गुरुवार, 9 जुलाई 2009

पत्र-पत्रिका भेज बोरियत दूर कीजिए

कातिल है तो क्या हुआ आखिर है महमान
अजमल आमिर का करें अत: आप सम्मान
अत: आप सम्मान 'अतिथि देवो भव' गाएं
जल्द करें उपलब्ध अल्पसंख्यक सुविधाएं
दिव्यदृष्टि सेवा उसकी भरपूर कीजिए
पत्र-पत्रिका भेज बोरियत दूर कीजिए

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव