शुक्रवार, 3 जुलाई 2009

कहते अपने आपको राहुल नेक किसान

कहते अपने आपको राहुल नेक किसान
किन्तु लग्जरी मॉल में बैठे खोल दुकान
बैठे खोल दुकान, सियासी सौदा तोलें
शपथपत्र दे झूठ रोज पब्लिक से बोलें
दिव्यदृष्टि जनसेवक की है यही निशानी
'माल' बनाएं मॉल बताएं मगर किसानी

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव