रविवार, 17 मई 2009

अमर प्रेम से रुष्ट हैं भाई आजम खान

रार मची रामपुर हिरोइन हलकान
अमर प्रेम से रुष्ट हैं भाई आजम खान
भाई आजम खान जया की करें खिलाफत
हुए समर्थक बागी सिर पर आई आफत
दिव्यदृष्टि बेजार बहुत है फिल्मी नारी
देगी अपनी जान अगर हारी इस बारी

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव