मंगलवार, 21 जुलाई 2009

कौन करे प्रतिरोध किसी में शेष न बूता

पूर्व राष्ट्रपति का किए भारत में अपमान
बहुत हुए उद्दंड वे सब अमरीकी स्वान
सब अमरीकी स्वान, सूंघते बटुआ जूता
कौन करे प्रतिरोध किसी में शेष न बूता
दिव्यदृष्टि उनकी बदनीयत को पहचानो
वर्ना देश गुलाम बने यह निश्चित जानो

1 टिप्पणी:

रंजीत ने कहा…

bahut afsosnak vyabhhar hai...

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव