मंगलवार, 15 सितंबर 2009

बल्ला देता सचिन का फौरन उन्हें जवाब

बल्ला देता सचिन का फौरन उन्हें जवाब
उनकी बढ़ती उम्र को जो कह रहे खराब
जो कह रहे खराब, करें नित नुक्ताचीनी
उन्हें नहीं मालूम 'हकीकत ज़रा ज़मीनी' '
दिव्यदृष्टि' बेवजह मचाएं जो भी हल्ला
फौरन उन्हें जवाब सचिन का देता बल्ला
हहराए फिर हरभजन विकेट ले गए पांच
'टीम सिंहली' टूटकर बिखरी जैसे कांच
बिखरी जैसे कांच, आंच राहुल की भारी
धोनी औ' युवराज बन गए काल कटारी
दिव्यदृष्टि लंका में विजयी ध्वज फहराए
विकेट ले गए पांच हरभजन फिर हहराए

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव