रविवार, 17 मई 2009

मतदाता के मन बसा मनमोहन का काम

मतदाता के मन बसा मनमोहन का काम
इसीलिए उसने दिया पुरसुकून ईनाम
पुरसुकून ईनाम मिली इस बार तरक्की
कांग्रेस की नीव हुई पहले से पक्की
दिव्यदृष्टि भारत बुलंद हो रहा टनाटन
मनमोहन का काम बसा मतदाता के मन

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव