मंगलवार, 7 अप्रैल 2009

कलमकार हो क्रुद्ध कर रहे जूतेबाजी

पत्रकार पढ़ने लगे जबसे बूट पुराण
धैर्य टूटने के मिले तबसे ठोस प्रमाण
तबसे ठोस प्रमाण बढ़ी इतनी नाराजी
कलमकार हो क्रुद्ध कर रहे जूतेबाजी
दिव्यदृष्टि की राय सभी नेतागण मानें
जनमानस का दर्द दूर करने की ठानें

1 टिप्पणी:

Ajay ने कहा…

bahut badhia...........ajay setia

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव