सोमवार, 8 फ़रवरी 2010

चौथेपन में लग गया दुराचरण का दाग

चौथेपन में लग गया दुराचरण का दाग
एनडी बाबा से छिना राजभवन का भाग
राजभवन का भाग, भरे नयनों में पानी
क्षुब्ध तिवारी लिखने बैठे आत्म कहानी
दिव्यदृष्टि अब विचरें वे निर्जन कानन में
दुराचरण का दाग लग गया चौथेपन में

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव