बुधवार, 2 सितंबर 2009

बापू को बेटा बम की ताकत दिखलाए

परदेसी इमदाद से रोज चलाये काम
फिर भी भूखे पेट ले इंतकाम का नाम
इंतकाम का नाम, सचाई को झुठलाए
बापू को बेटा बम की ताकत दिखलाए
दिव्यदृष्टि जो खुद ही मरने को आमादा
उस मूरख को कौन भला समझाए दादा

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव