गुरुवार, 10 सितंबर 2009

मार-मार मुक्का करे बैरी को बेहाल

युवा विजेंदर जूझता लेकर ऊंचा भाल
मार-मार मुक्का करे बैरी को बेहाल
बैरी को बेहाल निकाले खूब कचूमर
करें प्रशंसा लोग खुशी से झूमें झूमर
दिव्यदृष्टि मन्नू करते यदि मुक्केबाजी
नहीं उठाता आंख पड़ोसी कोई पाजी

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव