बुधवार, 15 अप्रैल 2009

मुस्लिम मां की याद राजनीतिक मजबूरी

मुन्ना की मासूमियत लगी काबिले दाद
रैली में आई उन्हें मुस्लिम मां की याद
मुस्लिम मां की याद राजनीतिक मजबूरी
अत: वोटरों को यह कहना बहुत जरूरी
दिव्यदृष्टि सुन लें शाहिद, इमरान, घसीटा
ले नर्गिस का नाम पुलिस ने मुझको पीटा

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव