सोमवार, 6 अप्रैल 2009

उसके ऊपर मित्र रासुका कौन लगाए?

सेकुलर नेता भी करे यदि भड़काऊ बात
साफ समझना चाहिए उसके मन में घात
उसके मन में घात, कोड को धता बताए
जमकर तुष्टीकरण करे फिर वोट पटाए
दिव्यदृष्टि सुन कर चारा चोरों की बोली
धारण कर ले मौन कमीशन वाली टोली
बेच रहा है ब्लैक में रेल टिकट तत्काल
फिर भी है बेचैन वह करता फिरे मलाल
करता फिरे मलाल, खूब रोलर चलवाता
गृह मंत्री की कुर्सी यदि जालिम पा जाता
दिव्यदृष्टि जो स्वयं किंगमेकर कहलाए
उसके ऊपर मित्र रासुका कौन लगाए?

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव