सोमवार, 8 फ़रवरी 2010

'मातोश्री' में था लगा बाला का दरबार
मिमियाते पहुंचे वहां मिस्टर शरद पवार
मिस्टर शरद पवार, गिरे पांवों में जाकर
बोले दयानिधान विनय करता है चाकर
दिव्यदृष्टि कंगारूगण पर क्रोध न कीजे
प्रभुवर 'बीसम-बीस' नाथ हो लेने दीजे

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव