मंगलवार, 6 अक्तूबर 2009

जनप्रतिनिधि गिरेबान में अपने झांकें

भिन्न-भिन्न व्यापार में विशेषज्ञ जो लोग
वही कर रहे ज्ञान का जनहित में उपयोग
जनहित में उपयोग, रात-दिन सेवा करते
तब उसके बदले में श्रम का 'मेवा' चरते
दिव्यदृष्टि जो लोग 'कमाई' उनकी आंकें
वे 'जनप्रतिनिधि' गिरेबान में अपने झांकें

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव