गुरुवार, 17 सितंबर 2009

मन्नू ने बनवा दिया मंत्री उन्हें जरूर

मन्नू ने बनवा दिया मंत्री उन्हें जरूर
मगर तजुर्बे की कमी है उनमें भरपूर
है उनमें भरपूर, सियासी दांव न जानें
सीधे शशि थरूर गैर को अपना मानें
दिव्यदृष्टि वह बोलें, सदा परायी भाषा
इसीलिए होती है हमको मित्र निराशा

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव