बुधवार, 29 अप्रैल 2009

डीटीएच के संग जोड़ लें फौरन नाता

प्रोड्यूसर हड़ताल से बंद सिनेमा हॉल
वीरानी पसरी हुई सीन हुआ विकराल
सीन हुआ विकराल दुखी दर्शक बेचारे
नई फिल्म के नहीं हो रहे कहीं नजारे
दिव्यदृष्टि मशवरा मुफ्त प्यारे बतलाता
डीटीएच के संग जोड़ लें फौरन नाता

1 टिप्पणी:

Nirmla Kapila ने कहा…

िसे केहते हैण दिव्य और दूर दृ्श्टी

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव