रविवार, 8 नवंबर 2009

ताज भले जाए मगर मत बनिए मोहताज

ताज भले जाए मगर मत बनिए मोहताज
वरना आए दिन बढ़े नित्य कोढ़ में खाज
नित्य कोढ़ में खाज, नाज-नखरे झेलोगे
विरोधियों के हाथ विवश होकर खेलोगे
दिव्यदृष्टि होगी छवि धूमिल चप्पा-चप्पा
कद-काठी नित घटे समझिए येदियुरप्पा

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव