मंगलवार, 29 दिसंबर 2009

दिल्ली आना है अगर दीजे एंट्री फीस

शीला अंटी बोलतीं साफ निपोरे खीस
दिल्ली आना है अगर दीजे एंट्री फीस
दीजे एंट्री फीस, रोज पॉकेट कटवाएं
बढ़ा कमाई नित्य प्रदूषण भी घटवाएं
दिव्यदृष्टि चिंतातुर दीखें बबली-बंटी
साफ निपोरे खीस बोलतीं शीला अंटी

गुरुवार, 24 दिसंबर 2009

तेलंगाना पर लिए चिदम्बरम यू-टर्न

पीएम-प्रॉमिस से नहीं कांग्रेस कंसर्न
तेलंगाना पर लिए चिदम्बरम यू-टर्न
चिदम्बरम यू-टर्न, पढ़ें कानूनी पोथी
करते टालमटोल दलीलें देकर थोथी
दिव्यदृष्टि आए दिन ढूंढ़ें नया बहाना
भले धधकता फिरे अहनिर्श तेलंगाना

बुधवार, 23 दिसंबर 2009

नहीं किसी की भी गली झारखंड में दाल

सभी दलों की खींच दी मतदाता ने खाल
नहीं किसी की भी गली झारखंड में दाल
झारखंड में दाल भात भी बिखरा जमकर
ताक रहे इक-दूजे का मुंह लीडर थमकर
दिव्यदृष्टि अब जो दे जितनी ऊंची 'बोली'
मिले उसी को खीर सजे सत्ता की डोली

मंगलवार, 22 दिसंबर 2009

जब तबना रहेगा लक सरकारी मेहमान

जब तबना रहेगा लक सरकारी मेहमान
तंग तब तलक कोर्ट को करे खूब हैवान
करे खूब हैवान, बड़ा अजमल नाशुकरा
रोज बदलता बात बयानों से भी मुकरा
दिव्यदृष्टि इसलिए नहीं उड़वाओ हांसी
उठा जरूरी कदम चढ़ाओ इसको फांसी

रविवार, 20 दिसंबर 2009

हे सुंदरियो झाड़ दो विज्ञापन की गर्द

हे सुंदरियो झाड़ दो विज्ञापन की गर्द
मानव दाढ़ी, मूंछ से कहलाता है मर्द
कहलाता है मर्द यही मशहूर कहावत
देता उन्हें समाज मानमय मीठी दावत
उन्हें भूलसे दिव्यदृष्टि बोलो मत लेजी
बेशक अपने हेतु चुनो मुछमुंडा क्रेजी

शनिवार, 19 दिसंबर 2009

मिस्टर धोनी पर लगा दो मैचों का बैन

मिस्टर धोनी पर लगा दो मैचों का बैन
परेशान फिरते दिवस नींद नैन नहिं रैन
नींद नैन नहिं रैन, किये घातक नादानी
रेफरी ने दी सजा न भाये भोजन-पानी
दिव्यदृष्टि ले गए 'गेस्ट' मैदान मारकर
दो मैचों का बैन लगा मिस्टर धोनी पर

शुक्रवार, 18 दिसंबर 2009

अपने पूर्व बयान से मुकर गया जल्लाद

दहशतगर्द कसाब को फांसी आई याद
अपने पूर्व बयान से मुकर गया जल्लाद
मुकर गया जल्लाद हुई ज्यों ही सुनवाई
बतलाता निर्दोष स्वयं को आज कसाई
दिव्यदृष्टि है ढीठ बहुत ये जालिम बंदा
अत: गले में जल्द डालिए इसके फंदा

बुधवार, 16 दिसंबर 2009

तेलंगाना बन गया कांग्रेस की फांस

तेलंगाना बन गया कांग्रेस की फांस
रुष्ट जगन रेड्डी नहीं छोड़ें कोई चांस
छोड़ें कोई चांस टीस मन में है भारी
एमपी-एमले उधर कर रहे मारामारी
दिव्यदृष्टि संसद में नित होता हंगामा
कांग्रेस की फांस बन गया तेलंगाना

मंगलवार, 15 दिसंबर 2009

राजकोट में रनों का लगा दिया अंबार

राजकोट में रनों का लगा दिया अंबार
सिंहलियों को खूब ही पड़ी करारी मार
पड़ी करारी मार आखिरी दम तक जूझे
भारत की तकरार नहीं वे फिर भी बूझे
दिव्यदृष्टि रणनीति रही धोनी की तगड़ी
तभी बच सकी है प्यारे वनडे में पगड़ी

शनिवार, 28 नवंबर 2009

मराठियों के बन रहे 'बाला' ठेकेदार

मराठियों के बन रहे 'बाला' ठेकेदार
'पुत्रवधू' के सामने मगर हुए लाचार
मगर हुए लाचार स्मिता करे बगावत
कांग्रेस की भाये उसे सियासी दावत
दिव्यदृष्टि प्यारे पहले परिवार बचाएं
बेशक तत्पश्चात ठाकरे नाच नचाएं

बुधवार, 25 नवंबर 2009

किस मजबूरी में भाया परदेसी काजी

ओबामा-मन्नू करें आपस में सहयोग
तभी मिटेगा हिन्द से उग्रवाद का रोग
उग्रवाद का रोग रूप है बहुत भयंकर
अत: जरूरी बने यहां अमेरिकी बंकर
दिव्यदृष्टि ये तां दस्सो मनमोहन पा'जी
किस मजबूरी में भाया परदेसी काजी

खामोशी से देख नित्य शीला की लीला

दिल्ली के स्कूल में खाकर मिड डे मील
छात्र-छात्रा कर रहे बैड बहुत-ही फील
बैड बहुत-ही फील, खूब पसरी बीमारी
हुआ विषैला फूड जान को खतरा भारी
दिव्यदृष्टि मत कर तू अपना दामन गीला
खामोशी से देख नित्य शीला की लीला

सोमवार, 23 नवंबर 2009

रामलला के साथ कर गया कौन अजूबा

रपट हुई आयोग की आखिर कैसे लीक
चिदंबरम बतलाइये खोजबीन कर ठीक
खोजबीन कर ठीक, प्रश्न पूछें अडवानी
कैसे हुआ रिसाव किस तरह आया पानी
दिव्यदृष्टि जो मंदिर का 'सपना' ले डूबा
रामलला के साथ कर गया कौन अजूबा

गुरुवार, 19 नवंबर 2009

हो जाए कल्याण भागवत दीजे भिच्छा

नहीं सपा में पा सके बेचारे जब त्राण
न्यौछावर करने लगे बीजेपी पर प्राण
बीजेपी पर प्राण पुन: पुत्तर संग डोलें
जपें राम का नाम सियासी बानी बोलें
दिव्यदृष्टि है शेष यही अब अंतिम इच्छा
हो जाए कल्याण भागवत दीजे भिच्छा

बुधवार, 18 नवंबर 2009

अमरीका-इंग्लैंड के आएगा जो काम

अमरीका-इंग्लैंड के आएगा जो काम
पीएम पद का हिंद में उसे मिले ईनाम
उसे मिले ईनाम, करे आये दिन दोहन
हैं प्रत्यक्ष प्रमाण यहां इसका मनमोहन
दिव्यदृष्टि जो तुड़वाए जनता का ढाबा
वह प्रधानमंत्री बन सकता राहुल बाबा

मंगलवार, 17 नवंबर 2009

प्रतिभा को सरकार दिखाये दिन में तारे

भारतीय आयोग सब हैं नख-दंतविहीन
सत्तादल सम्मुख सभी फिरें बजाते बीन
फिरें बजाते बीन चरण चिरकुट ये चूमें
पायें बंगला कार सुशोभित पद पर झूमें
दिव्यदृष्टि जो जितना तलवा सहलायेगा
कामयाब आयुक्त यहां वह कहलायेगा
भले किरन बेदी करें कितने अच्छे काम
फिर भी शासन से उन्हें मिले नहीं इनाम
मिले नहीं इनाम, समझ लो आमिर प्यारे
प्रतिभा को सरकार दिखाये दिन में तारे
दिव्यदृष्टि जिसकी 'बैरी' हो नौकरशाही
उसके प्रति गैरों की क्योंकर सुने गवाही

शुक्रवार, 13 नवंबर 2009

ऐशपरस्ती में मगर कहीं न कोई झोल

येदियुरप्पा की भले कुरसी डांवाडोल
ऐशपरस्ती में मगर कहीं न कोई झोल
कहीं न कोई झोल, विरोधी मारें ताना
किंतु मरम्मत पर रोजाना लुटे खजाना
दिव्यदृष्टि सादगी फिरे नित मारी-मारी
ऐसे सादे सीएम पर पब्लिक बलिहारी

नहीं गुण्डई से कभी बनते लोग महान

नहीं गुण्डई से कभी बनते लोग महान
यह सच्चाई दोस्तो जाने सकल जहान
जाने सकल जहान, सुनें नेता मुंबइया
मानुष सभी समान मराठी चाहे भइया
दिव्यदृष्टि इसलिए छोडि़ए ओछा नारा
सचिन सरीखा बनें नेक नैनों का तारा

मन्नू मेरा यार मगर मस्ती में सोये

महंगाई से मच रहा भारी हाहाकार
जनता पूरे देश की है इससे बेजार
है इससे बेजार, बहुत बेचारी रोये
मन्नू मेरा यार मगर मस्ती में सोये
दिव्यदृष्टि को लूट रहे सारे व्यापारी
नहीं दीखती लेकिन कोई छापेमारी

बुधवार, 11 नवंबर 2009

करती महाविनाश रूप धर प्रलयंकारी

होता रहा समाज यदि नित संवेदनहीन
ममता-मानवता मिटे मानें मित्र यकीन
मानें मित्र यकीन प्रताड़ित होंगे सज्जन
पायेंगे सहयोग दुष्ट, दुखकारण-दुर्जन
दिव्यदृष्टि उत्पीड़ित होती जब भी नारी
करती महाविनाश रूप धर प्रलयंकारी

लगे न उसकी पार कभी सपने में नैया

मनसे का नेता बना हिटलर की औलाद
देता है फिर भी मगर गांधी जी की दाद
गांधी जी की दाद, राजनीतिक मजबूरी
करना उनको याद इसलिए बहुत जरूरी
दिव्यदृष्टि जो दो नावों पर चलता भैया
लगे न उसकी पार कभी सपने में नैया

मंगलवार, 10 नवंबर 2009

दीख रहे बेजार बन गया 'बैरी' बब्बर

पुत्रवधू की हार पर चिन्ता का इजहार
खूब मुलायम जी करें दीख रहे बेजार
दीख रहे बेजार बन गया 'बैरी' बब्बर
मारा गहरा घाव घिर गये घर में गब्बर
दिव्यदृष्टि जालिम वोटर ने तोड़ा नाता
नहीं लखनऊ में खुल पाया कोई खाता

सोमवार, 9 नवंबर 2009

उसको सभ्य समाज तो करे नहीं स्वीकार

अबू आजमी से किया जो ओछा व्यवहार
उसको सभ्य समाज तो करे नहीं स्वीकार
करे नहीं स्वीकार, 'बड़ा' हो बेशक गुंडा
निंदनीय है फिर भी 'घृणित' मराठी-मुंडा
दिव्यदृष्टि 'अपमानजनक' जो बोले बोली
फौरन पागल स्वान समझ कर मारो गोली

बादशाह भी 'नाकाबिल' पांवों में गिरते

माया लोकल तंत्र की मित्र बड़ी मगरूर
इसके कारण हो गए 'बड़े-बड़े' मजबूर
'बड़े-बड़े' मजबूर 'हाथ' फैलाये फिरते
बादशाह भी 'नाकाबिल' पांवों में गिरते
दिव्यदृष्टि नैतिकता को नित लगता चूना
इसीलिए जम गया पुन: पाटिल का धूना

रविवार, 8 नवंबर 2009

ताज भले जाए मगर मत बनिए मोहताज

ताज भले जाए मगर मत बनिए मोहताज
वरना आए दिन बढ़े नित्य कोढ़ में खाज
नित्य कोढ़ में खाज, नाज-नखरे झेलोगे
विरोधियों के हाथ विवश होकर खेलोगे
दिव्यदृष्टि होगी छवि धूमिल चप्पा-चप्पा
कद-काठी नित घटे समझिए येदियुरप्पा

गुरुवार, 5 नवंबर 2009

पत्रकारिता को दिए नूतन नित्य प्रकाश

पत्रकारिता को दिए नूतन नित्य प्रकाश
कलमकार दमदार थे जोशी बड़े प्रभाष
जोशी बड़े प्रभाष, काल दे गया गवाही
हार न माने कभी लेखनी-वीर सिपाही
दिव्यदृष्टि में भी लाये जो बरबस आंसू
वह मसिजीवी ही पाये श्रद्धांजलि धांसू

बुधवार, 4 नवंबर 2009

बोलें 'वंदे-मातरम्' पाएं 'शिव' वरदान

बोलें 'वंदे-मातरम्' पाएं 'शिव' वरदान
उद्धव ने जारी किया यह ताजा फरमान
यह ताजा फरमान डालिए फौरन आदत
बेशक तत्पश्चात खुदा की करें इबादत
देशभक्ति का दिव्यदृष्टि नूतन अफसाना
पढ़ें नहीं जो लोग ढूंढ ले पाक-ठिकाना

मंगलवार, 3 नवंबर 2009

उसे बीनने पड़ रहे भटक-भटक कर बेर

जिस रुखसाना ने किया आतंकी को ढेर
उसे बीनने पड़ रहे भटक-भटक कर बेर
भटक-भटक कर बेर टेर दिनरात सुनाये
किंतु सुरक्षित जॉब नहीं उसको मिल पाये
दिव्यदृष्टि पीठस्थ जहां पर काहिल काजी
वहां लगाये कौन मित्र प्राणों की बाजी?

क्रूर कैबिनेट कंचुकी कामयाब कहलाय

पी जाए जो माह में पांच लाख की चाय
क्रूर कैबिनेट कंचुकी कामयाब कहलाय
कामयाब कहलाय, किए बिन कोई देरी
चाहो अगर 'प्रमाण' पहुंच लो पुड्डूचेरी
दिव्यदृष्टि धिक्कार खूब पब्लिक से पाए
पांच लाख की चाय माह में जो पी जाए

सोमवार, 2 नवंबर 2009

डीएनए को बाध्य नहीं हैं तनिक तिवारी

सुत शेखर ने कर दिया मैया को बदनाम
बावजूद इसके नहीं बन पाया कुछ काम
बन पाया कुछ काम सही नारायण बोले
यह नालायक पुत्र शर्मिन्दगी में विष घोले
दिव्यदृष्टि न्यायालय ने 'याचना' निवारी
डीएनए को बाध्य नहीं हैं तनिक तिवारी

शुक्रवार, 30 अक्तूबर 2009

सकते में है आजकल शीला की सरकार

सकते में है आजकल शीला की सरकार
खूब लगाई कोर्ट ने जम करके फटकार
जम करके फटकार जरा मानवता सीखो
नहीं 'याचकों' के ऊपर बेमतलब चीखो
दिव्यदृष्टि वरना 'भिक्षालय' ढह जायेगा
'राज' और तुममें क्या अंतर रह जायेगा?

गुरुवार, 29 अक्तूबर 2009

असंतुष्ट हैं फिर भी 'उनके' साथ रहेंगे

सीएम बनने के लिए मिला उन्हें प्रस्ताव
दिए नहीं कतई मगर विरोधियों को भाव
विरोधियों को भाव, ताव मन में है भारी
लेकिन करें अजीत नहीं हरगिज 'गद्दारी'
दिव्यदृष्टि चाचा से दिल की बात कहेंगे
असंतुष्ट हैं फिर भी 'उनके' साथ रहेंगे

बुधवार, 28 अक्तूबर 2009

हाकिम है बेदर्द सुना मत करुण कहानी

शीला का दामन हुआ 'पावर' से लबरेज
अत: फैसले कर रहीं निठुर सनसनीखेज
निठुर सनसनीखेज, बढ़ाकर मोटर भाड़ा
मुसाफिरों का महंगाई में किया कबाड़ा
दिव्यदृष्टि हर हाल पड़े पॉकिट कटवानी
हाकिम है बेदर्द सुना मत करुण कहानी

शनिवार, 24 अक्तूबर 2009

पांच साल अब और नहीं बन पाये दाढ़ी

बाला साहब आजकल दीख रहे बेहाल
नहीं चुनावों में गली शिवसेना की दाल
शिवसेना की दाल, मराठी मानुष खंजर
गया पीठ में भोंक 'दर्द' हो रहा भयंकर
दिव्यदृष्टि हो गई व्यर्थ सब 'सेवा' गाढ़ी
पांच साल अब और नहीं बन पाये दाढ़ी

शुक्रवार, 23 अक्तूबर 2009

चौटाला चलने लगे चतुर सियासी चाल

भूपिंदर का परख कर हरियाणा में हाल
चौटाला चलने लगे चतुर सियासी चाल
चतुर सियासी चाल दीखती बेशक टेढ़ी
राज्यपाल की किंतु चूम आये वे ड्योढ़ी
दिव्यदृष्टि पड़ सकता है भारी यह पट्ठा
बिखर न जाये मित्र कहीं हुड्डा का मट्ठा

गुरुवार, 22 अक्तूबर 2009

फिर सत्ता से दूर रहे चोटिल चौटाला

कामयाब फिर से रहा हरियाणे में हाथ
भूपिन्दर हुड्डा फिरें करके ऊंचा माथ
करके ऊंचा माथ, साथ मतदाता आये
चहक उठी चौपाल चौधरीजी मुस्काये
दिव्यदृष्टि देवीसुत के घर लटका ताला
फिर सत्ता से दूर रहे चोटिल चौटाला

लूट भतीजा गया खूब चाचा की खोली

बोले उद्धव ठाकरे अति बड़बोले बोल
महाराष्ट्र में खुल गई शिवसेना की पोल
शिवसेना की पोल रह गई खाली झोली
लूट भतीजा गया खूब चाचा की खोली
दिव्यदृष्टि चव्हाण शरद के चेहरे चमके
रही सलामत 'कुर्सी' नाचें-गाएं जमके

बुधवार, 21 अक्तूबर 2009

नहीं चिरौरी का प्यारे अब रहा जमाना

भुज बल से ही जीतते आये योद्धा जंग
भुज बल से ही गगन में ऊंची उड़े पतंग
ऊंची उड़े पतंग, छगन को मगन कराये
शोकाकुल चह्वाण देशमुख फिरें डराये
दिव्यदृष्टि भुज बल से ही है सत्ता पाना
नहीं चिरौरी का प्यारे अब रहा जमाना

सोमवार, 19 अक्तूबर 2009

कोई पूछे तो खुद को सेकुलर बतलाओ

अमरीका जाना अगर तुमको शाहनवाज
फौरन जुदा हुसैन से हो जाओ तुम आज
हो जाओ तुम आज नहीं निष्ठा जतलाओ
कोई पूछे तो खुद को सेकुलर बतलाओ
दिव्यदृष्टि जब तक सत्ता में जीजी-जीजा
'हाथ' दिखायेगा प्यारे अमरीकी 'वीजा'

गुरुवार, 15 अक्तूबर 2009

आइए दीपावली पर हम जलाएं वह ' दिया '

चल रही है हर तरफ फिरकापरस्ती की हवा ,
बढ़ रहा हर शख्स में नित दायरा संदेह का।
खत्म होती जा रही - इन्सानियत की उर्वरा ,
चढ़ रहा उस पर निरंतर आवरण इक रेह का।
पूछ कर देखा अदीबों - आलिमों से खूब ही ,
पर , नहीं उत्तर मिला मित्रो सियासी ठेह का।
आइए दीपावली पर हम जलाएं वह ' दिया '
दिव्यदृष्टि जो करे पावन उजाला ' नेह ' का।

बुधवार, 14 अक्तूबर 2009

तभी लोकप्रिय होते जस्टिस गुंडा स्वामी

जर्जर नित इन्साफ की होती गई मशीन
उसके ऊपर से अत: घटता गया यकीन
घटता गया यकीन उम्र आधी कट जाए
मगर नहीं इन्सान न्याय हासिल कर पाए
दिव्यदृष्टि बढ़ती जाये जुडिशल नाकामी
तभी लोकप्रिय होते जस्टिस गुंडा स्वामी

मंगलवार, 13 अक्तूबर 2009

'सरेआम' क्यों भिजवाई ठर्रे की बोतल

बेशक भेजे माल्या 'प्रेम' सहित उपहार
किन्तु भाजपा सांसद करें नहीं स्वीकार
करें नहीं स्वीकार संस्कृति भिन्न बताते
इसीलिए लेटर लिख कर वे रोष जताते
दिव्यदृष्टि है निंदनीय यह हरकत टोटल
'सरेआम' क्यों भिजवाई ठर्रे की बोतल

सोमवार, 12 अक्तूबर 2009

झटपट एक करोड़ 'रंगदारी' भिजवाओ

'ज़िंदा' लोगों में अगर होना तुम्हें शुमार
मानो उनकी मांग को तुम नीतीश कुमार
तुम नीतीश कुमार, न कतई देर लगाओ
झटपट एक करोड़ 'रंगदारी' भिजवाओ
दिव्यदृष्टि धमकी देता फिर रहा 'दरिंदा'
होना तुम्हें शुमार अगर लोगों में 'जिंदा'

रविवार, 11 अक्तूबर 2009

उन्हें भला शिक्षा से क्या है लेना-देना

माया लोकल तंत्र की भारत में मशहूर
जिसमें भ्रष्टाचार नित पनप रहा भरपूर
पनप रहा भरपूर, माल सरकारी खाते
फिर भी ब्यूरोक्रैट बिचारे नहीं अघाते
दिव्यदृष्टि नेता गण चाबें वोट-चबेना
उन्हें भला शिक्षा से क्या है लेना-देना
हंसों को झूठा चना, मोती चुनते काग
लक्ष्मीवाहन जीमते कोयल वाला भाग
कोयल वाला भाग भैरवी गिद्ध गा रहे
सारे बगुला भगत प्रशंसा नित्य पा रहे
दिव्यदृष्टि हो जहां सियारों की प्रभुताई
वहां सिंह सम्मान किस तरह पाए भाई

सुलगे अगर समाज में असंतोष की आग

सुलगे अगर समाज में असंतोष की आग
तो यह निश्चित जानिए शासन में है दाग
शासन में है 'दाग' नीति-नीयत है खोटी
भूखों मरें 'मजूर' उड़ायें 'शोषक' बोटी
नहीं दीखता दिव्यदृष्टि जब कोई 'चारा'
मजबूरी में तभी 'व्यक्ति' बनता हत्यारा
कहने को तो 'डॉक्टर' चला रहे सरकार
किन्तु नक्सली रोग का पता नहीं उपचार
पता नहीं उपचार रोज चलती क्यों गोली
बोल रहे क्यों लोग बगावत वाली बोली
दिव्यदृष्टि इसलिए जल्द लक्षण पहचानो
बेशक उसके बाद 'आपरेशन' की ठानो

गुरुवार, 8 अक्तूबर 2009

फिर भी वेंकटरमन कोटिश: तुम्हें बधाई

घर का जोगी जोगड़ा आन गांव का सिद्ध
सदियों से साबित किए यही कहावत गिद्ध
यही कहावत गिद्ध, निरन्तर जारी गायन
इसीलिए भारत से 'प्रतिभा' करे पलायन
दिव्यदृष्टि है अकथनीय यह 'पीड़ा' भाई
फिर भी वेंकटरमन कोटिश: तुम्हें बधाई

बुधवार, 7 अक्तूबर 2009

बन कर 'भागीदार' समस्या दर्ज कराएं

दिल्ली वालों से करें शीला नेक अपील
फौरन फोन घुमाइए अगर बैड हो फील
अगर बैड हो फील, राह में दीखे गड्ढा
या हो गंदा पार्क बना कचरे का अड्डा
दिव्यदृष्टि सुन्दर शहरी का फर्ज निभाएं
बन कर 'भागीदार' समस्या दर्ज कराएं
दीखे पहली नजर में उत्तम बहुत विचार
इसीलिए तो कर रहा शासन खूब प्रचार
शासन खूब प्रचार, हेल्पलाइन बनवाये
जगह-जगह विज्ञापन में नम्बर छपवाये
दिव्यदृष्टि यह किन्तु बतायें शीला अंटी
कौन लगाएगा नौकरशाही को संटी।

मंगलवार, 6 अक्तूबर 2009

जनप्रतिनिधि गिरेबान में अपने झांकें

भिन्न-भिन्न व्यापार में विशेषज्ञ जो लोग
वही कर रहे ज्ञान का जनहित में उपयोग
जनहित में उपयोग, रात-दिन सेवा करते
तब उसके बदले में श्रम का 'मेवा' चरते
दिव्यदृष्टि जो लोग 'कमाई' उनकी आंकें
वे 'जनप्रतिनिधि' गिरेबान में अपने झांकें

सोमवार, 5 अक्तूबर 2009

उसे राज की फिक्र सताती है डेनाइट

छत्रपती के नाम पर झूठा रोज प्रचार
महाराष्ट्र में कर रही कांग्रेस सरकार
कांग्रेस सरकार, पयोनिधि मूरत थापे
समाचार सुन क्रुद्ध ठाकरे सूरत कांपे
दिव्यदृष्टि सेना की दीखे हालत टाइट
उसे राज की फिक्र सताती है डेनाइट

शनिवार, 3 अक्तूबर 2009

कांग्रेस छलका रही दलित-प्रेम का जाम

कांग्रेस छलका रही दलित-प्रेम का जाम
शबरी-आश्रम में अतः पहुंच गये श्रीराम
पहुंच गए श्रीराम, नाम 'बापू' का लेकर
श्रवण समस्या किए सांत्वना भारी देकर
दिव्यदृष्टि यदि राजभवन सुख चाहें माता
तो बस यही उपायः तजें 'माया' से नाता

गुरुवार, 1 अक्तूबर 2009

ले बापू का नाम गोल्डन कलम खरीदो

गांधी को जब बेचते रोज सियासतदान
तब तो उफ करता नहीं नेता एक महान
नेता एक महान, साथ ही फिल्म सितारे
करते 'गांधीगीरी' सिर्फ शोहरत के मारे
दिव्यदृष्टि इसलिए तजो कोहराम मुरीदो
ले बापू का नाम गोल्डन कलम खरीदो

बुधवार, 30 सितंबर 2009

रिश्तेदारों को 'दलाल' मत बोलो मेरे भाई

दांत पीसते, बाल नोचते पेपर बगल दबाये
हुए क्रोध से लाल सुधारक जी मेरे घर आये
उषाकाल दरवाजे पर सुन हाहाकारी दस्तक
अनहोनी की आशंका से ठनका मेरा मस्तक
सहमे-सहमे जीर्णद्वार को ज्यों ही मैंने खोला
दाग दिये बेरहमी से बोफोर्स तोप का गोला
बोले जिसके कारण प्यारे हुई खूब रुसवाई
उसी केस को बंद कर रही काहे सीबीआई
टेढ़ा प्रश्न सुना तो खीझा उनके भोलेपन पर
लेकिन चोट लगी थी भारी मेरे गीले मन पर
दवित हृदय से मैंने उनको सीधी बात बताई
रिश्तेदारों को 'दलाल' मत बोलो मेरे भाई
दिव्यदृष्टि बहनोई के घर करता जो घोटाला
बिन सबूत के साफ बरी हो जाता है वो साला

मंगलवार, 29 सितंबर 2009

काटी पहले मैच में जिसने जमकर नाक

काटी पहले मैच में जिसने जमकर नाक
उस बैरी का मुख रही टीम इंडिया ताक
टीम इंडिया ताक, पाक मारे फिर बाजी
पिटे वेस्ट इंडीज पराजय पाय 'जहाजी'
तभी खुलेगी दिव्यदृष्टि सेमी में खिड़की
वरना आए हाथ महज धोनी के झिड़की

शनिवार, 26 सितंबर 2009

बड़े शौक से चांद पर जल ढूंढे सरकार

बड़े शौक से चांद पर जल ढूंढे सरकार
पर धरती के 'नीर' से छांटे खर-पतवार
छांटे खर-पतवार, वारि घर में जो आये
हो वह निर्मल शुद्ध जिसे मानुष पी पाये
दिव्यदृष्टि पहले वसुधा पर जान बचाओ
बेशक उसके बाद चंदमा पर बस जाओ

मना बर्थडे केक हमारे घर भिजवाएं

हुए छियासी साल के दादा देवानंद
सतहत्तर से पी रहे मनमोहन मकरंद
मनमोहन मकरंद मुबारक मेवा मस्ती
रहे सलामत प्रेमपुजारी की भी बस्ती
हम दोनों को दिव्यदृष्टि दे रहे दुआएं
मना बर्थडे केक हमारे घर भिजवाएं

शुक्रवार, 25 सितंबर 2009

यूएस से आई खबर मिले ट्रिपल खैरात

यूएस से आई खबर मिले ट्रिपल खैरात
जरदारी-मन में खुशी फूली नहीं समात
फूली नहीं समात, बात बड़बोली बोलें
उग्रवाद की ताकत अपनी तिगुनी तोलें
दिव्यदृष्टि हासिल करके अमरीकी गंडा
लाल किले पर सपने में फहरा दें झंडा

गुरुवार, 24 सितंबर 2009

बिना सूचना के ही चढ़ते उनकी छाती

श्रवण राजमाता करें माया की मनुहार
परेशान करते बहुत उनको राज कुमार
उनको राज कुमार, तार देते नहिं पाती
बिना सूचना के ही चढ़ते उनकी छाती
दिव्यदृष्टि तज दें दौरा करना मनमाना
पालें 'प्रोटोकॉल' पड़े वरना पछताना

बुधवार, 23 सितंबर 2009

फूल खिले लंका खुशबू भारत में महके

हींग लगी ना फिटकरी आया चोखा रंग
धोनी के मन में उठी जिसको देख उमंग
जिसको देख उमंग, छरहरे प्लेयर चहके
फूल खिले लंका खुशबू भारत में महके
दिव्यदृष्टि जल वृष्टि बनी प्यारे 'पैगम्बर'
तभी हमारे हाथ आ सका अव्वल नम्बर

मंगलवार, 22 सितंबर 2009

पांच बरस तक आप ढूंढ़ते रह जाओगे

रह जाओगे ढूंढ़ते पांच बरस तक आप
अगर चुनोगे सांसद हीरो, प्लेयर छाप
हीरो, प्लेयर छाप, दुबारा नजर न आएं
अलबत्ता वे फिल्म, खेल में रंग जमाएं
दिव्यदृष्टि ऐसे प्रतिनिधि पा पछताओगे
पांच बरस तक आप ढूंढ़ते रह जाओगे

शनिवार, 19 सितंबर 2009

बेदी पर कर्तव्य की देकर अपने प्राण

बेदी पर कर्तव्य की देकर अपने प्राण
शर्मा मोहन चंद ने उत्तम दिया प्रमाण
उत्तम दिया प्रमाण त्राण पुरवासी पाए
बनी निरापद रात दिवस आनंद समाए
दिव्यदृष्टि है धन्य शहादत मित्र तुम्हारी
वीरोचित श्रद्धांजलि लीजे अत: हमारी

शुक्रवार, 18 सितंबर 2009

हुआ नपुंसक राजनय नेता बने सियार

हुआ नपुंसक राजनय नेता बने सियार
कानन रोदन ही उन्हें मित्रो लगे पियार
मित्रो लगे पियार जंगजू जब भी आएं
अकर्मण्य सारे चूहे बिल में घुस जाएं
दिव्यदृष्टि बे-चारे शासक सोहें दिल्ली
इसीलिए है बेलगाम अतिवादी बिल्ली

गुरुवार, 17 सितंबर 2009

मन्नू ने बनवा दिया मंत्री उन्हें जरूर

मन्नू ने बनवा दिया मंत्री उन्हें जरूर
मगर तजुर्बे की कमी है उनमें भरपूर
है उनमें भरपूर, सियासी दांव न जानें
सीधे शशि थरूर गैर को अपना मानें
दिव्यदृष्टि वह बोलें, सदा परायी भाषा
इसीलिए होती है हमको मित्र निराशा

बुधवार, 16 सितंबर 2009

आलिंगन की चाह स्वयं होंठों पर आए

शिल्पा के संग देखकर बाबा की तस्वीर
कई मनचलों का हृदय होने लगा अधीर
होने लगा अधीर फिरें कामी खिसियाए
आलिंगन की चाह स्वयं होंठों पर आए
दिव्यदृष्टि यदि पाते नेह सरित का सोता
सिने-तारिका सहित लगाते वे भी गोता

मंगलवार, 15 सितंबर 2009

बल्ला देता सचिन का फौरन उन्हें जवाब

बल्ला देता सचिन का फौरन उन्हें जवाब
उनकी बढ़ती उम्र को जो कह रहे खराब
जो कह रहे खराब, करें नित नुक्ताचीनी
उन्हें नहीं मालूम 'हकीकत ज़रा ज़मीनी' '
दिव्यदृष्टि' बेवजह मचाएं जो भी हल्ला
फौरन उन्हें जवाब सचिन का देता बल्ला
हहराए फिर हरभजन विकेट ले गए पांच
'टीम सिंहली' टूटकर बिखरी जैसे कांच
बिखरी जैसे कांच, आंच राहुल की भारी
धोनी औ' युवराज बन गए काल कटारी
दिव्यदृष्टि लंका में विजयी ध्वज फहराए
विकेट ले गए पांच हरभजन फिर हहराए

सोमवार, 14 सितंबर 2009

किंतु परम 'संतुष्ट' हमारी शीला अंटी

तैयारी की देख कर दिल्ली में रफ्तार
सीजीएफ मुखिया हुए बेपनाह बेजार
बेपनाह बेजार, हो रहे चिंतित फैनल
बना रहे हैं सुर्खी उसको टीवी चैनल
दिव्यदृष्टि खेलों पर है खतरे की घंटी
किंतु परम 'संतुष्ट' हमारी शीला अंटी

रविवार, 13 सितंबर 2009

देख जवाबी गोली मूसक बिल में भागे

ओछी हरकत कर रहा पाजी पाकिस्तान
घोषित युद्ध विराम को नहीं रहा है मान
नहीं रहा है मान, निशा-चर राकेट दागे
देख जवाबी गोली मूसक बिल में भागे
दिव्यदृष्टि सीमा की घटना समझी-सोची
पाजी पाकिस्तान कर रहा हरकत ओछी

शुक्रवार, 11 सितंबर 2009

तुरत कीजिए चोट लगाकर वहां निशाना

इत सूखे से त्रस्त हैं सचमुच लोग विपन्न
मिले नहीं दो जून उत ज्यादातर को अन्न
ज्यादातर को अन्न सड़े सड़कों पर गंदम
नीयत नहीं दुरुस्त सुस्त अधिकारी तंत्रम
दिव्यदृष्टि 'लापरवाही' का जहां ठिकाना
तुरत कीजिए चोट लगाकर वहां निशाना

गुरुवार, 10 सितंबर 2009

मार-मार मुक्का करे बैरी को बेहाल

युवा विजेंदर जूझता लेकर ऊंचा भाल
मार-मार मुक्का करे बैरी को बेहाल
बैरी को बेहाल निकाले खूब कचूमर
करें प्रशंसा लोग खुशी से झूमें झूमर
दिव्यदृष्टि मन्नू करते यदि मुक्केबाजी
नहीं उठाता आंख पड़ोसी कोई पाजी

बुधवार, 9 सितंबर 2009

झांसी वाली रानी के 'वंशज' अब भूखे मरते हैं

सपने में कल रात सुभद्रा जी को जब मैंने देखा
थी मित्रो मुख मंडल पर मायूसी की मोटी रेखा
फिर भी दे आशीष लगीं कहने कैसे जी लेते हो
बुन्देलों के दुख पर होंठों को कैसे सी लेते हो?
झांसी वाली रानी के 'वंशज' अब भूखे मरते हैं
दीन-हीन दयनीय दशा में 'पत्तल रूखे' चरते हैं
हाथ जोड़ कर बोला मैं देवी सचमुच शर्मिन्दा हूं
कहने को तो हूं स्वतंत्र पर 'पराधीन' बाशिन्दा हूं
बावजूद इसके मैं माता भरसक कलम चलाऊंगा
सत्ता के गलियारों को नित 'निंदा' से दहलाऊंगा
व्यर्थ न जाने दूंगा हरगिज रानी की कुरबानी को
फैलाऊंगा जन-मानस में उनकी शौर्य कहानी को
दिव्यदृष्टि उनके सपनों की बगिया फिर लहराएगी
जिसमें 'मक्कारों' की मैली ध्वजा नहीं फहराएगी

पुत्तर पाकिस्तान सा अमरीका सा बाप

पुत्तर पाकिस्तान सा अमरीका सा बाप
मित्रो पाना है कठिन बेशक ढूंढ़ें आप
बेशक ढूंढ़ें आप चतुर्दिक दीप जलाये
ऐसा तोताचश्म कहीं भी नजर न आये
विश्व चक्षु में दिव्यदृष्टि जो झोंके गर्दा
लेकिन बेटे की हरकत पर डाले पर्दा

मंगलवार, 8 सितंबर 2009

मंत्रीजी को चाहिए बंगला खुशबूदार

सरकारी घर में बहुत बदबू आये यार
मंत्रीजी को चाहिए बंगला खुशबूदार
बंगला खुशबूदार भले होटल में पाएं
कौन करे भुगतान सही वे नहीं बताएं
दिव्यदृष्टि नाहक नुक्ताचीनी करता है
प्यारे मोटा माल मिनिस्टर ही चरता है

सोमवार, 7 सितंबर 2009

लाल हुई किस तरह मित्र लद्दाखी धरती

सिर धुनते आए सुबह चंपू चिरकुटलाल
नयन नचाते क्रोध से पूछे कठिन सवाल
पूछे कठिन सवाल, हमें बतलाओ भाया
भारत की सरहद में काहे 'ड्रैगन' आया
दिव्यदृष्टि सेना की बकरी कहां विचरती
लाल हुई किस तरह मित्र लद्दाखी धरती
सुनकर बर्निंग क्वेश्चन दिव्यदृष्टि बेहाल
काला दीखा दाल में मन में उठा मलाल
मन में उठा मलाल नहीं यदि शायर होता
चीनी-चूहों पर फौरन ही 'फायर' होता
मिट जाती घुसपैठ याद आ जाती नानी
नहीं स्वप्न में करते फिर हरकत बचकानी

शनिवार, 5 सितंबर 2009

भगवान से भी ऊंचा दर्जा यहां तुम्हारा

भगवान से भी ऊंचा दर्जा यहां तुम्हारा
आदर सदा करें हम कर्तव्य है हमारा
तुमने पकड़ के ऊंगली पढ़ना हमें सिखाया
सम्मान के शिखर पर चढ़ना हमें सिखाया
अज्ञान के जलधि से तुमने हमें उबारा
भगवान से भी ऊंचा दर्जा यहां तुम्हारा
हम हैं अबोध बालक तुम ज्ञान-बुद्धिदाता
कायम रहे धरा पर गुरु-शिष्य का ये नाता
शिक्षक दिवस समर्पित श्रद्धासुमन हमारा
भगवान से भी ऊंचा दर्जा यहां तुम्हारा

शुक्रवार, 4 सितंबर 2009

सत्ता के यमदूत, किए धारण मक्कारी

रेड्डी को हासिल हुआ नहीं अभी ताबूत
फिर भी दीखें युद्धरत सत्ता के यमदूत
सत्ता के यमदूत, किए धारण मक्कारी
खीं च-तान में लिप्त करें हरकत हत्यारी
दिव्यदृष्टि नैतिकता के नक्कारे गाफिल
हुआ नहीं ताबूत अभी रेड्डी को हासिल

गुरुवार, 3 सितंबर 2009

सौदेबाजी में अब तजें कमीशनखोरी

घटिया हेलिकॉप्टर ले लेता जो जान
बेड़े से बाहर करें जल्द उसे श्रीमान
जल्द उसे श्रीमान नसीहत मानें मोरी
सौदेबाजी में अब तजें कमीशनखोरी
दिव्यदृष्टि रेड्डी जैसों की जान बचायें
नहीं चीलगाड़ी घातक भारत में लायें

बुधवार, 2 सितंबर 2009

बापू को बेटा बम की ताकत दिखलाए

परदेसी इमदाद से रोज चलाये काम
फिर भी भूखे पेट ले इंतकाम का नाम
इंतकाम का नाम, सचाई को झुठलाए
बापू को बेटा बम की ताकत दिखलाए
दिव्यदृष्टि जो खुद ही मरने को आमादा
उस मूरख को कौन भला समझाए दादा

मंगलवार, 1 सितंबर 2009

सैनिक खाली पेट जीतता जंग न बेटा

खंडित भारत का उसे दीखे स्वप्न हसीन
लेकिन अपनी कैफियत भूल रहा है चीन
भूल रहा है चीन, बिके ज़ालिम के दाने
अर्थव्यवस्था चौपट फिर भी मुक्का ताने
'दिव्यदृष्टि' यह तथ्य नहीं कतई सपरेटा
सैनिक 'खाली पेट' जीतता जंग न बेटा

सोमवार, 31 अगस्त 2009

राजनाथ के साथ 'राम' का भजन कीजिए

पीएम बनने का नहीं दीख रहा अब चांस
अत: आडवाणी तजें पॉलिटिक्स का डांस
पॉलिटिक्स का डांस, गेरुआ करके धारण
ग्रहण करें 'संन्यास' तभी हो कष्ट निवारण
दिव्यदृष्टि अनमोल मशवरा 'मुफ्त' लीजिए
राजनाथ के साथ 'राम' का भजन कीजिए

शनिवार, 29 अगस्त 2009

बहुत भाजपा में बढ़ी जब जूतम पैजार

बहुत भाजपा में बढ़ी जब जूतम पैजार
चिंता में घुलने लगा तभी संघ परिवार
तभी संघ परिवार भागवत दिल्ली आए
स्वयंसेवकों को जमकर उपदेश सुनाए
दिव्यदृष्टि जो भी नेता बन रहा समस्या
वही छोड़ दे कुर्सी जाकर करे तपस्या

शुक्रवार, 28 अगस्त 2009

बसपा को बदनाम करे चंदे का धंधा

चंदे का धंधा करे बसपा को बदनाम
माया दीदी ने दिया 'वर्कर' को पैगाम
वर्कर को पैगाम, बर्थडे भले मनाओ
पर गरीब इंजीनियरों को नहीं सताओ
दाताओं का दिव्यदृष्टि देखो दृढ़ कंधा
बसपा को बदनाम करे चंदे का धंधा

गुरुवार, 27 अगस्त 2009

मान गए 'मी लॉर्ड' करें जाहिर प्रॉपर्टी

ब्यौरा दे सम्पत्ति का जज शैलेन्द्र कुमार
पेश कर दिए देश में अपने उच्च विचार
अपने उच्च विचार, नेक है जीवन सादा
यह भारत की नीति यही इसकी मर्यादा
दिव्यदृष्टि इसलिए छोड़कर नीयत डर्टी
मान गए 'मी लॉर्ड' करें जाहिर प्रॉपर्टी

बुधवार, 26 अगस्त 2009

बीजेपी में बेसुरा बजा बगावत राग

बीजेपी में बेसुरा बजा बगावत राग
देतीं ताल वसुंधरा जस्सू गाएं फाग
जस्सू गाएं फाग, भैरवी छेड़ें शौरी
लिए नई करताल नाचते हैं खंडूरी
दिव्यदृष्टि सारे विद्रोही 'गारी' गाएं
देख दुर्दशा राजनाथ भारी पछताएं

सोये सुख की सेज सजन के संग किशोरी

चीखें नाहक नित्यप्रति चंपू चिरकुट लाल
बिजली का है हिन्द में कतई नहीं अकाल
कतई नहीं अकाल, भरी हो अगर तिजोरी
सोये सुख की सेज सजन के संग किशोरी
दिव्यदृष्टि मनमोहन लें 'पावर-फुल' भीखें
चंपू चिरकुट लाल नित्यप्रति नाहक चीखें

मंगलवार, 25 अगस्त 2009

फौरन कटी पतंग की संघ थाम ले डोर

देख भाजपा की दशा शौरी करते शोर
फौरन कटी पतंग की संघ थाम ले डोर
संघ थाम ले डोर, जोर का मारे झटका
मठाधीश जो बने उसी का फोड़े मटका
दिव्यदृष्टि अनुशासन का डंडा फटकारे
कूड़ा-करकट छाप बदल दे नेता सारे

सोमवार, 24 अगस्त 2009

छुटभैयों के हाथ ज्यों आई मोटर कार

छुटभैयों के हाथ ज्यों आई मोटर कार
रोज रेज का बढ़ गया त्यों ही कारोबार
त्यों ही कारोबार, कृष्ण धन लाये गर्मी
सहनशीलता घटी कुचालक भूले नर्मी
दिव्यदृष्टि दुर्बल को जो भी दुष्ट सताए
हर हालत में पुलिस उसे औकात बताए

शनिवार, 22 अगस्त 2009

जिस अडवानी के लिए बोला मैंने झूठ

जिस अडवानी के लिए बोला मैंने झूठ
उसने ही कमजोर की 'दल' में मेरी मूठ
दल में मेरी मूठ, मुझे करवाया 'फायर'
मैं भी उस पर केस करूं जनता में दायर
दिव्यदृष्टि मैं राम कसम सच ही बोलूंगा
है यह दीगर बात पोल उनकी खोलूंगा

शुक्रवार, 21 अगस्त 2009

अद्भुत भारतवर्ष में न्यायालय का सीन

अद्भुत भारतवर्ष में न्यायालय का सीन
सोहें जज की 'पीठ' पर नर संवेदनहीन
नर संवेदनहीन, परिन्दों की भी पेशी
मांगें न्यायाधीश अजब कानून स्वदेशी
भले कोर्ट में दिव्यदृष्टि चिडि़या मर जाएं
फिर भी वे इंसाफ नहीं हासिल कर पाएं

गुरुवार, 20 अगस्त 2009

मन राखी सावंत का बहुत रहा है डोल

मन राखी सावंत का बहुत रहा है डोल
दूल्हे के प्रति दोस्तो बदले उनके बोल
बदले उनके बोल, हो रही है यह चर्चा
उठा न पायेगा इलेश दुल्हन का खर्चा
दिव्यदृष्टि पहले वह ढूंढ़े कोई 'खोली'
तभी चढ़े बारात सजे शादी की डोली

पेट भरें किस भांति जुगत बतलाओ पुत्तर

महंगाई की मार से पीड़ित चिरकुट लाल
पूछ रहे सरकार से 'जलता' हुआ सवाल
'जलता' हुआ सवाल दीजिए मोहन उत्तर
पेट भरें किस भांति जुगत बतलाओ पुत्तर
दिव्यदृष्टि जो महंगा करते नित्य 'निवाला'
कब तक उनका साथ निभाओगे तुम लाला

बुधवार, 19 अगस्त 2009

इसीलिए हो गए एक झटके में आउट

जिन्ना पर जसवंत के आत्मीय उद्गार
नहीं भाजपा को हुए सपने में स्वीकार
सपने में स्वीकार, न कोई इसमें डाउट
इसीलिए हो गए एक झटके में आउट
दिव्यदृष्टि जो भी छोड़ेगा भगवा रस्ता
बांध दिया जायेगा प्यारे उसका बस्ता

आये दिन ईमान बेचते अपना शातिर

चालक जो टूरिस्ट को करते हैं हैरान
इज्जत हिन्दुस्तान की खोते वो नादान
खोते वो नादान चन्द पैसे की खातिर
आये दिन ईमान बेचते अपना शातिर
दिव्यदृष्टि इसलिए यही पैगाम हमारा
दे दुष्टों को दण्ड दिखाएं दिन में तारा

मंगलवार, 18 अगस्त 2009

दिखलाया कप्तान ने धमकीवाला हाथ

डीडीसीए में उन्हें 'दैत्य' रहे अब दीख
अत: रुष्ट हो चौधरी वीरू बोले चीख
वीरू बोले चीख जेटली जज्बा सुनिए
भ्रष्टाचारविहीन सिलेक्टर उम्दा चुनिए
दिव्यदृष्टि यदि हटे न भ्रष्टाचारी रावन
रण-जी में थामेंगे हरियाणा का दामन
दिखलाया कप्तान ने धमकीवाला हाथ
फौरन हुए सपोर्ट में नेहरा-गौतम साथ
नेहरा-गौतम साथ, नहीं शरमा शरमाये
वह भी बागी बने अंतत: खुलकर आये
दिव्यदृष्टि दीवार अरुण की उन्हें ढहानी
अत: करप्शन की गढ़ बैठे राम कहानी

सोमवार, 17 अगस्त 2009

वही राइटर दुनिया में फौरन बिक जाए

देश विभाजन के लिए नेहरू जिम्मेदार
कहते हैं जसवंत जी किए शब्द श्रृंगार
किए शब्द श्रृंगार लिखी है नूतन पोथी
भरीं अनर्गल बातें उसमें जमकर थोथी
दिव्यदृष्टि जो भी जिन्ना को ग्रेट बताए
वही राइटर दुनिया में फौरन बिक जाए

गुरुवार, 13 अगस्त 2009

दी हमको सरकार ने सौ दिन रोटी-दाल

जनता से कहते फिरें नेता चिरकुट लाल
दी हमको सरकार ने सौ दिन रोटी-दाल
सौ दिन रोटी-दाल मजे से धनिया खाये
बदले में मनमोहन के 'गोबर' गुण गाये
दिव्यदृष्टि नित खुशहाली ला रहा नरेगा
सुखिया बाकी साल भूख से भले मरेगा

मंगलवार, 11 अगस्त 2009

'पंचशील' का रोयेंगे तब पंडित दुखड़ा

जर्जर हालत देख कर सोच रहा है चीन
भारत के टुकड़े करे जल्द नए दो-तीन
जल्द नए दो-तीन बागियों को बहकाए
'होम लैंड' की मांग शातिरों से उठवाए
दिव्यदृष्टि सीमाओं पर जब आग जलेगी
उसकी सेना लाल तोप को दाग चलेगी
सरहद पर जब देश की बिगड़ेंगे हालात
तभी 'कबूतरबाज' सब खा जाएंगे मात
खा जाएंगे मात, पड़ोसी मिल कर सारे
जमकर हमला करें तोड़ दें 'हाथ' हमारे
दिव्यदृष्टि जब हो जाएगा खंडित मुखड़ा
'पंचशील' का रोयेंगे तब पंडित दुखड़ा

निंदक को क्यों जान-बूझकर गले लगाये

अडवानी अब दीजिये जाकर जल्द हिसाब
बरनी से लिखवा लिए काहे आप किताब
काहे आप किताब संघ को समझ न आये
निंदक को क्यों जान-बूझकर गले लगाये
दिव्यदृष्टि 'दुश्मन' से यह अनुवाद कराना
करे नहीं स्वीकार कदाचित कभी 'घराना'

सोमवार, 10 अगस्त 2009

उन्हें बांग्लादेश तुरत वापस भिजवाए

जिन्हें समझ शरणार्थी दी थी कभी पनाह
अब उनके मन में उठी होम लैंड की चाह
होम लैंड की चाह, बढ़ा कर ताकत भारी
नए इलाके की करते शातिर तैयारी
दिव्यदृष्टि इसलिए न भारत देर लगाए
उन्हें बांग्लादेश तुरत वापस भिजवाए

शुक्रवार, 7 अगस्त 2009

करें शिष्ट व्यवहार कीमती समय बचाएं

करें पार्लियामेंट का टाइम जो बरबाद
नहीं रहेंगे सदन में वे प्रतिनिधि आबाद
वे प्रतिनिधि आबाद नसीहत देतीं मीरा
पब्लिक ने है चुना मानकर उनको हीरा
दिव्यदृष्टि इसलिए न ज्यादा शोर मचाएं
करें शिष्ट व्यवहार कीमती समय बचाएं

दिए दर्जनों मार तनिक भी लाज न आई

कुत्ते-बिल्ली समझकर गोली की बौछार
जमकर अजमल ने करी दिए दर्जनों मार
दिए दर्जनों मार तनिक भी लाज न आई
फिर भी होकर ढीठ मांगता मटन कसाई
दिव्यदृष्टि इसलिए नया नुस्खा अपनाओ
मारो पागल स्वान भूनकर उसे खिलाओ

गुरुवार, 6 अगस्त 2009

जब मांगे कश्मीर तमाचा मुंह पर धरिए

समझे हिन्दुस्तान को दुश्मन नम्बर एक
नीयत पाकिस्तान की मित्र नहीं है नेक
मित्र नहीं है नेक, जंगजू शिविर चलाए
हत्यारे, हथियार नित्य शातिर भिजवाए
दिव्यदृष्टि इसलिए दुष्ट से बात न करिए
जब मांगे कश्मीर तमाचा मुंह पर धरिए

बुधवार, 5 अगस्त 2009

भाई बनकर राखी से 'राखी' बंधवा लें

रहे 'स्वयंवर' में कभी जो दूल्हे नाकाम
राखी के मन में अभी है उनका सम्मान
है उनका सम्मान भले वह बनी न बीवी
इज्जत फिर भी खूब उन्हें दिलवाए टीवी
दिव्यदृष्टि इसलिए नया रिश्ता अपना लें
भाई बनकर राखी से 'राखी' बंधवा लें

मंगलवार, 4 अगस्त 2009

जमकर भ्रष्टाचार कर रहे तेल मिनिस्टर

तेल मिनिस्टर कर रहे जमकर भ्रष्टाचार
देते सतत मुकेश को अरबों का उपहार
अरबों का उपहार लाभ उसको पहुंचाएं
बदले में मुरली खुद 'मोटा माल' बनाएं
दिव्यदृष्टि आरोप मुलायम मढ़ें सिनिस्टर
जमकर भ्रष्टाचार कर रहे तेल मिनिस्टर

सोमवार, 3 अगस्त 2009

राखी ने चुन ही लिया दूल्हा आखिरकार

राखी ने चुन ही लिया दूल्हा आखिरकार
हुआ 'स्वयंवर' पूर्ण पर शादी से इनकार
शादी से इनकार, मगर 'डेटिंग' पर जाएं
जांच-परखकर ही विवाह का मूड बनाएं
दिव्यदृष्टि जब 'पूर्ण तसल्ली' होगी भाई
तभी बजेगी उनके घर-आंगन शहनाई

शनिवार, 1 अगस्त 2009

बूटा का बेटा गया पकड़ा लेते घूस

बूटा का बेटा गया पकड़ा लेते घूस
सरबजोत से कर रहे पूछताछ जासूस
पूछताछ जासूस छिपाओ नहीं सचाई
इतनी मोटी रकम कहां से कैसे आई
दिव्यदृष्टि वह बोला मेरी नहीं खता है
डैडी को इस बारे में सब साफ पता है

शुक्रवार, 31 जुलाई 2009

जीते कैसे जंग भला फिर फौजी दस्ता

अरबों रुपये खर्च कर आए जो हथियार
उनमें से अधिकांश अब पड़े हुए बेकार
पड़े हुए बेकार, किसी की गोली गीली
लगा किसी को जंग तोप है कोई ढीली
दिव्यदृष्टि है हथियारों की हालत खस्ता
जीते कैसे जंग भला फिर फौजी दस्ता

गुरुवार, 30 जुलाई 2009

शीला की हट्टी गए लेने सस्ती दाल

सारे धंधे छोड़कर चाचा चिरकुटलाल
शीला की हट्टी गए लेने सस्ती दाल
लेने सस्ती दाल, माल का टोटा भारी
हुई सुबह से शाम न दीखी कोई लारी
दिव्यदृष्टि जब नहीं एक भी दाना पाए
सिर धुनते पछताते लौटे मुंह लटकाए

बुधवार, 29 जुलाई 2009

महबूबा के हमलों का हो गया कबाड़ा

फंसे शोपियां कांड में जो नेता मुंहजोर
मचा रहे कश्मीर में वे ही शातिर शोर
वे ही शातिर शोर बेवजह करते चुगली
अत: उमर ने फेंकी इस्तीफे की गुगली
दिव्यदृष्टि नैतिकता का है बजा नगाड़ा
महबूबा के हमलों का हो गया कबाड़ा

मंगलवार, 28 जुलाई 2009

दाल-भात के बदले मुर्गी रोल मिलेगा

बैठें अगर विमान में शाकाहारी लोग
जरा गौर से वे करें खाने का उपयोग
खाने का उपयोग बंद पैकेट जो पाएं
पहले सूंघें, पढ़ें तभी वे उसको खाएं
दिव्यदृष्टि वर्ना लोगों का हृदय हिलेगा
दाल-भात के बदले मुर्गी रोल मिलेगा

सोमवार, 27 जुलाई 2009

महबूबा की मांग पर उमर न देते कान

महबूबा की मांग पर उमर न देते कान
घाटी में कानून का रोज गिर रहा मान
रोज गिर रहा मान खूब गुस्से में मुफ्ती
करें सदन में शोर देख सरकारी सुस्ती
'दिव्यदृष्टि' पीडीपी करती हल्ला-गुल्ला
मौज मनाएं मगर मस्त बैठे अब्दुल्ला

शनिवार, 25 जुलाई 2009

भेज रही कश्मीर में नित नफरत के नाग

भेज रही कश्मीर में नित नफरत के नाग
जिनके विष से फैलती उग्रवाद की आग
उग्रवाद की आग, सज्जनों को झुलसाये
किंतु दुर्जनों के मन को काफी हुलसाये
दिव्यदृष्टि मक्कार बहुत आई एस आई
अमरीकी जनरल ने जग को बात बताई

शुक्रवार, 24 जुलाई 2009

चाटुकारिता चर्म पर है मित्रो आसीन

चाटुकारिता चर्म पर है मित्रो आसीन
रोज सदन में बाजती बेशर्मी की बीन
बेशर्मी की बीन करें प्रतिनिधि हंगामा
नाम सुरक्षा का लेकर होता नित ड्रामा
समय कीमती नष्ट करें एमपी झगड़ालू
पर बैठे खामोश मुलायम-माया-लालू

पटना की घटना बहुत शर्मनाक है मित्र

पटना की घटना बहुत शर्मनाक है मित्र
उससे धूमिल हो रहा लोकतंत्र का चित्र
लोकतंत्र का चित्र, छेड़खानी जो करते
वह वैयक्तिक आजादी ज्वाला पर धरते
दिव्यदृष्टि युवती को कर देना निर्वसना
शर्मनाक है मित्र बहुत पटना की घटना

बुधवार, 22 जुलाई 2009

लोग कहें बेशर्म, बड़ी हरकत बचकानी

किये शर्म अल शेख में मनमोहन जो कर्म
भारत में उसको अधिक लोग कहें बेशर्म
लोग कहें बेशर्म, बड़ी हरकत बचकानी
काफी महंगी पड़े हिन्द को वह नादानी
कोतवाल को दिव्यदृष्टि ज्यों डाकू डांटे
मार रहे गीलानी त्यों ही मुंह पर चांटे

फौरन ही उस पर गिरे पाबंदी की गाज

पकड़ा जाये पायलट जो भी दारूबाज
फौरन ही उस पर गिरे पाबंदी की गाज
पाबंदी की गाज, नौकरी खोयें शातिर
आसमान में रहें सदा महफूज मुसाफिर
नहीं प्लेन में दिव्यदृष्टि कतई चढ़ पाये
जो भी दारूबाज पायलट पकड़ा जाये

मंगलवार, 21 जुलाई 2009

कौन करे प्रतिरोध किसी में शेष न बूता

पूर्व राष्ट्रपति का किए भारत में अपमान
बहुत हुए उद्दंड वे सब अमरीकी स्वान
सब अमरीकी स्वान, सूंघते बटुआ जूता
कौन करे प्रतिरोध किसी में शेष न बूता
दिव्यदृष्टि उनकी बदनीयत को पहचानो
वर्ना देश गुलाम बने यह निश्चित जानो

सोमवार, 20 जुलाई 2009

बसपा शासन में खुलें फौरन उसके भाग

विरोधियों के महल में जो लगवाये आग
बसपा शासन में खुलें फौरन उसके भाग
फौरन उसके भाग, राग माया(वी)गाये
मुंह भर-भरकर रोज सियासी गन्ना खाये
दिव्यदृष्टि दरकार तरक्की की यदि भाई
अग्निकांड करने वालों की कर अगुवाई।

शुक्रवार, 17 जुलाई 2009

रोजगार की राशि किंतु हाथी खा जाये

पुन: अमेठी क्षेत्र में राहुल दिए बयान
नहीं नरेगा पर जरा है माया का ध्यान
है माया का ध्यान केन्द पैसा भिजवाए
रोजगार की राशि किंतु हाथी खा जाये
काम न कोई दिव्यदृष्टि कुछ दीखे दूजा
बुत बनवाएं रोज करें अपनी शव पूजा

गुरुवार, 16 जुलाई 2009

करे तरक्की देश निरंतर जय हो जय हो

बेबाकी से श्रीधरन व्यक्त किए उद्गार
कार्य संस्कृति में तभी आ पायेगा ज्वार
आ पायेगा ज्वार, खत्म हो दखलंदाजी
बनें न नौकरशाह, सियासी नेता काजी
दिव्यदृष्टि जब काम करेंगे हम निर्भय हो
करे तरक्की देश निरंतर जय हो जय हो

निन्दनीय करतूत बहुत ही उनकी भाई

बोलीं रीता बहुगुणा जितने कड़वे बोल
उसका नहीं समाज में कतई कोई मोल
कतई कोई मोल, भावना जो भड़काए
उसे जेल की हवा खूब कानून खिलाए
दिव्यदृष्टि जिसने उनके घर आग लगाई
निन्दनीय करतूत बहुत ही उनकी भाई

बुधवार, 15 जुलाई 2009

कर ले प्राणायाम मिटे मरियल मोटापा

दुनिया में जिनको लगा मोटापे का रोग
वे सारे जम कर करें भारी मेहनत, योग
भारी मेहनत, योग, मशवरा मन में धारें
तन की चर्बी घटे डंड-बैठक नित मारें
दिव्यदृष्टि तू तज प्यारे गोली का स्यापा
कर ले प्राणायाम मिटे मरियल मोटापा

सोमवार, 13 जुलाई 2009

साफ कहें मायावती करके लंबी नाक

सीबीआई केंद्र की कठपुतली नापाक
साफ कहें मायावती करके लंबी नाक
करके लंबी नाक बताएं अनुभव सांचे
जहां मिले संकेत वहीं पर जाकर नाचे
दिव्यदृष्टि मत करो भरोसा इसपर भाई
कठपुतली नापाक केन्द की सीबीआई

रविवार, 12 जुलाई 2009

बेशक उनको लोग बिहारी बाबू बोलें

उन्हें बिहारी शब्द में तनिक न दीखे हर्ज
मगर मुंबई का बहुत लदा शत्रु पर कर्ज
लदा शत्रु पर कर्ज, यहीं से रोजी-रोटी
हासिल हुई प्रसिद्धि कमाई काफी मोटी
दिव्यदृष्टि इसलिए न उनकी नीयत तोलें
बेशक उनको लोग बिहारी बाबू बोलें

शुक्रवार, 10 जुलाई 2009

बादशाह से डाक्टर बने शाह रुख खान

बादशाह से डाक्टर बने शाह रुख खान
मिला उन्हें इंग्लैंड में पीएच।डी. का दान
पीएच।डी. का दान बघारें जमकर शेखी
बॉलीवुड की शान आज दुनिया ने देखी
दिव्यदृष्टि इसलिए फिल्म में जो हकलाएं
सब 'मन्नत' में डिगरी हेतु कतार लगाएं

गुरुवार, 9 जुलाई 2009

पत्र-पत्रिका भेज बोरियत दूर कीजिए

कातिल है तो क्या हुआ आखिर है महमान
अजमल आमिर का करें अत: आप सम्मान
अत: आप सम्मान 'अतिथि देवो भव' गाएं
जल्द करें उपलब्ध अल्पसंख्यक सुविधाएं
दिव्यदृष्टि सेवा उसकी भरपूर कीजिए
पत्र-पत्रिका भेज बोरियत दूर कीजिए

बुधवार, 8 जुलाई 2009

रीते मेघ निहार कर चिंतित हुए किसान

रीते मेघ निहार कर चिंतित हुए किसान
वर्षा के उसको कहीं दीखें नहीं निशान
दीखें नहीं निशान धान की रुकी बुआई
उपजा अगर न अन्न बढ़े भारी महंगाई
दिव्यदृष्टि आषाढ़ गया पहले ही रूखा
मरें भूख से लोग रहा यदि सावन सूखा

सोमवार, 6 जुलाई 2009

ज्यादातर बाजार प्रणव से दीखे आहत

जिनको भी थी बजट से चमत्कार की आस
उन सब के पल्ले जरा पड़ा नहीं कुछ खास
पड़ा नहीं कुछ खास, रही नाकाफी राहत
ज्यादातर बाजार प्रणव से दीखे आहत
दिव्यदृष्टि संसद में बेशक धाक जमा दी
पर प्यासे को महज ओस की बूंद थमा दी

गिरमिटियों के देश में पाये ज्यों ही जीत

गिरमिटियों के देश में पाये ज्यों ही जीत
सब को बतलाने लगे धोनी त्यों ही मीत
धोनी त्यों ही मीत तीत अब लगे न कोई
करें सभी से प्रीत नहीं कतई बदखोई
दिव्यदृष्टि विश्वास सभी के लिए जताएं
इसीलिए युवी को दल की रीढ़ बताएं

शनिवार, 4 जुलाई 2009

हुए पराजित गेल रह गए हक्का-बक्का

वर्षा ने डाला भले कितना भी व्यवधान
टीम इंडिया का मगर हुआ नहीं नुकसान
हुआ नहीं नुकसान इंडियन प्लेयर चमके
गौतम और दिनेश खेल दिखलाए जमके
दिव्यदृष्टि धोनी ने मारा जमकर धक्का
हुए पराजित गेल रह गए हक्का-बक्का

शुक्रवार, 3 जुलाई 2009

ममता दीदी ने किया ममता का इजहार

ममता दीदी ने किया ममता का इजहार
सुविधाओं का रेल में लगा दिया अंबार
लगा दिया अंबार, मुलम्मा नया चढ़ाया
नहीं किसी दर्जे का भाड़ा कहीं बढ़ाया
दिव्यदृष्टि दुखियों मजदूरों की बन आई
सब पायेंगे 'पास पचीसा' मासिक भाई

कहते अपने आपको राहुल नेक किसान

कहते अपने आपको राहुल नेक किसान
किन्तु लग्जरी मॉल में बैठे खोल दुकान
बैठे खोल दुकान, सियासी सौदा तोलें
शपथपत्र दे झूठ रोज पब्लिक से बोलें
दिव्यदृष्टि जनसेवक की है यही निशानी
'माल' बनाएं मॉल बताएं मगर किसानी

गुरुवार, 2 जुलाई 2009

चल मन्नू के साथ बढ़ा परिवार नियोजन

सहमत समलिंगी करें खुलकर यौनाचार
अब उन पर कानून की नहीं गिरे तलवार
नहीं गिरे तलवार, प्यार आपस में कर लें
बेपनाह खुशियां अपने जीवन में भर लें
दिव्यदृष्टि तू तज दे नैतिकता का रोदन
चल मन्नू के साथ बढ़ा परिवार नियोजन

बढ़े तेल के दाम, मुसीबत माथे आई

आम आदमी के लिए हुआ फैसला आम
आम बजट के पूर्व ही बढ़े तेल के दाम
बढ़े तेल के दाम, मुसीबत माथे आई
महंगी हो हर चीज न पूरी पड़े कमाई
दिव्यदृष्टि दुखियारे प्यारे कर ले फाका
ले धीरज से काम झेल सरकारी डाका

बुधवार, 1 जुलाई 2009

मानसून जी रखना सावन सरस सुरीला

जनमानस था अब तलक गर्मी से बेजार
इन्द्र देव ने की कृपा शीतल पड़ी फुहार
शीतल पड़ी फुहार चतुर्दिक बदली छाई
मिली धूप से मुक्ति घटा घनघोर सुहाई
दिव्यदृष्टि हरषाये तन मन उपवन गीला
मानसून जी रखना सावन सरस सुरीला

मंगलवार, 30 जून 2009

खड़ी करें मनमोहन उसकी फौरन खटिया

सीबीआई मानती जिसको नटवर लाल
उसे बचाने के लिए मंत्री बना दलाल
मंत्री बना दलाल, फोन करके धमकाए
उस पर ऐसा दोष नेक जज स्वयं लगाए
दिव्यदृष्टि की राय बड़ी ये हरकत घटिया
खड़ी करें मनमोहन उसकी फौरन खटिया।

शुक्रवार, 26 जून 2009

बादशाह वह पॉप का छोड़ गया अब सेज

जिसकी धुन पर दिलों में मचे गुदगुदी तेज
बादशाह वह पॉप का छोड़ गया अब सेज
छोड़ गया अब सेज थमी पांवों की थिरकन
क्रूर काल ने छीनी उसके दिल की धड़कन
दिव्यदृष्टि खामोश हो गया गायक गुनिया
जक्सन को दे रही आज श्रद्धांजलि दुनिया

गुरुवार, 25 जून 2009

पढ़ने-लिखने में करें समय न बच्चे नष्ट

पढ़ने-लिखने में करें समय न बच्चे नष्ट
दसवीं में तो और ही होता उनको कष्ट
होता उनको कष्ट, साफ मंत्री जी कहते
नाहक माता-पिता मुफ्त टेंशन में रहते
दिव्यदृष्टि दे रहे अत: सिब्बल जी नारा
टेंथ बोर्ड से कर लें सब स्कूल किनारा

मंगलवार, 23 जून 2009

गत वर्षों की भांति नहीं हमको बहकाना

मौसम वालों ने बड़ी भिजवाई गुड न्यूज
हो जाएगी तपन सब शुक्रवार को फ्यूज
शुक्रवार को फ्यूज, झमाझम बरसे पानी
खेत, बाग, वन सभी भिगोयें बरखा रानी
दिव्यदृष्टि हे मॉनसून जी वचन निभाना
गत वर्षों की भांति नहीं हमको बहकाना

मॉनसून मनहूस न लाए फिर भी सावन

मनमोहन के शीश पर आया ज्यों ही ताज
मौसम का होने लगा त्यों ही गर्म मिजाज
त्यों ही गर्म मिजाज निरंतर तपते तन-मन
मॉनसून मनहूस न लाए फिर भी सावन
दिव्यदृष्टि फिर अल नीनो की फैली माया
होगी चौपट फसल बढ़ी सूखे की छाया

शुक्रवार, 19 जून 2009

राहुल बाबा बढ़े निरन्तर आयु तुम्हारी

लोग जयंती पर खड़े लिए मिठाई केक
देने को शुभकामना लेकर नीयत नेक
लेकर नीयत नेक, गा रहे कोरस भारी
राहुल बाबा बढ़े निरन्तर आयु तुम्हारी
दिव्यदृष्टि सब शुभचिंतक बोलें बौराये
मगर बर्थडे बॉय देश में नजर न आये

बुधवार, 17 जून 2009

ग्लोबल मंदी से रही जो दुनिया बेहाल

ग्लोबल मंदी से रही जो दुनिया बेहाल
होने वाली है वही जल्दी ही खुशहाल
जल्दी ही खुशहाल विदेशी बैंक बताए
नहीं नौकरी का संकट अब कहीं सताए
दिव्यदृष्टि चहुँओर बढ़े जमकर सरमाया
नज़र न आए भूले से छंटनी की छाया

ओबामा जी जगत के जाहिर मक्खीमार

दिखा रहा है मीडिया पढ़ा रहा अखबार
ओबामा जी जगत के जाहिर मक्खीमार
जाहिर मक्खीमार, उन्हें जो दुष्ट सताए
मक्खी की मानिंद जिंदगी वही गंवाए
दिव्यदृष्टि अब जो भी हठधर्मी धारेंगे
दारोगा जी उन्हें समझ मक्खी मारेंगे

मंगलवार, 16 जून 2009

रोज पड़े डाका भले आए दिन हो लूट

ले-देकर मुजरिम यहां जाएं फौरन छूट
रोज पड़े डाका भले आए दिन हो लूट
आए दिन हो लूट, जान से प्रहरी जाएं
शीला रानी किंतु जीत का जश्न मनाएं
दिव्यदृष्टि महफूज नहीं हैं दिल्ली वाले
मिलीभगत में मस्त मगर बैठे रखवाले

लेकर लल्लू टीम गए ही थे क्यों भैया

आईपीएल में हुए प्लेयर सब हलकान
इसीलिए इंग्लैंड में पिटे सभी बलवान
पिटे सभी बलवान दर्द से दूखी पसली
यही हार का मित्रो दीखे कारण असली
दिव्यदृष्टि था पता अगर डूबेगी नैया
लेकर लल्लू टीम गए ही थे क्यों भैया

सोमवार, 15 जून 2009

देना पड़ा 'लगान' लुटाकर लौटे खोखा

धोनी के उलटे पड़े सभी क्रिकेटिया दांव
नहीं तनिक भी जम सके टी-20 में पांव
टी-20 में पांव, हाथ की हटी हरारत
खूब पिटे बलवान हार की लिखी इबारत
दिव्यदृष्टि इस बार दे गई किस्मत धोखा
देना पड़ा 'लगान' लुटाकर लौटे खोखा

शनिवार, 13 जून 2009

समझ न आएं अदाकारियां ये धोनी की

नित नया रूप , नया रंग वो बदलते हैं।
कभी शऊर, कभी ढंग वो बदलते हैं।।
अजीब आरजू, हसरत अजीब है उनकी,
जो शख्स करता उन्हें तंग वो बदलते हैं।
समझ न आएं अदाकारियां ये धोनी की,
पहले मैदान में गिरते हैं फिर सम्हलते हैं।
दिखा न ताव जरा दिव्यदृष्टि तू इतना,
नर्मजोशी से हक में जंग वो बदलते हैं।

शुक्रवार, 12 जून 2009

बीजेपी की हार से दुखी बड़े जसवंत

खतरे में है करिअर भला करें भगवंत
बीजेपी की हार से दुखी बड़े जसवंत
दुखी बड़े जसवंत, दर्द से फाटे छाती
देख दुर्दशा अपनी भेजी कड़वी पाती
दिव्यदृष्टि हे 'नाथ दीजिए फौरन उत्तर
क्योंकर पाये पद, पावर पंजाबी पुत्तर

गुरुवार, 11 जून 2009

सचमुच दिल्ली पुलिस ग्रेट है मेरे भाई

भले बनें डडवाल जी आप विवेकानंद
मगर महकमे में मजा मारें रिश्वतचन्द
मारें रिश्वतचन्द, 'मंथली' मोटी ऐंठें
बीट, डिवीजन में सब भ्रष्टाचारी बैठें
दिव्यदृष्टि दो नंबर की बढ़ रही कमाई
सचमुच दिल्ली पुलिस ग्रेट है मेरे भाई

बुधवार, 10 जून 2009

जींस टॉप छोड़ें कुडि़यां सब साड़ी पहनें

महिला कालिज ने किया है जारी अहकाम
सारी टीचर, गर्ल्स यह सुनें दिलों को थाम
सुनें दिलों को थाम, तजें मोबाइल, गहने
जींस टॉप छोड़ें कुडि़यां सब साड़ी पहनें
बिन बाजू ब्लाउज पहने जो टीचर नारी
लगे कानपुर में उस पर जुर्माना भारी
त्याग तुगलकी फैसला ले सख्ती से काम
शासन गुण्डों पर कसे फौरन तेज लगाम
फौरन तेज लगाम, दिखाए ताकत असली
तुरत मनचलों की तोड़े वह हड्डी-पसली
दिव्यदृष्टि खामोश बैठ मत हाथ हिलाए
करके उनको कैद जेल की हवा खिलाए

गांधी जी के चेले कतई करें न हमला

कंगारू काटें भले विदेशियों के कान
किंतु रहें खामोश सब परदेसी मेहमान
परदेसी मेहमान, कहे सरकारी अमला
गांधी जी के चेले कतई करें न हमला
दिव्यदृष्टि बेशक वे चाकू छुरियां खाएं
फिर भी वे हथियार हाथ में नहीं उठाएं

साथ सहवाग के हुई जो भी,

रह गया बंद बैग में बल्ला,
किट उन्हें बेवजह पड़ी ढोनी।
चौधरी मुल्क आ गए वापस,
शक्ल-सूरत लिए हुए रोनी।।
दर्द कंधे से दिल में जा पहुंचा,
नीर नयनों का हो गया नोनी।
साथ सहवाग के हुई जो भी,
है बड़ी दर्दनाक वो होनी।
लोग बदनाम कर रहे नाहक,
खेल का जानते धरम धोनी।
दिव्यदृष्टि हया सलामत रख,
गर तुझे है नहीं शरम खोनी।

मंगलवार, 9 जून 2009

कंगारू अब क्रिकेट में नहीं रहे बेजोड़

कंगारू अब क्रिकेट में नहीं रहे बेजोड़
उनको नींबू की तरह लंका गया निचोड़
लंका गया निचोड़, होड़ से बाहर आए
रिकी पॉन्टिंग वापस लौटे मुंह लटकाए
दिव्यदृष्टि जो बहुत मारते थे कल शेखी
आज उन्हीं की दशा न उनसे जाये देखी

रविवार, 7 जून 2009

पांच दशक तक मंच पर छाये रहे हबीब

पांच दशक तक मंच पर छाये रहे हबीब
पंच तत्व में ले गया आखिर उन्हें नसीब
आखिर उन्हें नसीब, हो गया पूरा नाटक
अंतिम पर्दा गिरा बंद जीवन का फाटक
दिव्यदृष्टि की दुआ यही जन्नत वह पायें
तन-मन से तनवीर थियेटर नया सजायें।

शुक्रवार, 5 जून 2009

सिसकें लालू-राबड़ी छूटी उनकी रेल

सिसकें लालू-राबड़ी छूटी उनकी रेल
रोजाना घटता उधर लालटेन का तेल
लालटेन का तेल रास्ता कौन दिखाए
पलभर में दामाद गगन से भू पर आए
दिव्यदृष्टि फिर रहे भरे आखों में पानी
बनें नहीं हमदर्द मगर सोनिया भवानी

गुरुवार, 4 जून 2009

बाबू हिन्दुस्तान के काहिल, लापरवाह

बाबू हिन्दुस्तान के काहिल, लापरवाह
रिश्वतखोरी की नहीं उनकी कोई थाह
उनकी कोई थाह, घूस जिससे ना पाएं
भ्रष्टाचार शिरोमणि उसको खूब सताएं
दिव्यदृष्टि बे-नोट रहेगी जो भी फाइल
नौ दिन में वह सरकेगी बस ढाई माइल

देवि सोनिया ने किया मीरा पर उपकार

देवि सोनिया ने किया मीरा पर उपकार
महिला स्पीकर सदन पाया पहली बार
पाया पहली बार, कह रहे लोग सयाने
लोक सभा में गूंजेंगे सुर सुखद सुहाने
दिव्यदृष्टि जो लोग दिखाएंगे अब हेठी
उन्हें दनादन दंडित करे दलित की बेटी

सोमवार, 1 जून 2009

खाई प्रैक्टिस मैच में टीम इंडिया मात

कटी पराये देश में जाग-जागकर रात
खाई प्रैक्टिस मैच में टीम इंडिया मात
टीम इंडिया मात, भात भत्ता नहिं भाये
प्रथम कौर में ही मक्खी धोनी जी पाये
दिव्यदृष्टि आगाज देख आ रहा पसीना
क्या होगा अंजाम अभी तो शेष महीना

शनिवार, 30 मई 2009

नहीं चाहिए उनसे कोई 'सनद' मिठाई

जारी है जिस देश में नस्लभेद की व्याधि
बिगबी उससे लें नहीं मानद एक उपाधि
मानद एक उपाधि, इसे कंगारू सुन लें
उत्तम होगा यही प्रेम पथ फौरन चुन लें
दिव्यदृष्टि तुलबा की जो कर रहे पिटाई
नहीं चाहिए उनसे कोई 'सनद' मिठाई

शुक्रवार, 29 मई 2009

समझ नहीं पायें मन्नू के तर्क अजूबे

ले-देकर लो बन गई सतरंगी सरकार
कम मंत्री पाए मगर यूपी और बिहार
यूपी और बिहार, बड़े ही दोनों सूबे
समझ नहीं पायें मन्नू के तर्क अजूबे
दिव्यदृष्टि जिनकी थी ज्यादा दावेदारी
आज हो गए लुप्त वही उत्तराधिकारी

नस्लभेद के हो रहे स्टूडेंट शिकार

नस्लभेद के हो रहे स्टूडेंट शिकार
जारी है परदेस में उन पर अत्याचार
उन पर अत्याचार, मार खाते बेचारे
धरे हाथ पर हाथ मगर बैठे हरकारे
दिव्यदृष्टि मनमोहन रोकें दुष्ट दुधारी
छात्र-छात्रा करें फजीहत वरना भारी

गुरुवार, 28 मई 2009

मंत्री की भरमार जेब पर बोझ बढ़ेगा

एक तरफ तो देश में है मंदी की मार
किंतु दूसरी तरफ है मंत्री की भरमार
मंत्री की भरमार जेब पर बोझ बढ़ेगा
आम आदमी का पारा दिनरात चढ़ेगा
दिव्यदृष्टि बेकाबू हो बेशक महंगाई
मन्नूभाई को फिर भी दे थोक बधाई

सोमवार, 25 मई 2009

दोनों ग्वाले आजकल दीख रहे मायूस

दोनों ग्वाले आजकल दीख रहे मायूस
मनमोहन को लग रहे दोनों ही मनहूस
दोनों ही मनहूस मुलायम लालू शातिर
बिन मांगे दे रहे समर्थन कुर्सी खातिर
दिव्यदृष्टि राहुल का मन पहले ही खट्टा
ऐसे में अब कौन पिलाये उनको मट्ठा

शनिवार, 23 मई 2009

रन बरसा कर खूब बन गए गिल्ली नाहर

लीग मैच में तो रही अव्वल दिल्ली टीम
सेमी में लेकिन गई डक्कन उसको जीम
डक्कन उसको जीम किया मैदां से बाहर
रन बरसा कर खूब बन गए गिल्ली नाहर
दिव्यदृष्टि दिलशान बहुत ही जोर लगाए
फिर भी अपनी हार चौधरी बचा न पाए

कांग्रेस कर लेगी उससे फौरन कुट्टी

मनमोहन ने दे दिया साफ-साफ संदेश
मंत्रालय खातिर उन्हें भाये नहीं कलेश
भाये नहीं कलेश करें बेशक फरमाइश
ब्लैकमेल की नहीं मगर कोई गुंजाइश
दिव्यदृष्टि जो नहीं पिये गठबंधन घुट्टी
कांग्रेस कर लेगी उससे फौरन कुट्टी

शुक्रवार, 22 मई 2009

पहले जैसे हैं नहीं मनमोहन 'कमजोर'

पहले जैसे हैं नहीं मनमोहन 'कमजोर'
इस चुनाव में ऊर्जा काफी लिए बटोर
काफी लिए बटोर, नहीं कोई लाचारी
मिला समर्थन उन्हें बिना मांगे ही भारी
दिव्यदृष्टि यह सच्चाई करुणा पहचानें
कुनबे खातिर रार नहीं वह नाहक ठानें

गुरुवार, 21 मई 2009

मनमोहन से चल रहा मोलभाव का दौर

मनमोहन से चल रहा मोलभाव का दौर
सब सहयोगी चाहते सुखद सियासी कौर
सुखद सियासी कौर, मांगते सभी रसीले
बिगड़ न जाए स्वाद अत: बन रहे हठीले
दिव्यदृष्टि कर रहे समर्थक शोर-शराबा
दो मनमाफिक माल, चलाना है यदि ढाबा

बुधवार, 20 मई 2009

ममता मैडम ने किया इच्छा का इजहार

ममता मैडम ने किया इच्छा का इजहार
उनको मंत्रालय मिलें मधुर मलाईदार
मधुर मलाईदार, रसायन, रेल, उर्वरक
दीजे लोहा हेल्थ रहे तृणमूल चकाचक
दिव्यदृष्टि 'करुणा' भी करते सौदेबाजी
मांग देखकर सन्न हुए मनमोहन पा'जी

मंगलवार, 19 मई 2009

लालटेन की हो गई बहुत रोशनी मंद

कानन रोदन कीजिए लालू भाई बंद
लालटेन की हो गई बहुत रोशनी मंद
बहुत रोशनी मंद, तेल का भारी टोटा
इसीलिए तो घटा मेल का प्यारे कोटा
ससम्मान यदि मनमोहन से करते यारी
नहीं भिखारी जैसी होती दशा तुम्हारी

सोमवार, 18 मई 2009

गाएं लालू-राबड़ी मिलकर गर्दिश गान

गाएं लालू-राबड़ी मिलकर गर्दिश गान
वोटर को भाई नहीं कतई उनकी तान
कतई उनकी तान गला दोनों ने फाड़ा
फोड़ दिए नीतीश बीच में मगर नगाड़ा
दिव्यदृष्टि सूने तम्बू किस भांति सजाएं
मिलकर गर्दिश गान राबड़ी-लालू गाएं

पासवान का कारवां छूट गया है दूर

पासवान का कारवां छूट गया है दूर
हाजीपुर में हार की मार पड़ी भरपूर
मार पड़ी भरपूर, नहीं ले पाए लोहा
फिर भी जोड़ें हाथ निरंतर गाएं दोहा
दिव्यदृष्टि ऐरा-गैरा कोई पद दीजे
मनमोहनजी मगर मंत्रिमंडल में लीजे

लीडर हाथी छाप बन गए सारे चींटी

शीला अंटी ने दिया बीजेपी को पीट
पाई उसने सात में नहीं एक भी सीट
नहीं एक भी सीट, बजाई ऐसी सीटी
लीडर हाथी छाप बन गए सारे चींटी
दिव्यदृष्टि हे राम सहारा बनिए इनका
वरना बिखरेंगे बेचारे तिनका-तिनका

रविवार, 17 मई 2009

मतदाता के मन बसा मनमोहन का काम

मतदाता के मन बसा मनमोहन का काम
इसीलिए उसने दिया पुरसुकून ईनाम
पुरसुकून ईनाम मिली इस बार तरक्की
कांग्रेस की नीव हुई पहले से पक्की
दिव्यदृष्टि भारत बुलंद हो रहा टनाटन
मनमोहन का काम बसा मतदाता के मन

शांत हो गया जोश फिरा किस्मत पर पानी

किस्मत पर पानी फिरा शांत हो गया जोश
सॉलिड नेता के उड़े इस चुनाव में होश
इस चुनाव में होश, रोश में दीखे वोटर
पहुंची साउथ ब्लॉक नहीं बीजेपी मोटर
दिव्यदृष्टि परिणाम देख आहत अडवानी
शांत हो गया जोश फिरा किस्मत पर पानी

बीती ताहि बिसार, परस्पर माफ कीजिए

कनवेसिंग के मध्य जो पैदा हुई खटास
उसे भूलना ही भला, सबकी यही रटास
सबकी यही रटास, दिलों को साफ कीजिए
बीती ताहि बिसार, परस्पर माफ कीजिए
दिव्यदृष्टि हो रही एक-दूजे से विनती
आओ मिलकर करें पूर्ण जादू की गिनती

नहीं वरुण पर रासुका हेतु उचित आधार

नहीं वरुण पर रासुका हेतु उचित आधार
किया उच्चतम कोर्ट ने व्यक्त यही उद्गार
व्यक्त यही उद्गार, खार खाए थीं माया
इसीलिए नन्हें गांधी को खूब सताया
दिव्यदृष्टि यदि यही राय पहले आ जाती
हमदर्दी का वोट भाजपा भी पा जाती।

अमर प्रेम से रुष्ट हैं भाई आजम खान

रार मची रामपुर हिरोइन हलकान
अमर प्रेम से रुष्ट हैं भाई आजम खान
भाई आजम खान जया की करें खिलाफत
हुए समर्थक बागी सिर पर आई आफत
दिव्यदृष्टि बेजार बहुत है फिल्मी नारी
देगी अपनी जान अगर हारी इस बारी

शनिवार, 9 मई 2009

पब्लिक पीलीभीत की फेंके उसे उखाड़

जो शासन कानून से करता हो खिलवाड़
पब्लिक पीलीभीत की फेंके उसे उखाड़
फेंके उसे उखाड़, हमें अब वहां न रहना
जहां पड़े दुख-दर्द निरन्तर हमको सहना
दिव्यदृष्टि यह तथ्य जानती जनता सगरी
नहीं वरुण के रहने लायक माया नगरी

शुक्रवार, 8 मई 2009

एक घूंट पी शेन ने लौटाया ज्यों जाम

एक घूंट पी शेन ने लौटाया ज्यों जाम
तभी मचाने लग गए छुटभैये कोहराम
छुटभैये कोहराम कौन उनको समझाए
शैम्पेन सम्मान सहित यदि मित्र पिलाए
दिव्यदृष्टि है मानवता का यही तकाजा
फौरन गीला करें गला जयपुरिया राजा

गुरुवार, 7 मई 2009

पुलिस प्रशासन देश का अति संवेदनहीन

पुलिस प्रशासन देश का अति संवेदनहीन
नैतिकता का ग्राफ नित छूने लगा जमीन
छूने लगा जमीन, रोज पब्लिक धिक्कारे
मगर महकमा मस्त बैठकर मक्खी मारे
दिव्यदृष्टि पीड़ित महिला ने जान गंवाई
फिर भी वह इंसाफ नहीं हासिल कर पायी

बुधवार, 6 मई 2009

मुरझाएगा 'कमल' खत्म हो राम कहानी

भले प्रेम जी वोट की भीख मांगिए आप
मगर न बोलें राम को मुसलमान का बाप
मुसलमान का बाप, नहीं नफरत फैलाएं
वरना सब सेकुलर वोटर बागी हो जाएं
दिव्यदृष्टि यदि 'शेर' नहीं त्यागे नादानी
मुरझाएगा 'कमल' खत्म हो राम कहानी

सोमवार, 4 मई 2009

भगा अखाड़ा छोड़कर बसपा कैंडिडेट

भगा अखाड़ा छोड़कर बसपा कैंडिडेट
बिना लड़े ही हो गई हालत मटियामेट
हालत मटियामेट, सुनाएं किसे कहानी
हाजी को मक्कार कह रहीं माया रानी
दिव्यदृष्टि धोखेबाजी का बजा नगाड़ा
बसपा कैंडिडेट छोड़ कर भगा अखाड़ा

रविवार, 3 मई 2009

खुद अपनी ही टीम नई तैयार करेंगे

पाए धोनी गैंग में जगह नहीं श्रीशांत
हीरोइन के साथ अब खोजेंगे एकांत
खोजेंगे एकांत, यही है दिली तमन्ना
एक बार बस हां बोले डेजी बोपन्ना
दिव्यदृष्टि उससे आजीवन प्यार करेंगे
खुद अपनी ही टीम नई तैयार करेंगे

शुक्रवार, 1 मई 2009

लिए चैन की सांस मिली मोदी को राहत

मोदी को राहत मिली लिए चैन की सांस
चुभे नहीं अब कंठ में तनिक बाहरी फांस
तनिक बाहरी फांस कोर्ट ने दया दिखाई
गुजराती रायट की हो 'घर में' सुनवाई
दिव्यदृष्टि इस निर्णय से प्रतिपक्षी आहत
लिए चैन की सांस मिली मोदी को राहत

गुरुवार, 30 अप्रैल 2009

मुर्गा तंदूरी मिले अफजल करता मांग

मुर्गा तंदूरी मिले अफजल करता मांग
भूख मिटाने के लिए उसे दीजिए टांग
उसे दीजिए टांग वरुण गांधी को हैरत
उन्हें जेल में मिली सिर्फ लौकी बेलज्जत
दिव्यदृष्टि मेहमान बना लश्कर का गुर्गा
अफजल करता मांग मिले तंदूरी मुर्गा

बुधवार, 29 अप्रैल 2009

डीटीएच के संग जोड़ लें फौरन नाता

प्रोड्यूसर हड़ताल से बंद सिनेमा हॉल
वीरानी पसरी हुई सीन हुआ विकराल
सीन हुआ विकराल दुखी दर्शक बेचारे
नई फिल्म के नहीं हो रहे कहीं नजारे
दिव्यदृष्टि मशवरा मुफ्त प्यारे बतलाता
डीटीएच के संग जोड़ लें फौरन नाता

मंगलवार, 28 अप्रैल 2009

पाकिस्तानी ढोर, तिकड़मी शोर मचाए

फंदे में ज्यों ही फंसा वहशी आदमखोर
त्यों ही मिमियाने लगा पाकिस्तानी ढोर
पाकिस्तानी ढोर, तिकड़मी शोर मचाए
मगर भेडि़ये को भारत में कौन बचाए
दिव्यदृष्टि अब न्यायालय ने राय जताई
नहीं जरा भी नाबालिग जल्लाद कसाई

माया से करना नहीं कभी भूलकर प्यार

दास कबीरा कह गए उत्तम वचन विचार
माया से करना नहीं कभी भूलकर प्यार
कभी भूलकर प्यार, नहीं छोड़े ये ठगिनी
पप्पी-झप्पी दो या बेशक बोलो भगिनी
दिव्यदृष्टि मुन्ना सीखो यह सबक सयाना
वरना जाओ जेल पड़े जमकर पछताना

सोमवार, 27 अप्रैल 2009

जान कैंसर रोग मांगता है कुर्बानी

चाहे हों धर्मात्मा या फिर ऊंचे लोग
नहीं लिए बिन छोड़ता जान कैंसर रोग
जान कैंसर रोग मांगता है कुर्बानी
दिव्यदृष्टि इसलिए छोड़कर दुनिया फानी
सज़दे में फिरोज खान ने मांगी मन्नत
अता करें अल्लाह उन्हें कदमों में जन्नत

मिस्टर धोनी हो गए एक बार फिर फेल

गिब्स और गिलक्रिस्ट ने खेला ऐसा खेल
मिस्टर धोनी हो गए एक बार फिर फेल
एक बार फिर फेल हाथ आई मायूसी
हुए समर्थक खिन्न चल पड़ी कानाफूसी
दिव्यदृष्टि दक्कन के लड़के जमकर मारे
सुपरकिंग के शेर बने बकरी बेचारे

शनिवार, 25 अप्रैल 2009

लंगड़ी घोड़ी पर मनमोहन करें सवारी

अनुभव की भारी कमी उनमें अभी जनाब
नहीं देखते इसलिए पीएम पद का ख्वाब
पीएम पद का ख्वाब, बताएं कारण राहुल
बिन बहुमत सरकार रोज रहती है ढुलमुल
दिव्यदृष्टि युवराज करें जब तक तैयारी
लंगड़ी घोड़ी पर मनमोहन करें सवारी

गुरुवार, 23 अप्रैल 2009

जियो हजारों साल तुम नन्हे सचिन महान

जियो हजारों साल तुम नन्हे सचिन महान
तुम्हें समझ कर देवता पूजे सकल जहान
पूजे सकल जहान, करे श्रद्धावश आदर
नतमस्तक हों लोग समर्थन पाओ सादर
'आउट' करने की तुमको जो करे ढिठाई
दिव्यदृष्टि उसको भी देना केक-मिठाई

सुपर गेम में यूसुफ खेल दिखाए तगड़ा

जीत न इनके पास थी, हार न उनसे दूर
दर्शक जमकर मैच का मजा लिए भरपूर
मजा लिए भरपूर, किसी को नींद न आई
देखा मुद्दत बाद मैच होते फिर टाई
सुपर गेम में यूसुफ खेल दिखाए तगड़ा
हो पाया तब कहीं शेन का भारी पलड़ा

खुली खूब तकदीर मुग्ध हैं माया रानी

माया रानी मुग्ध हैं खुली खूब तकदीर
न्यूजवीक मुखपृष्ठ पर छपते ही तस्वीर
छपते ही तस्वीर, फिरें इठलाती वामा
पेपर कहने लगे उन्हें जब से ओबामा
जोड़-तोड़ कर दिव्यदृष्टि पाएं परधानी
खुली खूब तकदीर मुग्ध हैं माया रानी

डेमोक्रेसी डांस का चला दूसरा दौर

डेमोक्रेसी डांस का चला दूसरा दौर
ईवीएम की ताल पर नाच रहे सिरमौर
नाच रहे सिरमौर भुलाकर अपनी हस्ती
थिरके सुषमा शरद घूमकर बस्ती-बस्ती
पासवान रघुवंश कहीं पर राहुल मटके
वोटर करते कैद सभी के लटके-झटके

बुधवार, 22 अप्रैल 2009

पिटे पीटरसन, खूब चला रोहित का बल्ला

चैलेंजर हारे भले, किया मगर संघर्ष
देख जुझारुपन करे विजय माल्या हर्ष
विजय माल्या हर्ष, टीम में ताकत आई
है यह दीगर बात, नहीं मंजिल छू पाई
दिव्यदृष्टि गिलक्रिस्ट इस कदर बोले हल्ला
पिटे पीटरसन, खूब चला रोहित का बल्ला

धोनी-भज्जी गौर से सुनें खोलकर कान

धोनी-भज्जी गौर से सुनें खोलकर कान
हासिल हुआ नसीब से तुम्हें पद्म सम्मान
तुम्हें पद्म सम्मान, मगर फिर भी इतराए
किया घोर अपमान नहीं उत्सव में आए
दिव्यदृष्टि है क्षम्य नहीं हरकत अनहोनी
सुनें खोलकर कान गौर से भज्जी-धोनी
व्यक्ति वर्ग से है बड़ा हर हालत में देश
स्थितियां प्रतिकूल हों या दूभर परिवेश
या दूभर परिवेश, कह गए लोग सयाने
देशभक्ति का भाव न कोई बंदिश माने
दिव्यदृष्टि यह सीख बखाने नीति सर्ग से
हर हालत में देश बड़ा है व्यक्ति वर्ग से

मंगलवार, 21 अप्रैल 2009

नहीं दिखाओ दुष्ट से ज्यादा प्यार-दुलार

नहीं दिखाओ दुष्ट से ज्यादा प्यार-दुलार
केस कसाई पर चला डालो उसको मार
डालो उसको मार, यही इन्साफ जंचेगा
साथ सुरक्षा पर अरबों का खर्च बचेगा
आतंकी को दिव्यदृष्टि जल्दी निबटाओ
ज्यादा प्यार-दुलार दुष्ट से नहीं दिखाओ

सोमवार, 20 अप्रैल 2009

बीच राह में टूटी चैलंजर की बोतल

सुपरकिंग के शेर ने मारी तेज दहाड़
चंदनवन के मेमने खाकर गिरे पछाड़
खाकर गिरे पछाड़ बहुत रोये मिमियाए
फिर भी अपनी हार पिटरसन बचा न पाए
दिव्यदृष्टि रह गया सैकड़े से कम टोटल
बीच राह में टूटी चैलंजर की बोतल

रविवार, 19 अप्रैल 2009

मस्ती में जमकर पिए सचिन जीत का जाम

धोनी को धक्का लगा, लिए कलेजा थाम
मस्ती में जमकर पिए सचिन जीत का जाम
सचिन जीत का जाम करके काम लासानी
दीखे परम प्रसन्न सहित पत्नी अंबानी
दिव्यदृष्टि चल नहीं सका चेन्नै का चक्का
लिए कलेजा थाम, लगा धोनी को धक्का

रजवाड़ों की रेल हुई साबित पैसेंजर

डटकर राहुल द्रविड़ ने खूब दिखाया खेल
विजय माल्या झूमकर चढ़े आर सी मेल
चढ़े आर सी मेल, चली रॉयल चैलेंजर
रजवाड़ों की रेल हुई साबित पैसेंजर
दिव्यदृष्टि आधी मंजिल भी पहुंच न पाई
शेन सिसकते फिरे हुई जमकर रुसवाई

परेशान हैं प्रीति, सिसकतीं शिल्पा शेट्टी

फिल्मी नायक-नायिका दीख रहे हैरान
टीमें उनकी पिट गईं मिली धूल में शान
मिली धूल में शान, हुई गुम सिट्टी-पिट्टी
परेशान हैं प्रीति, सिसकतीं शिल्पा शेट्टी
दिव्यदृष्टि फिर रहे शाह रुख मारे-मारे
सीजन-टू में गर्दिश में हैं सब के तारे

शुक्रवार, 17 अप्रैल 2009

मंत्री बनने का उसे नहीं तनिक अधिकार

जो जनता की टिप्पणी करे नहीं स्वीकार
मंत्री बनने का उसे नहीं तनिक अधिकार
नहीं तनिक अधिकार तमाचा मुंह पर मारे
ऐसे जनप्रतिनिधि को जनमानस धिक्कारे
दिव्यदृष्टि शिवराज नसीहत मानें मेरी
बाहर करें निकाल मंत्रिमंडल से चेरी

फिर भी चारा चोर रोज पा रहे प्रतिष्ठा

बड़बोलेपन से जमे राजनीति में धाक
सरेआम बेशक कटे मर्यादा की नाक
मर्यादा की नाक मिटे नैतिकता-निष्ठा
फिर भी चारा चोर रोज पा रहे प्रतिष्ठा
दिव्यदृष्टि गुंडई रही यदि यूं ही चालू
लोकतंत्र को लात रोज मारेंगे लालू

भरे तिजोरी माया की दे जमकर चंदा

दलितों का है दल मगर धांसू दौलतमंद
ठोक रहे हैं आजकल बसपा में भुजदंड
बसपा में भुजदंड, कर रहे कसरत भारी
संसद जाने की हसरत ले मन में प्यारी
दिव्यदृष्टि बन जाएगा एमपी जो बंदा
भरे तिजोरी माया की दे जमकर चंदा

गुरुवार, 16 अप्रैल 2009

सपने में भी दूं नहीं कोई गलत बयान

कहें कोर्ट के सामने पकड़े दोनों कान
सपने में भी दूं नहीं कोई गलत बयान
कोई गलत बयान करें विनती करजोरे
शपथपत्र दे वरुण यही कर रहे निहोरे
बावजूद इसके न्यायालय पटा नहीं है
मिला महज पेरोल रासुका हटा नहीं है

बुधवार, 15 अप्रैल 2009

मुस्लिम मां की याद राजनीतिक मजबूरी

मुन्ना की मासूमियत लगी काबिले दाद
रैली में आई उन्हें मुस्लिम मां की याद
मुस्लिम मां की याद राजनीतिक मजबूरी
अत: वोटरों को यह कहना बहुत जरूरी
दिव्यदृष्टि सुन लें शाहिद, इमरान, घसीटा
ले नर्गिस का नाम पुलिस ने मुझको पीटा

मंगलवार, 14 अप्रैल 2009

दशा पालिर्यामेंट की फिर हो डावांडोल

यही इशारे कर रहे सब ओपिनियन पोल
दशा पालिर्यामेंट की फिर हो डावांडोल
फिर हो डावांडोल, न कोई बहुमत पाए
लुंज-पुंज सरकार पुन: भारत में आए
दिव्यदृष्टि हर गठबंधन को दीखें तारे
सब ओपिनियन पोल कर रहे यही इशारे

सोमवार, 13 अप्रैल 2009

अंग्रेजी तालीम को पड़े मुलायम लात

सपा घोषणापत्र में लिखी गई यह बात
अंग्रेजी तालीम को पड़े मुलायम लात
पड़े मुलायम लात, पिटें यूपी में टीचर
नजर न आए दफ्तर में कोई कम्प्यूटर
दिव्यदृष्टि का खेत भले रह जाए परती
लेकिन नहीं मशीन जोत पाएगी धरती

मेरी नजरों में बहुत राहुल ब्रदर महान

मेरी नजरों में बहुत राहुल ब्रदर महान
पीएम होगा एक दिन देखे हिन्दुस्तान
देखे हिन्दुस्तान बोलती बहन प्रियंका
नहीं योग्यता में उसकी है कोई शंका
प्यारी बहना दिव्यदृष्टि दे रही दुआएं
परधानी पाने से पहले पति बन जाएं

शनिवार, 11 अप्रैल 2009

नेकनीयती से दिए उद्धव साफ बयान

नेकनीयती से दिए उद्धव साफ बयान
नहीं मराठा बन सके कोई पंथ प्रधान
कोई पंथ प्रधान लोग जो करते दावा
वही मराठी मानुष से कर रहे छलावा
'दिव्यदृष्टि' सेना ने सबकी ताकत तोली
इसीलिए अडवानी के फेवर में बोली

शुक्रवार, 10 अप्रैल 2009

कल जो जूता जगत में था पैरों की शान

कल जो जूता जगत में था पैरों की शान
आज वही अपमान का बना सही सामान
बना सही सामान दुष्ट जिस पर चल जाए
उसी सियासी लीडर की औकात घटाए
दिव्यदृष्टि बुश, टाइटलर की शामत आई
लेकर उनसे सीख संभलिए जिंदल भाई

गुरुवार, 9 अप्रैल 2009

असर दीखता साफ हुए टाइटलर टाइट

गृह मंत्री जरनैल को भले कर दिए माफ
जूतेबाजी का मगर असर दीखता साफ
असर दीखता साफ हुए टाइटलर टाइट
टिकट हाथ से गया मनाते गम डे-नाइट
दिव्यदृष्टि अब पूछ रहे पीड़ित नर-नारी
सज्जन पर कब कांग्रेस की चले कटारी

बुधवार, 8 अप्रैल 2009

लगी स्वयंवर सेल फटाफट दे दे अर्जी

शादी करना चाहतीं अब राखी सावंत
टीवी शो में इसलिए खोजेंगी वह कंत
खोजेंगी वह कंत, खुशी से पांव दबाए
करे खुशामद रोज न घूंघट मगर उठाए
दिव्यदृष्टि यदि छोड़ सके प्यारे खुदगर्जी
लगी स्वयंवर सेल फटाफट दे दे अर्जी

मंगलवार, 7 अप्रैल 2009

कलमकार हो क्रुद्ध कर रहे जूतेबाजी

पत्रकार पढ़ने लगे जबसे बूट पुराण
धैर्य टूटने के मिले तबसे ठोस प्रमाण
तबसे ठोस प्रमाण बढ़ी इतनी नाराजी
कलमकार हो क्रुद्ध कर रहे जूतेबाजी
दिव्यदृष्टि की राय सभी नेतागण मानें
जनमानस का दर्द दूर करने की ठानें

सोमवार, 6 अप्रैल 2009

उसके ऊपर मित्र रासुका कौन लगाए?

सेकुलर नेता भी करे यदि भड़काऊ बात
साफ समझना चाहिए उसके मन में घात
उसके मन में घात, कोड को धता बताए
जमकर तुष्टीकरण करे फिर वोट पटाए
दिव्यदृष्टि सुन कर चारा चोरों की बोली
धारण कर ले मौन कमीशन वाली टोली
बेच रहा है ब्लैक में रेल टिकट तत्काल
फिर भी है बेचैन वह करता फिरे मलाल
करता फिरे मलाल, खूब रोलर चलवाता
गृह मंत्री की कुर्सी यदि जालिम पा जाता
दिव्यदृष्टि जो स्वयं किंगमेकर कहलाए
उसके ऊपर मित्र रासुका कौन लगाए?

फिर भी सोई चैन से दिल्ली पुलिस महान

जहरीली दारू कई निगल चुकी है जान
फिर भी सोई चैन से दिल्ली पुलिस महान
दिल्ली पुलिस महान, नहीं बदलेगी ढर्रा
बिके नाक के नीचे उसकी बेशक ठर्रा
दिव्यदृष्टि रिश्वत की चढ़ती रोज पतीली
निगल चुकी है जान कई दारू जहरीली

रविवार, 5 अप्रैल 2009

तुमने वह टकसाल कहां लगवाई भैया

पांच साल में दस गुना बढ़ी आपकी आय
पब्लिक को बतलाइए राहुल वही उपाय
राहुल वही उपाय, समर्थक भी तो जानें
कहां करें इनवेस्ट कौन सी खोदें खानें
दिव्यदृष्टि दिन-रात जहां से झरे रुपैया
तुमने वह टकसाल कहां लगवाई भैया

शनिवार, 4 अप्रैल 2009

माफी मांगें जल्द बहुत वरना पछताएं

बेटे को यदि मेनका देतीं नेक शऊर
तो कतई होता नहीं बड़बोला मगरूर
बड़बोला मगरूर , बोलता भाषा राइट
नहीं खिलातीं उसे जेल की माया डाइट
दिव्यदृष्टि इसलिए नहीं आंसू टपकाएं
माफी मांगें जल्द बहुत वरना पछताएं

शुक्रवार, 3 अप्रैल 2009

वरना लेता जान वरुण की दुष्ट कसाई

मलबारी को ज्यों मिला भाई का फरमान
त्यों ही पीलीभीत को निकल पड़ा शैतान
निकल पड़ा शैतान, कत्ल का लिए इरादा
बीच राह में मगर गया पकड़ा वह प्यादा
दिव्यदृष्टि जासूसों ने चौकसी दिखाई
वरना लेता जान वरुण की दुष्ट कसाई

गुरुवार, 2 अप्रैल 2009

बाहुबली की नाक में डाले कौन नकेल

बद से बदतर हो रहा राजनीति का खेल
बाहुबली की नाक में डाले कौन नकेल
डाले कौन नकेल, निडर फिरते हत्यारे
हैं नख-दंत विहीन जांचकर्मी बेचारे
'दिव्यदृष्टि' जिसने दंगे में की अगुआई
उसे क्लीन चिट सौंप रही है सीबीआई

बुधवार, 1 अप्रैल 2009

कर लेंगे उनसे अडवानी सौदेबाजी

सुषमा बोलीं भाजपा पाये नहीं स्वराज
एनडीए की पहुंच से दूर रहेगा ताज
दूर रहेगा ताज, जरा आएं सीटें कम
फिर भी नहीं मलाल न हमको है कोई गम
दिव्यदृष्टि जीतेंगे जो छुटभैये काजी
कर लेंगे उनसे अडवानी सौदेबाजी

मुन्नाभाई भर रहे जमकर ठंडी आह

मुन्नाभाई भर रहे जमकर ठंडी आह
न्यायालय ने रोक दी संसद वाली राह
संसद वाली राह, नहीं दी कोई राहत
अर्जी खारिज हुई दिखे बेचारे आहत
'दिव्यदृष्टि' गांधीगिरी भी काम न आई
जमकर ठंडी आह भर रहे मुन्नाभाई

मंगलवार, 31 मार्च 2009

करें कसाई के लिए जो फांसी की मांग

बुद्धिमान पाठक न हों पढ़ इसको नाराज
भारत में कानून का छह दशकों से राज
छह दशकों से राज, भले आरोपी कातिल
कानूनी इमदाद उसे हो फिर भी हासिल
दिव्यदृष्टि अधिवक्ता बिन प्रक्रिया अधूरी
संविधान का आदर करना अत: जरूरी
करें कसाई के लिए जो फांसी की मांग
उन्हें खींचनी चाहिए नहीं नियम की टांग
नहीं नियम की टांग, करेंगे जब तक निंदा
तब तक उपजे क्रोध रहेगा कातिल जिंदा
दिव्यदृष्टि इसलिए न खुद बाधा बन जाएं
देकर उसे वकील दुष्ट को सजा दिलाएं।

सोमवार, 30 मार्च 2009

फर्जी डिग्री का सारा किस्सा खुल जाए

संजयसुत जिस सनद का पीट रहे हैं ढोल
साफ नजर आने लगी उसकी सारी पोल
उसकी सारी पोल, खोलते हैं सहपाठी
कहें तथ्य से परे वरुण की है कदकाठी
'दिव्यदृष्टि' यदि शासन इसकी जांच कराए
फर्जी डिग्री का सारा किस्सा खुल जाए

खेल दिखा गंभीर नेपियर नाक बचाए

नाक बचाए नेपियर खेल दिखा गंभीर
तोड़ी फॉलोऑन की जबरदस्त जंजीर
जबरदस्त जंजीर, रार राहुल ने ठानी
सचिन सहायक बने ठने युवी लासानी
दिव्यदृष्टि लक्ष्मण खूब ही नाच नचाए
खेल दिखा गंभीर नेपियर नाक बचाए

शनिवार, 28 मार्च 2009

बीजेपी के लिए चले वोटों की आंधी

न्यायालय का बहुत ही करते हैं सम्मान
हिन्दू रक्षण के लिए लेकिन हों कुरबान
लेकिन हों कुरबान, जेल जाने को तत्पर
वरुण मसीहा बने कह रहे लोग परस्पर
दिव्यदृष्टि हो गया कैद यदि नन्हा गांधी
बीजेपी के लिए चले वोटों की आंधी

गुरुवार, 26 मार्च 2009

किसी गधे को तुझे पड़ेगा बाप बनाना

वयोवृद्ध नेता नहीं छोड़ें जब तक सीट
तब तक हाउस में युवा पहुंचें कैसे मीत
पहुंचें कैसे मीत, विरासत हैं जो पाए
वही विधायक बने कहीं एमपी कहलाए
दिव्यदृष्टि यदि चाहे तू संसद में जाना
किसी गधे को तुझे पड़ेगा बाप बनाना

कांग्रेस की नाव में निकले करने छेद

दोनों ग्वाले एकजुट हुए भुला मतभेद
कांग्रेस की नाव में निकले करने छेद
निकले करने छेद, मुलायम लालू भाई
नहीं परस्पर करें वोट की कहीं लड़ाई
दिव्यदृष्टि बेचैन दिखे बेहद जद वाले
हुए भुला मतभेद एकजुट दोनों ग्वाले

बुधवार, 25 मार्च 2009

नहीं शाह रुख टीम में सौरभ हों कप्तान

नहीं शाह रुख टीम में सौरभ हों कप्तान
जॉन बुकानन ने किया निर्णय का ऐलान
निर्णय का ऐलान, कहें किस्मत का लेखा
या रूठे बिग बॉस किया जिसने अनदेखा
रास न आई दिव्यदृष्टि बेसुरी नफीरी
हुए समर्थक सन्न न दीखे दादागीरी

कहीं जुआरी डुबा न दें कल उसकी नैया

डेमोक्रेसी का हुआ जारी ज्यों ही डांस
सट्टेबाजी का बढ़ा भारी त्यों ही चांस
भारी त्यों ही चांस, बढ़ी है गहमागहमी
मगर न पाले कांग्रेस कोई खुशफहमी
दिव्यदृष्टि जो आज दीखता आगे भैया
कहीं जुआरी डुबा न दें कल उसकी नैया

आम आदमी को दिया टाटा ने उपहार

आम आदमी को दिया टाटा ने उपहार
ले आए बाजार में लाख टके की कार
लाख टके की कार पारकर बाधा सारी
वादा पूरा किया उठा कर घाटा भारी
दिव्यदृष्टि जो नैनो से ममता दिखलाएं
मोदी नन्हीं कार उन्हीं के घर भिजवाएं

सोमवार, 23 मार्च 2009

अगर विषवमन से मिले बीजेपी को वोट

अगर विषवमन से मिले बीजेपी को वोट
तो भाषा में वरुण की उसे न दीखे खोट
उसे न दीखे खोट, चोट बेशक हो गहरी
सुने न फिर भी चीख बीजेपी गूंगी-बहरी
दिव्यदृष्टि पा गए अगर अडवानी सत्ता
लोकलाज, नैतिकता का कट जाए पत्ता

रविवार, 22 मार्च 2009

धोनी ने बतला दिया टीम इंडिया बेस्ट

वन डे काबू में किया जीता पहला टेस्ट
धोनी ने बतला दिया टीम इंडिया बेस्ट
टीम इंडिया बेस्ट, सचिन सेंचुरी जमाए
हैमिल्टन में हाथ हरभजन खूब दिखाए
दिव्यदृष्टि सब फेल हुए कीवी हथकंडे
जीता पहला टेस्ट किया काबू में वन डे

शुक्रवार, 20 मार्च 2009

सर्वश्रेष्ठ है क्रिकेट में तारा सचिन महान

लगा रहा है एकजुट नारा सकल जहान
सर्वश्रेष्ठ है क्रिकेट में तारा सचिन महान
तारा सचिन महान, सेंचुरी जब भी ठोके
चीखें बॉलर खूब किसी से रुके न रोके
दिव्यदृष्टि प्रतिमान नए नित बना रहा है
नारा सकल जहान एकजुट लगा रहा है

गुरुवार, 19 मार्च 2009

कल जो बेटी थी गई अडवानी से रूठ

कल जो बेटी थी गई अडवानी से रूठ
वही दुबारा खुश हुई सच मानें या झूठ
सच मानें या झूठ, सियासी पहने जेवर
उमा भारती दिखलातीं नित नूतन तेवर
दिव्यदृष्टि अब सिंधी पीएम खातिर बेकल
अडवानी से रूठ गई थी बेटी जो कल।

भड़काऊ भाषा नहीं वरुण बोलिए आप

भड़काऊ भाषा नहीं वरुण बोलिए आप
मठाधीश आयोग के वर्ना देंगे शाप
वर्ना देंगे शाप , पाप उसको मानेंगे
बदले में मुट्ठी कसकर फौरन तानेंगे
दिव्यूदृष्टि दे रहे सीख पॉटिलिकल ताऊ
वरुण बोलिए आप नहीं भाषा भड़काऊ

सोमवार, 16 मार्च 2009

हुआ न जल्दी दूर अगर रैगिंग का रोना

रैगिंग का रोना अगर हुआ न जल्दी दूर
हो जाएगी कोर्ट फिर सख्ती को मजबूर
सख्ती को मजबूर, सजा वह शासन पाए
तुरत कारगर कदम राज्य जो नहीं उठाए
दिव्यदृष्टि सूना होगा कॉलिज का कोना
हुआ न जल्दी दूर अगर रैगिंग का रोना

शुक्रवार, 13 मार्च 2009

होश फिजां के उड़ गए शादी हुई हलाक

कहा चांद ने फोन पर ज्यों ही तीन तलाक
होश फिजां के उड़ गए शादी हुई हलाक
शादी हुई हलाक, सुनाएं किसको दुखड़ा
महबूबा का गांव साल के भीतर उजड़ा
दिव्यदृष्टि छह माह नहीं यारी चल पाई
मिला धूल में प्यार हाथ आई रुसवाई

गुरुवार, 12 मार्च 2009

तभी समर्थन पर लगे बीएसपी की छाप

परधानी का फैसला करिये पहले आप
तभी समर्थन पर लगे बीएसपी की छाप
बीएसपी की छाप, बोलतीं माया मैडम
वरना है बेकार मोर्चे की सब तिकड़म
दिव्यदृष्टि ऐलान यही हाथी-रानी का
करिए पहले आप फैसला परधानी का

आखिर तो लूजर-गेनर दोनों अंबानी

होता है व्यापार में रोज नफा-नुकसान
दुनिया वाले हो रहे नाहक ही हैरान
नाहक ही हैरान, अनिल सहमे यूं बोलें
मुझे छोड़ मेरे भाई को लोग टटोलें
'दिव्यदृष्टि' प्यारे दौलत तो आनी-जानी
आखिर तो लूजर-गेनर दोनों अंबानी

खूब दिखाए चौधरी हैमिल्टन में हाथ

खूब दिखाए चौधरी हैमिल्टन में हाथ
दिया दूसरे छोर से गौतम ने भी साथ
गौतम ने भी साथ, पिटे कीवी बेचारे
साठ गेंद में शतक दनादन वीरू मारे
दिव्यदृष्टि सीरीज टीम की झोली आई
मस्त अजहरुद्दीन पिएं जमकर ठण्डाई

सोमवार, 9 मार्च 2009

जो रैगिंग के नाम पर ले साथी की जान

जो रैगिंग के नाम पर ले साथी की जान
उसको सभ्य समाज में मिले नहीं स्थान
मिले नहीं स्थान, डॉक्टर बन भी जाए
तो भी वह शैतान कसाई ही कहलाए
दिव्यदृष्टि लानत भेजो ऐसी मस्ती को
ले साथी की जान नाम पर रैगिंग के जो

लेक्चर देने आ गए बेशक हिन्दुस्तान

लेक्चर देने आ गए बेशक हिन्दुस्तान
मियां मुशर्रफ को मगर मिला न पूरा मान
मिला न पूरा मान, शान-शौकत में घाटा
मुसलमान नाराज दूर से कहते टाटा
दिव्यदृष्टि मनमोहन ने भी कतरे हैं पर
बेशक हिन्दुस्तान आ गए देने लेक्चर

सानी कोई सचिन का नहीं विश्व में आज

सानी कोई सचिन का नहीं विश्व में आज
अपने करतब से बने दिग्गज बल्लेबाज
दिग्गज बल्लेबाज, फील्ड में रन बरसाए
वाह-वाह कर सभी क्रिकेट प्रेमी हरसाए
गेंदबाज सब दिव्यदृष्टि कह रहे कहानी
नहीं विश्व में आज सचिन का कोई सानी

जान बचाए टीम की जब से मियां खलील

जान बचाए टीम की जब से मियां खलील
श्रीलंकाई तभी से करें बहुत गुड फील
करें बहुत गुड फील, फरिश्ता उसको मानें
दस्तावेजी तथ्य मगर वे लोग न जाने
'दिव्यदृष्टि' जो आज बना आंखों का तारा
उसका भाई गया फौज के हाथों मारा

बुधवार, 4 मार्च 2009

साठ साल में देश को बना दिया स्लमडाग

साठ साल में देश को बना दिया स्लमडाग
भूख, गरीबी, गन्दगी जहां खेलते फाग
जहां खेलते फाग, आग को चूल्हे तरसें
मिले न पानी साफ भले ही बादल बरसें
दिव्यदृष्टि घट रही नौकरी चढ़ता पारा
कांग्रेस किसकी जय हो का देती नारा?

सोमवार, 2 मार्च 2009

लेकर नाम जिहाद का हुए सिरफिरे चुस्त

लेकर नाम जिहाद का हुए सिरफिरे चुस्त
किन्तु सुरक्षा पाक की दीखे नहीं दुरुस्त
दीखे नहीं दुरुस्त, फेल सरकारी अमला
करें जंगजू जब चाहें मनमाफिक हमला
दिव्यदृष्टि हुक्काम करें बातें बड़बोली
है यह दीगर बात खिलाड़ी खाएं गोली
सारी दुनिया तथ्य यह साफ गई है जान
कठमुल्लों के हाथ में सिमटा पाकिस्तान
सिमटा पाकिस्तान, बेअसर हैं जरदारी
गिला करें गीलानी लश्कर पढ़ता भारी
दिव्यदृष्टि इसलिए न हमदर्दी दिखलाओ
दहशतगर्दों को सख्ती से सबक सिखाओ।

रविवार, 1 मार्च 2009

राजनाथ से करें युद्ध की सब तैयारी

ज्यों ही प्रेमी चांद का गिरा सियासी भाव
आया मन में फिजां के त्यों ही भारी ताव
त्यों ही भारी ताव , देख कर घटती शोहरत
चलीं गाजियाबाद लिए लड़ने की हसरत
दिव्यदृष्टि नर , किन्नर या परित्यक्ता नारी
राजनाथ से करें युद्ध की सब तैयारी

शनिवार, 28 फ़रवरी 2009

उसे बाप ने बना दिया झुग्गी में जीरो

घर लौटा स्लमडॉग का तारा यंग जमाल
उसे पिता ने पीटकर लाल कर दिए गाल
लाल कर दिए गाल , पुत्र की हुई धुनाई
किंतु न उसका दर्द किसी को पड़ा सुनाई
दिव्यदृष्टि जो दुनिया में कहलाए हीरो
उसे बाप ने बना दिया झुग्गी में जीरो

मेजबान ने इस कदर मारी उनको मार

मेजबान ने इस कदर मारी उनको मार
गए दूसरा मैच भी धोनी साहब हार
धोनी साहब हार, फिरें बेजार रुआंसे
फेल हुई हर चाल पड़े उल्टे सब पांसे
दिव्यदृष्टि हो गई सत्य सौरव की बानी
अत: नई रणनीति उन्हें होगी अपनानी

बुधवार, 25 फ़रवरी 2009

बेशर्म साजिशों को जो सहेज रहे हैं

बेशर्म साजिशों को जो सहेज रहे हैं
अतिवादियों को दे वही दहेज रहे हैं
जितने मिले सबूत जराये से मुख्तलिफ,
नफरत से पड़ोसी की वो लबरेज रहे हैं
बाजाब्ता हथियारबंद ट्रेण्ड जंगजू,
नित पाक आर्मी के लोग भेज रहे हैं
उनका यकीन दिव्यदृष्टि किस तरह करे,
जो झूठ बोलने में बहुत तेज रहे हैं।

मंगलवार, 24 फ़रवरी 2009

मिलिनेअर के प्रति बढ़ा दुनिया में अनुराग

आठ ऑस्कर ऐंठ कर सफल हुई स्लमडॉग
मिलिनेअर के प्रति बढ़ा दुनिया में अनुराग
दुनिया में अनुराग, चला रहमानी जादू
जय हो-जय हो कहते दर्शक देते दादू
दिव्यदृष्टि एकत्र हुआ मस्ती का सामां
देखेंगे इसलिए उसे जाकर ओबामा

रविवार, 22 फ़रवरी 2009

आठ ऑस्कर झटक कर लोग रहे हैं झूम

लॉस एंजिलिस में रही मिलिनेअर की धूम
आठ ऑस्कर झटक कर लोग रहे हैं झूम
लोग रहे हैं झूम, खुशी से 'जय हो' गाएं
गीतकार गुलजार बेस्ट शायर कहलाएं
दिव्यदृष्टि रहमान रहे उम्दा म्युजीशन
दो-दो मिले अवार्ड बढ़ी जग में पोजीशन

देख छिछोरी हरकतें हुए सोम दा रुष्ट

देख छिछोरी हरकतें हुए सोम दा रुष्ट
शोर मचाऊ सांसद लगते उनके दुष्ट
लगते उनको दुष्ट कड़ी फटकार लगाई
पब्लिक का पैसा मत व्यर्थ गंवाओ भाई
दिव्यदृष्टि जो जाम करे संसद का चक्का
उसे हराए जनता मारे जमकर धक्का

फिर भी शरद पवार की चले सजाने सेज

मनमोहन से है नहीं उन्हें तनिक परहेज
फिर भी शरद पवार की चले सजाने सेज
चले सजाने सेज अगर पाएं परधानी
सपा समर्थन करे अमर की साफ बयानी
दिव्यदृष्टि जोकर को तो है नाच दिखाना
जो दे हलवा-पुड़ी उसका साथ निभाना

शनिवार, 14 फ़रवरी 2009

भारत को इस करतब से भगवान बचाए

बालक तेरह साल का बना ब्रिटन में बाप
वैलंटाइंस दिवस पर छोड़ी अद्भुत छाप
छोड़ी अद्भुत छाप, पाप कर चोरी-चोरी
पढ़ने की वय में ममी बन गई किशोरी
टीन एज में दिव्यदृष्टि बच्चा हो जाए
भारत को इस करतब से भगवान बचाए

शुक्रवार, 13 फ़रवरी 2009

हाथी को जो कर सके चीते में तब्दील

हाथी को जो कर सके चीते में तब्दील
वही मवेशी डॉक्टर करे रेल को डील
करे रेल को डील, चाल में तेजी लाए
हमें ब्लैक में आरक्षण तत्काल दिलाए
दिव्यदृष्टि सरकार कमाई करती काली
जेब यात्री की बेशक हो जाए खाली
चली पार्लामेंट में चटक चुनावी रेल
राहत की गठरी लिए आई लालू मेल
आई लालू मेल, खेल यादव का जारी
बुलट ट्रेन पटना ले जाने की तैयारी
दिव्यदृष्टि सारे गरीब रथ पर चढ़ जाएं
रहें स्वयं पिछड़े पर नेताजी बढ़ जाएं

बुधवार, 11 फ़रवरी 2009

कोलंबो में कर दिया लंका का निपटान

बने आखिरी वक्त में खतरनाक तूफान
कोलंबो में कर दिया लंका का निपटान
लंका का निपटान, पठानी पारी खेली
मार करारी सिंहलियों की टोली झेली
दिव्यदृष्टि लग गई पार धोनी की नैया
यादगार करतब दिखलाए दोनों भैया

मंगलवार, 10 फ़रवरी 2009

यह नौटंकी कुछ समझ न आई

संकट में जिसने दिया कांग्रेस का साथ
उस पर कैसे डाल दे सीबीआई हाथ
सीबीआई हाथ, माथ बेशक झुक जाए
मगर दूध का धुला मुलायम को बतलाए
दिव्यदृष्टि यह नौटंकी कुछ समझ न आई
अत: अदालत ने जमकर फटकार लगाई।

करने लगे अनिष्ट, मान-मर्यादा तजकर

लेकर बैनर-पोस्टर विस में हुए प्रविष्ट
तोड़फोड़ से सदन में करने लगे अनिष्ट
करने लगे अनिष्ट, मान-मर्यादा तजकर
राज्यपाल पर फेंकें माइक, गोले डटकर
दिव्यदृष्टि हों जहां विधायक ऐसे पाजी
लोकलाज को त्याग वहां हो ढेलेबाजी

सोमवार, 9 फ़रवरी 2009

अपने मिस्टर कूल को मिली छोकरी नर्म

खबर आ रही आजकल काफी गर्मागर्म
अपने मिस्टर कूल को मिली छोकरी नर्म
मिली छोकरी नर्म, टर्म सुन्दर सुखदायी
स्वयं 'साक्षी' ने जग को यह बात बताई
दिव्यदृष्टि इसलिए न कतई देर लगाओ
शहनाई कब बजे फटाफट हमें बताओ।

शनिवार, 7 फ़रवरी 2009

माया मैडम मगर मजे से मौज मनाएं

मुखिया से कल्याण का अमर कराए मेल
यूपी में चलने लगा जोड़तोड़ का खेल
जोड़तोड़ का खेल, सियासी हल्लागुल्ला
उधर हो रहे रुष्ट मुलायम से कठमुल्ला
सपा-भाजपा दिव्यदृष्टि नुकसान उठाएं
माया मैडम मगर मजे से मौज मनाएं

गुरुवार, 5 फ़रवरी 2009

क्रिकेट में पा रहे प्लेयर मोटे दाम

मचा हुआ है देश में मंदी का कोहराम
किन्तु क्रिकेट में पा रहे प्लेयर मोटे दाम
प्लेयर मोटे दाम, विदेशी सभी खिलाड़ी
लाखों डालर की पाएंगे उच्च दिहाड़ी
दिव्यदृष्टि इसलिए छोड़ मंदी का रोना
किसी टीम में तू भी हथिया कोई कोना

त्वचा बदल देने का नुस्खा भेजो सारे

बेच रही जो कम्पनी गोरेपन की क्रीम
सेहत मंत्री जल्द ही तोड़ें उसका ड्रीम
तोड़ें उसका ड्रीम, पूछकर प्रश्न करारे
त्वचा बदल देने का नुस्खा भेजो सारे
दिव्यदृष्टि यदि प्रूफ नहीं दे पाए पक्का
रामदास हो कुपित बैन का मारें छक्का

मंगलवार, 3 फ़रवरी 2009

धोनी का डंका बजा मिली तीसरी जीत

धोनी का डंका बजा मिली तीसरी जीत
माहेला के शेर सब दीख रहे भयभीत
दीख रहे भयभीत, मार मंडिस ने खाई
महारूफ मुरली कुलशेखर सहे पिटाई
दिव्यदृष्टि युवराज जलाए उनकी लंका
मिली तीसरी जीत बजा धोनी का डंका

चुम्बन ले मैरिड कपल बड़े शौक से खूब

चुम्बन ले मैरिड कपल बड़े शौक से खूब
इंटरवेंशन पुलिस की नहीं कहीं मतलूब
नहीं कहीं मतलूब, अदालत मारे कोड़े
हों आलिंगनबद्ध मगर मर्यादित जोड़े
दिव्यदृष्टि हों नए मियां-बीवी यदि राजी
वर्दी वाला बने वहां क्यों नाहक काजी

बिलावजह मत करें चावला की बदनामी

जिसे लगाया काम पर करके सोच-विचार
उसे हटा सकती नहीं किसी तरह सरकार
किसी तरह सरकार, सुनें गोपाला स्वामी
बिलावजह मत करें चावला की बदनामी
दिव्यदृष्टि मिल गया हंस का स्नेहिल साया
करके सोच-विचार काम पर जिसे लगाया

रविवार, 1 फ़रवरी 2009

जोड़-तोड़ कर मंत्री बन जा फौरन भाई

पूछ न चिरकुटलाल तू मंत्री की सम्पत्ति
पीएमओ इस प्रश्न पर करे घोर आपत्ति
करे घोर आपत्ति, मिनिस्टर बेशक लूटें
फिर भी उनकी बंद गांठ के पेंच न छूटें
दिव्यदृष्टि यदि करना चाहे भ्रष्ट कमाई
जोड़-तोड़ कर मंत्री बन जा फौरन भाई

शनिवार, 31 जनवरी 2009

लगा बदलने बात फिर पाजी पाकिस्तान

लगा बदलने बात फिर पाजी पाकिस्तान
जालिम कहे सबूत में नहीं दीखती जान
नहीं दीखती जान, बोलता झूठ दरिन्दा
करता फिरे प्रचार नहीं है अजमल जिंदा
दिव्यदृष्टि जो हठधर्मी से बाज न आए
उसके ऊपर हिन्द कारगर कदम उठाए

गुरुवार, 29 जनवरी 2009

रे राजू श्रीवास्तव मत बन तंजनिगार

रे राजू श्रीवास्तव मत बन तंजनिगार
वरना पाकिस्तान के गुंडे देंगे मार
गुंडे देंगे मार, जान यदि तुझको प्यारी
छोड़ उड़ानी हंसी सीख ले दुनियादारी
दिव्यदृष्टि यदि श्रोता को चाहे समझाना
बोल उसे नापाक दुष्ट जालिम नादाना

देशवासियों को मिली गजब इलेक्शन गिफ्ट

देशवासियों को मिली गजब इलेक्शन गिफ्ट
घट जाए कुछ इस तरह महंगाई की रिफ्ट
महंगाई की रिफ्ट तेल के दाम घटाए
शायद भोला मतदाता फिर से पट जाए
दिव्यदृष्टि फिर पार लगाए वोटर नैया
तोहफों की बौछार इसलिए आई भैया

बुधवार, 28 जनवरी 2009

होगा जिसके पर्स में जितना ज्यादा कैश

होगा जिसके पर्स में जितना ज्यादा कैश
वही लड़कियां करेंगी पब में जाकर ऐश
पब में जाकर ऐश , तैश मत खाओ प्यारे
ग्लोबलाइजेशन के देखो मस्त नजारे
दिव्यदृष्टि इसलिए राम की सुन ले सेना
निजी मामले से उसका क्या लेना-देना

मंगलवार, 27 जनवरी 2009

आए कोई पद्मिनी बस जाए परिवार

भज्जी पाए पद्मश्री मेहरबान सरकार
आए कोई पद्मिनी बस जाए परिवार
बस जाए परिवार , दूसरा मौका पाएं
नाचें-गाएं यार झूम कर रंग जमाएं
दिव्यदृष्टि भी पा जाए सोणी भौजाई
देता है एडवांस इसलिए उन्हें बधाई

शनिवार, 24 जनवरी 2009

मिले नहीं बाजार में कोई सस्ती चीज

मिले नहीं बाजार में कोई सस्ती चीज
चाहे रोटी-दाल हो चाहे पेंट-कमीज
चाहे पेंट कमीज फ्लैट या मोटरगाड़ी
बेचें महंगा पान और सिगरेट पनवाड़ी
दिव्यदृष्टि अंबर पर पहुंचे चांदी-सोना
फिर भी रोएं लोग रोज मंदी का रोना

शुक्रवार, 23 जनवरी 2009

पीएम का दिल दें बना जबर्दस्त मजबूत

विनती सुन लें गौर से सर्जन सभी सपूत
पीएम का दिल दें बना जबर्दस्त मजबूत
जबर्दस्त मजबूत सिंह की माफिक गरजे
रुक जाए घुसपैठ सियारों का पग लरजे
दिव्यदृष्टि की दुआ बढ़े सांसों की गिनती
सर्जन सभी सपूत गौर से सुन लें विनती

गुरुवार, 22 जनवरी 2009

बीजेपी के बाग में लगा सियासी आग

बीजेपी के बाग में लगा सियासी आग
गाते हैं कल्याण जी मधुर मुलायम राग
मधुर मुलायम राग अमर उल्लास जगाए
राजनाथ , माया की लेकिन नींद भगाए
दिव्यदृष्टि जब दो दुश्मन कर बैठें यारी
करें तीसरे पर हमला मिल बारी-बारी