सोमवार, 12 अक्तूबर 2009

झटपट एक करोड़ 'रंगदारी' भिजवाओ

'ज़िंदा' लोगों में अगर होना तुम्हें शुमार
मानो उनकी मांग को तुम नीतीश कुमार
तुम नीतीश कुमार, न कतई देर लगाओ
झटपट एक करोड़ 'रंगदारी' भिजवाओ
दिव्यदृष्टि धमकी देता फिर रहा 'दरिंदा'
होना तुम्हें शुमार अगर लोगों में 'जिंदा'

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव