सोमवार, 9 मार्च 2009

जो रैगिंग के नाम पर ले साथी की जान

जो रैगिंग के नाम पर ले साथी की जान
उसको सभ्य समाज में मिले नहीं स्थान
मिले नहीं स्थान, डॉक्टर बन भी जाए
तो भी वह शैतान कसाई ही कहलाए
दिव्यदृष्टि लानत भेजो ऐसी मस्ती को
ले साथी की जान नाम पर रैगिंग के जो

1 टिप्पणी:

समयचक्र - महेन्द्र मिश्र ने कहा…

रंगों के पर्व होली के अवसर पर आपको और आपके परिवारजनों को हार्दिक शुभकामनाये

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव