बुधवार, 22 जुलाई 2009

फौरन ही उस पर गिरे पाबंदी की गाज

पकड़ा जाये पायलट जो भी दारूबाज
फौरन ही उस पर गिरे पाबंदी की गाज
पाबंदी की गाज, नौकरी खोयें शातिर
आसमान में रहें सदा महफूज मुसाफिर
नहीं प्लेन में दिव्यदृष्टि कतई चढ़ पाये
जो भी दारूबाज पायलट पकड़ा जाये

2 टिप्‍पणियां:

Nirmla Kapila ने कहा…

वाह वाह आज तो आसमान छूने वलों पर आपकी गाज़ गिरी है्रोचक आभार्

अनिल कान्त : ने कहा…

सही बात कही ...

मेरी कलम - मेरी अभिव्यक्ति

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव