़वा रहा जो नफरत का पाठ
बढ़े नहीं उस देश का कभी स्वप्न में ठाठ
कभी स्वप्न में ठाठ, झूठ दुनिया से बोले
बने शेखचिल्ली जुल्मी जब भी मुंह खोले
दिव्यदृष्टि ऐसे शातिर को सबक सिखाओ
दुश्मन पर अब और न कतई दया दिखाओ

गुरुवार, 25 दिसंबर 2008

हुई पांचवीं बार अब फिर नीयत नापाक

चार बार भी हारकर कटी न उसकी नाक
हुई पांचवीं बार अब फिर नीयत नापाक
फिर नीयत नापाक, जंग का लिए इरादा
पहुंच गया सरहद पर पाकिस्तानी प्यादा
दिव्यदृष्टि इस बार हिन्द यदि करे चढ़ाई
दुश्मन के सब दांत तोड़ दें फौजी भाई

बुधवार, 24 दिसंबर 2008

कौन करेगा माया जी उसकी भरपाई?

बड़े शौक से जन्मदिन खूब मनाएं आप
मगर न छोड़ें राज्य में लूटमार की छाप
लूटमार की छाप, विधायक डालें डाका
जबरन चौथ वसूली का वे खींचें खाका
दिव्यदृष्टि जिस अभियन्ता ने जान गंवाई
कौन करेगा माया जी उसकी भरपाई?

रहे स्वान की पूंछ सदा टेढ़ी की टेढ़ी

टेढ़ी की टेढ़ी रहे सदा स्वान की पूंछ
बेशक बारह बरस तक आप ऐंठिए मूंछ
आप ऐंठिए मूंछ पाल कर मन में आशा
किंतु न होगी पूर्ण सिधाई की अभिलाषा
दिव्यदृष्टि यह बात समझ ले वोट नशेड़ी
रहे स्वान की पूंछ सदा टेढ़ी की टेढ़ी

सोमवार, 22 दिसंबर 2008

मंदी से हैं बेअसर हीरो आमिर खान

मंदी से हैं बेअसर हीरो आमिर खान
कहते हैं हज्जाम की खोलेंगे दूकान
खोलेंगे दूकान, तान कर सीना घूमें
सारे राजा रंक रात-दिन चौखट चूमें
दिव्यदृष्टि बेशक पिट जाए फिल्मी धंधा
हज्जामों के घर आए लेकिन हर बंदा

शनिवार, 20 दिसंबर 2008

हुई द्रविड़ पर बहुत जब नुक्ताचीनी थोक

हुई द्रविड़ पर बहुत जब नुक्ताचीनी थोक
दिए मोहाली टेस्ट में तभी सेंचुरी ठोक
तभी सेंचुरी ठोक, छुड़ाए जम कर छक्के
लोग हुए हैरान सिलेक्टर हक्के-बक्के
दिव्यदृष्टि गोरों को दीखे दिन में तारे
हुई बोलती बंद चुपे आलोचक सारे

गुरुवार, 18 दिसंबर 2008

संसद में भी बोलते अब्दुल ओछे बोल

संसद में भी बोलते अब्दुल ओछे बोल
इसीलिए रहमान का कहीं न कोई मोल
कहीं न कोई मोल, बिना तोले हकलाएं
करें सार्थक नाम अनतुले वह कहलाएं
दिव्यदृष्टि मंत्री होकर भी करते शंका
फूंके उच्च कमान जल्द ही उनकी लंका

बुधवार, 17 दिसंबर 2008

बुश, जाते-जाते लीजिए जूते का उपहार

बुश आए बगदाद में आप आखिरी बार
जाते-जाते लीजिए जूते का उपहार
जूते का उपहार, समझिए इसको चुंबन
मिला न होगा तुम्हें कभी ऐसा अभिनंदन
दिव्यदृष्टि इराकी ' बूट पुलाव ' खाइए
यादगार डिश अमेरिका ले साथ जाइए

मंगलवार, 16 दिसंबर 2008

बेटर टीम इंग्लैंड की किन्तु इंडिया बेस्ट

बेटर टीम इंग्लैंड की किन्तु इंडिया बेस्ट
उसकी झोली में गिरा अत: चेन्नई टेस्ट
अत: चेन्नई टेस्ट, भले ही हारे गोरे फिर
भी उत्तम खेल दिखाए टूरिंग छोरे
दिव्यदृष्टि इसलिए करें हिम्मत अफजाई
करें नहीं अंग्रेज पिटरसन की रुसवाई

सोमवार, 15 दिसंबर 2008

चौथी पारी में रखे वीरू जो बुनियाद

चौथी पारी में रखे वीरू जो बुनियाद
भवन जीत का उसी पर सचिन किए आबाद
सचिन किए आबाद, लगाए गारा गौतम
धुआंधार युवराज हाथ दिखलाए उत्तम
दिव्यदृष्टि हो रही प्रशंसा नर-नारी में
वीरू जो बुनियाद रखे चौथी पारी में

छूटे साफ पटेल क्लीन चिट मिली अमर को

मिली अमर को क्लीन चिट छूटे साफ पटेल
' अपनों' को डाले भला आखिर कौन नकेल
आखिर कौन नकेल, समय पर हाथ दिखाए
तभी सदन में मनमोहन जी बहुमत पाए
लखें डिटेक्टिव दिव्यदृष्टि 'गैरों' के घर को
छूटे साफ पटेल क्लीन चिट मिली अमर को

रविवार, 14 दिसंबर 2008

लगा रहा आतंक की जो भारत में आग

लगा रहा आतंक की जो भारत में आग
गाएं उसके साथ हम कैसे किरकिट राग
कैसे किरकिट राग, बताए दुनिया हमको
भरा न अब तक घाव भुलाएं कैसे गम को
दिव्यदृष्टि जिस घर में होता मातम भाई
नहीं भूल कर कभी बजाता वह शहनाई

गुरुवार, 11 दिसंबर 2008

किया न कतई चांद ने कोई अनुचित काम

किया न कतई चांद ने कोई अनुचित काम
क्यों नाहक हूडा, भजन मचा रहे कोहराम
मचा रहे कोहराम, कर रहे मातमपुर्सी
एक बेदखल करे छीन ले दूजा कुर्सी
दिव्यदृष्टि फिर भी उल्फत की लाज निभाई
इस साहस के लिए कोटिश: उन्हें बधाई

मंगलवार, 9 दिसंबर 2008

फिर भी ढीले पुलिसजन करें न पूरा फर्ज

भले कराएं नागरिक रपट समय पर दर्ज
फिर भी ढीले पुलिसजन करें न पूरा फर्ज
करें न पूरा फर्ज, मर्ज बढ़ता है दिन-दिन
बेशक आतंकी लोगों को मारें गिन-गिन
दिव्यदृष्टि काहिल वर्दी का मान गिराएं
रपट समय पर दर्ज नागरिक भले कराएं

सीएम - इन - वेटिंग पिटे गजब हुई तौहीन

शीला की कुर्सी विजय नहीं सके हैं छीन
सीएम - इन - वेटिंग पिटे गजब हुई तौहीन
गजब हुई तौहीन , बीन बेसुरी बजाई
इसीलिए वोटर ने खिल्ली खूब उड़ाई
' दिव्यदृष्टि ' कर रहे खुराना मातमपुर्सी
नहीं सके हैं छीन विजय शीला की कुर्सी

शनिवार, 6 दिसंबर 2008

अमरीका ने पाक को मारी जब फटकार

अमरीका ने पाक को मारी जब फटकार
तब जाकर उसने किया मजबूरन स्वीकार
मजबूरन स्वीकार, हमारे ही कुछ गुर्गे
चले गए थे ताज उड़ाने मछली मुर्गे
दिव्यदृष्टि कर बैठे थोड़ी आतिशबाजी
जांच करेंगे उसकी पाकिस्तानी काजी।

शुक्रवार, 5 दिसंबर 2008

भारत में कितना भी हो आतंकी गड़बड़झाला

भारत में कितना भी हो आतंकी गड़बड़झाला,
किंतु जवाबी कदम यहां पर एक न उठनेवाला।
बेगुनाह पब्लिक आए दिन बेशक मारी जाए,
मगर चैन से पांव पसारे सोता है रखवाला।
लोकतंत्र की शवशय्या पर डाल वोट की चादर,
तुच्छ सियासतदान खड़े हैं मुंह पर डाले ताला।
खोजबीन में पता चली है पाकिस्तानी साजिश,
फिर भी उसके ऊपर कोई अस्त्र न चलने वाला।
लश्कर पर पाबंदी की बातें पड़ रहीं सुनाई,
आप इसलिए संयम बरतें और कुछ दिनों लाला।
अगले हमले से पहले तक हिन्द रखे खामोशी,
मनमोहन से साफ कह गईं जरदारी की खाला।
दिव्यदृष्टि अफसोस न कर तू लाचारों के ऊपर,
जनमानस का रोष जल्द ही इन्हें जलाने वाला।

गुरुवार, 4 दिसंबर 2008

कहां खो गए हैं अमर मित्र मुलायम आप

कहां खो गए हैं अमर मित्र मुलायम आप
पब्लिक को बतलाइए कुछ तो माई-बाप
कुछ तो माई-बाप , सैकड़ों जान गंवाए
होटल बने मसान मगर तुम नजर न आए
दिव्यदृष्टि है पूछ रहा हर पीड़ित प्राणी
कहां हो गई लुप्त आपकी सेकुलर वाणी

बुधवार, 3 दिसंबर 2008

पाक पड़ोसी ने किया बहुत हमें हैरान

पाक पड़ोसी ने किया बहुत हमें हैरान।
आतंकी का इसलिए मेटें नाम-निशान।।
मनमोहन मिमियाना छोड़ो। उग्रवाद की हड्डी तोड़ो।
पसली एक रहे ना बाकी। ऐसी चले दुष्ट पर चाकी।
जब भी शातिर सेंध लगाए। तभी तमाचा भारी खाए।
अगर नहीं छोड़े हठधर्मी। सबक सिखाएं रक्षाकर्मी।
दुनिया भर में धाक जमेगी। करतूतें नापाक थमेंगीं।
भारतवासी बच्चा-बच्चा। उसे चबा जाएगा कच्चा।
आस्तीन में सांप न पालो। फौरन सारा जहर निकालो।
पड़ें दिखाई जहां जिहादी। वहीं जंग की करो मुनादी।
अकर्मण्यता से बढ़े जनमानस में भ्रान्ति।
अत: जरूरी देश में राष्ट्रवाद की क्रान्ति।।

मंगलवार, 2 दिसंबर 2008

यूं तो बनते मार्क्स के असली वारिस आप

यूं तो बनते मार्क्स के असली वारिस आप
तुच्छ सियासतदान की किन्तु छोड़ते छाप
किन्तु छोड़ते छाप, अच्युतानंदन ओछी
करें अनर्गल बात बिना ही समझी-सोची
दिव्यदृष्टि बलिदानी को कह कुत्ता तनते
असली वारिस आप मार्क्स के यूं तो बनते।

सोमवार, 1 दिसंबर 2008

ताव दिखाएं धरम जी खौल रहा है खून

ताव दिखाएं धरम जी खौल रहा है खून
मिलें जंगजू यदि उन्हें डालें उनको भून
डालें उनको भून , हृदय में भड़कें शोले
मगर साठ घंटे तक वीरू जुबां न खोले
दिव्यदृष्टि अब राका उनको सबक सिखाएं
खौल रहा है खून धरम जी ताव दिखाएं

पहले धकियाए गए दिल्ली में शिवराज

पहले धकियाए गए दिल्ली में शिवराज
पाटिल फिर मुम्बई में किए गए बेताज
किए गए बेताज , छिनी दोनों की कुर्सी
करें देशमुख वेट मिले कब मातमपुर्सी
दिव्यदृष्टि अतिवादी लीले दो सौ जानें
डिप्टी सीएम मगर उसे मामूली मानें

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव