शनिवार, 30 मई 2009

नहीं चाहिए उनसे कोई 'सनद' मिठाई

जारी है जिस देश में नस्लभेद की व्याधि
बिगबी उससे लें नहीं मानद एक उपाधि
मानद एक उपाधि, इसे कंगारू सुन लें
उत्तम होगा यही प्रेम पथ फौरन चुन लें
दिव्यदृष्टि तुलबा की जो कर रहे पिटाई
नहीं चाहिए उनसे कोई 'सनद' मिठाई

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव