गुरुवार, 29 अक्तूबर 2009

असंतुष्ट हैं फिर भी 'उनके' साथ रहेंगे

सीएम बनने के लिए मिला उन्हें प्रस्ताव
दिए नहीं कतई मगर विरोधियों को भाव
विरोधियों को भाव, ताव मन में है भारी
लेकिन करें अजीत नहीं हरगिज 'गद्दारी'
दिव्यदृष्टि चाचा से दिल की बात कहेंगे
असंतुष्ट हैं फिर भी 'उनके' साथ रहेंगे

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव