शुक्रवार, 13 नवंबर 2009

ऐशपरस्ती में मगर कहीं न कोई झोल

येदियुरप्पा की भले कुरसी डांवाडोल
ऐशपरस्ती में मगर कहीं न कोई झोल
कहीं न कोई झोल, विरोधी मारें ताना
किंतु मरम्मत पर रोजाना लुटे खजाना
दिव्यदृष्टि सादगी फिरे नित मारी-मारी
ऐसे सादे सीएम पर पब्लिक बलिहारी

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव