रविवार, 20 दिसंबर 2009

हे सुंदरियो झाड़ दो विज्ञापन की गर्द

हे सुंदरियो झाड़ दो विज्ञापन की गर्द
मानव दाढ़ी, मूंछ से कहलाता है मर्द
कहलाता है मर्द यही मशहूर कहावत
देता उन्हें समाज मानमय मीठी दावत
उन्हें भूलसे दिव्यदृष्टि बोलो मत लेजी
बेशक अपने हेतु चुनो मुछमुंडा क्रेजी

1 टिप्पणी:

अजय कुमार झा ने कहा…

वाह वाह जी वाह वाह क्या खूब कहा आपने

यह मैं हूं

यह मैं हूं