मंगलवार, 13 अक्तूबर 2009

'सरेआम' क्यों भिजवाई ठर्रे की बोतल

बेशक भेजे माल्या 'प्रेम' सहित उपहार
किन्तु भाजपा सांसद करें नहीं स्वीकार
करें नहीं स्वीकार संस्कृति भिन्न बताते
इसीलिए लेटर लिख कर वे रोष जताते
दिव्यदृष्टि है निंदनीय यह हरकत टोटल
'सरेआम' क्यों भिजवाई ठर्रे की बोतल

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव