मंगलवार, 28 अप्रैल 2009

पाकिस्तानी ढोर, तिकड़मी शोर मचाए

फंदे में ज्यों ही फंसा वहशी आदमखोर
त्यों ही मिमियाने लगा पाकिस्तानी ढोर
पाकिस्तानी ढोर, तिकड़मी शोर मचाए
मगर भेडि़ये को भारत में कौन बचाए
दिव्यदृष्टि अब न्यायालय ने राय जताई
नहीं जरा भी नाबालिग जल्लाद कसाई

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव