मंगलवार, 2 मार्च 2010

बोलीं आशा भोंसले सुनो लाडले राज

बोलीं आशा भोंसले सुनो लाडले राज
गैर-मराठों से न हो तुम हरगिज नाराज
तुम हरगिज नाराज उन्हें है मदद जरूरी
महाराष्ट्र आकर करते जो नित्य मजूरी
दिव्यदृष्टि हमदर्दी का सामान जुटाओ
करके नवनिर्माण निरंतर प्रेम लुटाओ

2 टिप्‍पणियां:

अनूप शुक्ल ने कहा…

वाह! लेकिन आप अभी तक वर्ड वेरीफ़िकेशन लगाये हैं!

विजयप्रकाश ने कहा…

पहले सचिन अब आशा जी,
विचार किजिये राज जी

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव