गुरुवार, 16 जुलाई 2009

निन्दनीय करतूत बहुत ही उनकी भाई

बोलीं रीता बहुगुणा जितने कड़वे बोल
उसका नहीं समाज में कतई कोई मोल
कतई कोई मोल, भावना जो भड़काए
उसे जेल की हवा खूब कानून खिलाए
दिव्यदृष्टि जिसने उनके घर आग लगाई
निन्दनीय करतूत बहुत ही उनकी भाई

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव