बुधवार, 17 जून 2009

ओबामा जी जगत के जाहिर मक्खीमार

दिखा रहा है मीडिया पढ़ा रहा अखबार
ओबामा जी जगत के जाहिर मक्खीमार
जाहिर मक्खीमार, उन्हें जो दुष्ट सताए
मक्खी की मानिंद जिंदगी वही गंवाए
दिव्यदृष्टि अब जो भी हठधर्मी धारेंगे
दारोगा जी उन्हें समझ मक्खी मारेंगे

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव