गुरुवार, 7 मई 2009

पुलिस प्रशासन देश का अति संवेदनहीन

पुलिस प्रशासन देश का अति संवेदनहीन
नैतिकता का ग्राफ नित छूने लगा जमीन
छूने लगा जमीन, रोज पब्लिक धिक्कारे
मगर महकमा मस्त बैठकर मक्खी मारे
दिव्यदृष्टि पीड़ित महिला ने जान गंवाई
फिर भी वह इंसाफ नहीं हासिल कर पायी

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव