रविवार, 19 अप्रैल 2009

रजवाड़ों की रेल हुई साबित पैसेंजर

डटकर राहुल द्रविड़ ने खूब दिखाया खेल
विजय माल्या झूमकर चढ़े आर सी मेल
चढ़े आर सी मेल, चली रॉयल चैलेंजर
रजवाड़ों की रेल हुई साबित पैसेंजर
दिव्यदृष्टि आधी मंजिल भी पहुंच न पाई
शेन सिसकते फिरे हुई जमकर रुसवाई

1 टिप्पणी:

RAJNISH PARIHAR ने कहा…

बिलकुल सही लिखा आपने...शाही रेल तो फिसड्डी निकली...

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव