शनिवार, 5 सितंबर 2009

भगवान से भी ऊंचा दर्जा यहां तुम्हारा

भगवान से भी ऊंचा दर्जा यहां तुम्हारा
आदर सदा करें हम कर्तव्य है हमारा
तुमने पकड़ के ऊंगली पढ़ना हमें सिखाया
सम्मान के शिखर पर चढ़ना हमें सिखाया
अज्ञान के जलधि से तुमने हमें उबारा
भगवान से भी ऊंचा दर्जा यहां तुम्हारा
हम हैं अबोध बालक तुम ज्ञान-बुद्धिदाता
कायम रहे धरा पर गुरु-शिष्य का ये नाता
शिक्षक दिवस समर्पित श्रद्धासुमन हमारा
भगवान से भी ऊंचा दर्जा यहां तुम्हारा

1 टिप्पणी:

Sunita Sharma ने कहा…

apney shikjhko ko bhagwan se bhi ucha darja diya jo sahi hai esa hi mana jata hai par kya yah baat ajkal ke shikjahko par lago hoti hai.

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव