शनिवार, 4 अप्रैल 2009

माफी मांगें जल्द बहुत वरना पछताएं

बेटे को यदि मेनका देतीं नेक शऊर
तो कतई होता नहीं बड़बोला मगरूर
बड़बोला मगरूर , बोलता भाषा राइट
नहीं खिलातीं उसे जेल की माया डाइट
दिव्यदृष्टि इसलिए नहीं आंसू टपकाएं
माफी मांगें जल्द बहुत वरना पछताएं

2 टिप्‍पणियां:

संगीता पुरी ने कहा…

बहुत बढिया ...

Gagagn Sharma, Kuchh Alag sa ने कहा…

वो क्या देतीं शऊर, जो खुद रहीं हैं मगरूर।

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव