मंगलवार, 8 सितंबर 2009

मंत्रीजी को चाहिए बंगला खुशबूदार

सरकारी घर में बहुत बदबू आये यार
मंत्रीजी को चाहिए बंगला खुशबूदार
बंगला खुशबूदार भले होटल में पाएं
कौन करे भुगतान सही वे नहीं बताएं
दिव्यदृष्टि नाहक नुक्ताचीनी करता है
प्यारे मोटा माल मिनिस्टर ही चरता है

1 टिप्पणी:

Nirmla Kapila ने कहा…

लाजवाब सच कहा है आभार्

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव