सोमवार, 19 अक्तूबर 2009

कोई पूछे तो खुद को सेकुलर बतलाओ

अमरीका जाना अगर तुमको शाहनवाज
फौरन जुदा हुसैन से हो जाओ तुम आज
हो जाओ तुम आज नहीं निष्ठा जतलाओ
कोई पूछे तो खुद को सेकुलर बतलाओ
दिव्यदृष्टि जब तक सत्ता में जीजी-जीजा
'हाथ' दिखायेगा प्यारे अमरीकी 'वीजा'

1 टिप्पणी:

Dr. Smt. ajit gupta ने कहा…

अच्‍छा व्‍यंग्‍य है। अब तो सब कुछ हाथ की ही करामात पर निर्भर करता है।

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव