सोमवार, 27 अप्रैल 2009

जान कैंसर रोग मांगता है कुर्बानी

चाहे हों धर्मात्मा या फिर ऊंचे लोग
नहीं लिए बिन छोड़ता जान कैंसर रोग
जान कैंसर रोग मांगता है कुर्बानी
दिव्यदृष्टि इसलिए छोड़कर दुनिया फानी
सज़दे में फिरोज खान ने मांगी मन्नत
अता करें अल्लाह उन्हें कदमों में जन्नत

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव