शुक्रवार, 4 सितंबर 2009

सत्ता के यमदूत, किए धारण मक्कारी

रेड्डी को हासिल हुआ नहीं अभी ताबूत
फिर भी दीखें युद्धरत सत्ता के यमदूत
सत्ता के यमदूत, किए धारण मक्कारी
खीं च-तान में लिप्त करें हरकत हत्यारी
दिव्यदृष्टि नैतिकता के नक्कारे गाफिल
हुआ नहीं ताबूत अभी रेड्डी को हासिल

1 टिप्पणी:

alka sarwat ने कहा…

जहां लाश पर से भी कफन नोच लिया जाता हो वहाँ आप और कौन सी उम्मीद लगायेंगे?

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव